Assembly Banner 2021

West Bengal Assembly Election 2021: TMC को लगेगा और बड़ा झटका, एक और संस्थापक छोड़ेगा पार्टी!

न्यूज़18 कार्टून

न्यूज़18 कार्टून

पश्चिम बंगाल विधानसभा (West Bengal Assembly Election 2021) चुनाव: शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) ने ऐलान किया है कि उनके पिता शशिर अधिकारी (Sisir Adhikari) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की रैली में मौजूद रहेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 9:11 PM IST
  • Share this:
कोलकाता.  पश्चिम बंगाल विधानसभा (West Bengal Assembly Election 2021) चुनाव में चर्चित विधानसभा क्षेत्र नंदीग्राम (Nandigram) से भाजपा उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) ने ऐलान किया है कि उनके पिता शिशिर अधिकारी (Sisir Adhikari) 24 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  (Narendra Modi) की रैली में मौजूद रहेंगे. 24 मार्च को पीएम मोदी पूर्वी मिदनापुर स्थित कांठी में रैली करेंगे. पूर्वी मिदनापुर (East Midnapore) अधिकारी परिवार का गृह जनपद है. अधिकारी ने कहा, 'इससे पहले 21 मार्च को मैं अपने पिता को अमित शाह की रैली में भेजूंगा.'

इससे पहले तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद शिशिर अधिकारी ने रविवार को कहा कि यदि उन्हें आमंत्रित किया जाता है, तो वह कांठी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा में शामिल होंगे. शिशिर अधिकारी ने कहा था, 'अगर मुझे न्योता दिया गया और मेरे बेटों ने इसकी अनुमति दी, तो मैं (मोदी की) जनसभा में शामिल होऊंगा.' नेता के दो बेटे शुभेंदु और सौमेंदु अधिकारी भाजपा में शामिल हो गए हैं. उनके एक और बेटे दिब्येंदु टीएमसी से सांसद हैं.

Youtube Video




भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी शनिवार को शिशिर अधिकारी के आवास पर गई थीं और उन्होंने साथ में दोपहर का भोजन किया था. हालांकि, दोनों ने इसे 'शिष्टाचार भेंट' बताया था. शिशिर शुरू से ही तृणमूल कांग्रेस से जुड़े रहे लेकिन जब से उनके बेटे ने पक्ष बदला, तब से वह मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के समर्थन के बारे में कोई स्पष्ट नहीं हैं. वहीं बुधवार को शिशिर ने कहा कि वह नहीं जानते कि वह तृणमूल में हैं या नहीं.
मुझे नहीं पता है कि मैं अब तृणमूल में हूं या नहीं- शिशिर
शुभेंदु के पिता ने कहा- 'किसने कहा कि मैं तृणमूल में हूं? क्या तृणमूल ने ऐसा कहा? जबसे शुभेंदु ने पार्टी छोड़ी है, वे मेरे परिवार, मेरे पूर्वजों को गाली दे रहे हैं. एक सज्जन कोलकाता से आए और शुभेंदु को मीर जाफर, गद्दार कहा. मुझे नहीं पता है कि मैं अब तृणमूल में हूं या नहीं.'

ममता बनर्जी पर शिशिर ने कहा, 'जब से शुभेंदु ने पार्टी छोड़ी है, वह उसे उखाड़ने के लिए यहां आई हैं. वह यहां क्या कर रही हैं ... यह शर्मिंदगी है, जिले के लिए, नंदीग्राम के लोगों के लिए.' टीएमसी सांसद ने कहा- 'कुछ दिनों पहले, उन्होंने कहा था कि उन पर हमला किया गया था. कुछ लोगों ने विरोध किया और उन्होंने कहा, नहीं, कार के दरवाजे से मुझे चोट लगी. उन्हें किस तरह की चोट लगी? वो किस तरह के डॉक्टर हैं? थोड़ा धक्का लगा और उन्हें प्लास्टर लगाकर व्हीलचेयर पर बिठा दिया?'

वहीं तृणमूल सांसद सौगात रॉय ने कहा, 'इस समय शिशिर अधिकारी की उम्र 80 वर्ष है. इस उम्र में वह कुछ गरिमा बनाए रख सकते हैं और 'दल बदलू' ना बनें.' अधिकारी के दूसरे बेटे दिब्येंदु अभी तक भाजपा में शामिल नहीं हुए हैं. राजनीतिक जानकारों का मानना है कि अगर पूरा परिवार बीजेपी में आता है तो जिले में टीएमसी पर इसका क्या असर होगा, यह दिलचस्प होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज