Assembly Banner 2021

BJP ने बंगाल में कांग्रेस नेता को दिया टिकट, TMC नेता ने भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ने से किया इनकार

 शिखा मित्रा की फाइल फोटो

शिखा मित्रा की फाइल फोटो

West Bengal Assembly Election 2021: कांग्रेस नेता शिखा मित्रा ने दावा किया कि बिना उनकी अनुमति के बीजेपी ने टिकट दे दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 19, 2021, 11:02 AM IST
  • Share this:
कोलकाता. आगामी बंगाल चुनाव के लिए (west bengal assembly election 2021) कांग्रेस (Congress) के पूर्व नेता दिवंगत सोमन मित्रा की पत्नी शिखा मित्रा (Sikha Mitra) ने भाजपा द्वारा गुरुवार को शहर की चौरिंगी सीट से उनकी उम्मीदवारी की घोषणा किये जाने के तुरंत बाद कहा कि उनकी स्वीकृति के बिना उनके नाम का ऐलान किया गया है और वह राजनीति में नहीं आएंगी. मित्रा ने खुद के भाजपा में शामिल होने के कयासों पर विराम पर भी विराम लगा दिया. भाजपा नेता तथा पारिवारिक मित्र शुभेंदु अधिकारी से उनकी मुलाकात के बाद ऐसी अटकलें तेज हो गई थीं.

मित्रा ने पत्रकारों से कहा, 'मैं कहीं से चुनाव नहीं लड़ रही. मेरी अनुमति के बिना मेरे नाम की घोषणा की गई. मैं भाजपा में भी शामिल नहीं होउंगी. ' भाजपा को उस समय फजीहत का सामना करना पड़ा जब शिखा मित्रा ने भाजपा की उम्मीदवारी स्वीकार करने से इनकार कर दिया. शिखा मित्रा ने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि भाजपा की सूची में मेरा नाम कैसे आ गया. मैं कांग्रेस के साथ हूं और रहूंगी.’  इसके साथ ही तृणमूल कांग्रेस विधायक माला साहा के पति तरुण साहा को भी उम्मीदवार बनाया. तरुण साहा  ने भी चुनाव लड़ने BJP के टिकट से इनकार कर दिया है.

157 उम्मीदवारों की एक और सूची जारी
बता दें भाजपा ने गुरुवार को पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए 157 उम्मीदवारों की एक और सूची जारी की. पार्टी ने जहां दूसरे दलों से आए 22 नेताओं को टिकट देने में तरजीह दी है, वहीं इसने अपने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकल रॉय, सांसद जगन्नाथ सरकार, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राहुल सिन्हा और लोक गायक असीम सरकार को भी चुनावी रण में उतारा है. उम्मीदवारों की सूची में महिलाओं सहित 17 मुस्लिम चेहरे भी शामिल हैं.
पार्टी ने जब से उम्मीदवारों के नामों की घोषणा शुरू की है तभी से पार्टी के कई क्षेत्रों के कार्यकर्ता दूसरे दलों से आए नेताओं को टिकट बंटवारे में महत्व मिलने से नाराज हैं और अनेक स्थानों पर प्रदर्शन भी कर रहे हैं. पार्टी के कई नेताओं ने इसके विरोध में इस्तीफा तक दे दिया है. मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांग्सु, राज्य की महिला मोर्चा की अध्यक्ष अग्निमित्र पॉल, फिल्मी हस्तियों रुद्रनील घोष, सराबंती चट्टोपाध्याय और पार्नो मित्रा को भी पार्टी ने टिकट दिया है.



शुभ्रांग्सु ने पिछले विधान सभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर जीत दर्ज की थी. मुकुल रॉय लगभग दो दशक के बाद चुनावी मैदान में उतरे हैं. वह नदिया जिले के कृष्णानगर उत्तर विधानसभा क्षेत्र से ताल ठोकेंगे. यहां मतुआ समाज के मतदाताओं की अच्छी खासी तादाद है. इससे पहले वह 2001 में तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में चुनाव हार चुके हैं. तृणमूल कांग्रेस के पूर्व नेता रॉय रेल मंत्री भी रह चुके हैं.

पश्चिम बंगाल में 123 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान पहले ही
भाजपा इससे पहले पश्चिम बंगाल में 123 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर चुकी है. पार्टी ने एक सीट अपने सहयोगी दल एजेएसयू को दी है. केंद्रीय मंत्री देबाश्री चौधरी और भाजपा महासचिव अरुण सिंह ने पार्टी मुख्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया. इससे पहले बुधवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में हुई भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में उम्मीदवारों के नामों को अंतिम रूप दिया गया था.

पार्टी ने चुनावों में कलाकारों, खेल व सिनेमा जगत की हस्तियों और विभिन्न पेशेवरों को मैदान में उतारा है. रानाघाट से भाजपा के सांसद जगन्नाथ सरकार को पार्टी ने शांतिपुर विधानसभा सीट से प्रत्याशी बनाया है कि जबकि राहुल सिन्हा को हाबरा सीट से मैदान में उतारा है. यहां सिन्हा का मुकाबला राज्य के खाद्य आपूर्ति मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक से है. इससे पहले भाजपा केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो सहित अपने पांच सांसदों को विधानसभा चुनाव में उतार चुकी है.

लोक कलाकार असीम सरकार को नदिया जिले के हरिंगाता से पार्टी का उम्मीदवार बनाया गया है. वैज्ञानिक गोवर्धन दास को पूर्बास्थली उत्तर से टिकट गया है. तृणमूल कांग्रेस से भाजपा में आए विधायकों अरिंदम भट्टाचार्य और जितेन्द्र तिवारी को भी टिकट दिया है. भट्टाचार्य जगतादल से चुनाव लड़ेंगे, वहीं तिवारी पांडावेश्वर से खम ठोकेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज