Assembly Banner 2021

झाड़ग्राम में भगवा तिलक के साथ सुवेंदु का प्रचार, ‘हरे कृष्णा हरे हरे, बीजेपी घरे घरे’ का नारा लगाया

पश्चिम बंगाल चुनाव: नंदीग्राम विधानसभा सीट पर ममता बनर्जी के सामने होंगे शुभेंदु अधिकारी. फाइल फोटो

पश्चिम बंगाल चुनाव: नंदीग्राम विधानसभा सीट पर ममता बनर्जी के सामने होंगे शुभेंदु अधिकारी. फाइल फोटो

Nandigram Assembly Seat: ममता बनर्जी के चुनाव लड़ने के फैसले के बाद करीब दो लाख मतदाताओं वाली नंदीग्राम सीट अब वो सीट बन गई है, जिस पर पूरे देश की निगाहें होंगी.

  • Share this:
झाड़ग्राम. बीजेपी के वरिष्ठ नेता शुभेंदु अधिकारी ने मंगलवार को झाड़ग्राम जिले में एक पदयात्रा का नेतृत्व करते हुए बंगाल में तृणमूल कांग्रेस को सत्ता से बेदखल करने का लोगों से आह्वान किया. अधिकारी ने ललाट पर भगवा रंग का ‘तिलक’ लगा रखा था और उन्होंने ‘हरे कृष्णा हरे हरे, बीजेपी घरे घरे’ का नारा लगाया. इस दौरान मौजूद उनके कुछ समर्थकों ने ‘टीएमसी सरकार आर नेई दरकार (तृणमूल कांग्रेस सरकार की अब और जरूरत नहीं’ जैसे नारे भी लगाए.

अधिकारी के समर्थकों के हाथ में कमल के बड़े कटआउट और भगवा रंग के गुब्बारे भी थे. अधिकारी पिछले साल दिसंबर में तृणमूल कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए थे. विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम में उनका मुकाबला तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से है. राज्य के पूर्व कैबिनेट मंत्री ने कहा कि वह पश्चिम मेदिनीपुर और जंगलमहल में बीजेपी के उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार करेंगे.

संयोग से अधिकारी जब झाड़ग्राम में बीजेपी उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार कर रहे थे, उसी दौरान ममता बनर्जी ने मंगलवार को दिन में नंदीग्राम (Nandigram Assembly Seat) में एक जनसभा की. ममता बनर्जी ने नंदीग्राम स्थित चंडी मंदिर में पूजा अर्चना की. ममता मंगलवार को पार्टी का घोषणापत्र जारी होने के बाद नंदीग्राम पहुंची. यहां उन्होंने टीएमसी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया.



दीदी का चंडी पाठ
दीदी ने अपने संबोधन की शुरुआत चंडी पाठ के एक अंश से की. नंदीग्राम में अपने संघर्ष को याद कर ममता बनर्जी ने कहा- 'मैं फिर से आपके पास आई हूं. इसबार भी आपका साथ चाहिए. बंटवारा करने वालों की बात मत सुनना.' उन्होंने कहा, 'मैं सबकुछ भूल सकती हूं, मगर नंदीग्राम को नहीं भुला सकती. दूसरी पार्टी बहुत कुछ बोलेगी, आप उनकी गलत बातों पर भरोसा मत करना. ये बंटवारा करने वाली पार्टी है.'

ममता ने आगे कहा- 'मैं गांव की बेटी हूं. नंदीग्राम में संग्राम को नहीं भूल सकती. मुझे वहां आने से रोका गया था. मेरी गाड़ी पर गोलियां चलवाई गई थीं. मैं ही नंदीग्राम और सिंगूर को साथ लेकर आई. ये सीट खाली हुई है, इसलिए यहां से लड़ रही हूं. आप नहीं चाहेंगे, तो नंदीग्राम से नहीं लडूंगी.'

ममता का मुकाबला अधिकारी से
बता दें कि नंदीग्राम में ममता बनर्जी का सीधा मुकाबला बीजेपी के सुवेंदु अधिकारी से है, जिन्होंने मुख्यमंत्री को 50 हजार वोटों से हराने का दावा किया है. बताया जा रहा है कि ममता बनर्जी अगले तीन दिन नंदीग्राम में ही रहेंगी. इस दौरान वह आम जनता से संपर्क करेंगी और उन्हें टीएमसी सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यों की जानकारी देंगी. इस दौरान दीदी लोगों को तृणमूल कांग्रेस के पक्ष में मोड़ने की कोशिश भी करेंगी.

ममता बनर्जी के राजनीतिक जीवन को नंदीग्राम से ही ऊंचाई मिली थी. नंदीग्राम ममता बनर्जी के लिए बेहद अहम जगह है. उनके यहां से चुनाव लड़ने के फैसले के बाद करीब दो लाख मतदाताओं वाली नंदीग्राम सीट अब वो सीट बन गई है, जिस पर पूरे देश की निगाहें होंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज