अपना शहर चुनें

States

गोवाः 51वें अंतराष्ट्रीय फिल्मोत्सव में सुनाई दी बंगाल चुनाव की गूंज

उद्धाटन समारोह में बांग्लादेश के हाई कमिश्नर की मौजूदगी दिखा रही थी कि बंगाल और बांग्लादेश के बीच सीमाएं धीरे-धीरे दोस्ती में बदल रही हैं.
उद्धाटन समारोह में बांग्लादेश के हाई कमिश्नर की मौजूदगी दिखा रही थी कि बंगाल और बांग्लादेश के बीच सीमाएं धीरे-धीरे दोस्ती में बदल रही हैं.

51वें भारतीय अंतर्राष्टीय फिल्म फेस्टिवल (International Film Festival of India) की शुरुआत के मौके पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने बीजेपी नेता विश्वजीत चटर्जी (Biswajit Chatterjee) को इंडियन पर्सनालिटी ऑफ ईयर (Indian Personality of the Year) पुरस्कार देने का ऐलान किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 16, 2021, 10:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) से उबरने के बाद अरसे से लंबित पड़े 51वें भारतीय अंतर्राष्टीय फिल्म फेस्टिवल (International Film Festival of India) की शुरुआत पंजिम, गोवा में हुई. कार्यक्रम में मौजूद सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने ऐलान किया कि सरकार इस फेस्टिवल से एक नया अवॉर्ड 'इंडियन पर्सनालिटी ऑफ द ईयर' (Indian Personality of the Year) शुरू कर रही है. ये अब हर साल फिल्म फेस्टिवल में चुनी गई एक हस्ती को दिया जाएगा. जावड़ेकर ने पहले इंडियन पर्सनालिटी ऑफ ईयर पुरस्कार के विजेता के तौर पर विश्वजीत चटर्जी के नाम का ऐलान किया.

विश्वजीत चटर्जी बांग्ला सिनेमा के सुपरस्टार रहे हैं. चटर्जी ने हिंदी में भी कई हिट फिल्में दी हैं. बीस साल बाद, मेरे सनम जैसी फिल्मों से बॉलीवुड में भी विश्वजीत बहुत चमके थे. बंगाली फिल्मों में वो हीरो, निर्देशक और गायक भी रहे. लिहाजा बंगाली भद्रलोक में उनकी खासी फैन फॉलोइंग है. विश्वजीत चटर्जी लोकसभा चुनावों से पहले बीजेपी में शामिल भी हुए थे. ऐसे में बीजेपी की कोशिश विधानसभा चुनावों के चन्द महीने पहले बंगाल के वोटरों को एक संदेश जरूर देने की रही.

बीजेपी ने दूसरा संदेश देने का काम पड़ोसी देश बांग्लादेश को 51वें फ़िल्म फेस्टिवल में पार्टनर बनाकर दिया है. उद्धाटन समारोह में बांग्लादेश के हाई कमिश्नर की मौजूदगी दिखा रही थी कि बंगाल और बांग्लादेश के बीच सीमाएं धीरे-धीरे दोस्ती में बदल रही हैं. पड़ोसी देश, भारत के साथ मिलकर बांग्लादेश के मसीहा शेख मुजीब पर एक फ़िल्म भी बना रहा है, जिसका ऐलान खुद प्रधानमंत्री मोदी ने किया था.




फेस्टिवल में आए लोगों को संबोधित करते हुए प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि भारत में कम से कम 500 ऐसी लोकेशन हैं, जहां फिल्मों की शूटिंग हो सकती है. लिहाजा केंद्र सरकार ने देश के भीतर फिल्मों की शूटिंग को आसान बनाने की पहल शुरू की है. जावड़ेकर का दावा है कि अगर फिल्मकार स्विटजरलैंड भी जाते हैं, तो उन्हें सिर्फ 7 से 8 लोकेशन मिलेंगे, जहां शूटिंग हो सकती है. ऐसे में सरकार ने फिल्मकारों को सहूलियत देने के लिए फिल्मी बाजार नाम से कार्यक्रम शुरू किया है.

एक अनुमान के मुताबिक देश में 16 करोड़ से ज्यादा टीवी सेट और 100 करोड़ से ज्यादा दर्शक हैं, इसलिए जावड़ेकर ने कहा कि फिल्मी दुनिया हमेशा आकर्षण का केंद्र रहेगी. अपना भाषण समाप्त करते हुए जावड़ेकर ने कहा, "हर साल केंद्र और गोवा सरकार फिल्म फेस्टिवल का आयोजन करती हैं, लिहाजा इस समारोह में प्राइवेट पार्टिसिपेशन का न्योता दे रहा हूं."

केंद्रीय मंत्री ने उम्मीद जताई कि अगले यानी 52वें फिल्म फेस्टिवल में एक बड़ी निजी भागीदारी जरूर रहेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज