कूचबिहार हिंसा पर EC और CISF ने कहा- भीड़ से बचने के लिए आत्मरक्षा में की गई फायरिंग

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021

West Bengal Assembly Election: CISF प्रवक्ता ने कहा आत्मरक्षा और मतदान अधिकारियों को बचाने के लिए, मतदान केंद्र पर तैनात जवानों ने 6-8 राउंड फायरिंग की

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 9:34 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के चौथे चरण (West Bengal Assembly Elections) के चुनाव के दौरान कूचबिहार में हुई हिंसा (Coochbehar Violence) को लेकर चुनाव आयोग ने बयान जारी किया है. चुनाव आयोग ने कहा है कि मतदान केंद्र पर लाइन में खड़े मतदाताओं, अन्य मतदान कर्मियों और खुद की जान बचाने के लिए सीआईएसएफ के कर्मियों को ओपन फायर जरूरी हो गया था क्योंकि भीड़ ने उनके हथियार छीनने का भी प्रयास किया था.

वहीं सीआईएसएफ के प्रवक्ता ने इस घटना पर कहा कि बूथ नंबर 126 जोरपतकी सीतलकुची (पश्चिम बंगाल) के बाहर भीड़ ने चुनावी ड्यूटी पर तैनात सीआईएसएफ जवानों पर हमला किया और उनके हथियार छीनने की कोशिश की. आत्मरक्षा और मतदान अधिकारियों को बचाने के लिए, मतदान केंद्र पर तैनात जवानों ने 6-8 राउंड फायरिंग की.

ये भी पढ़ें- शोपियां मुठभेड़: ऐसे मिली मस्जिद को बचाते हुए 5 आतंकियों को ढेर करने में सफलता

निर्वाचन आयुक्त ने डीएम और एसपी से मांगी रिपोर्ट
वहीं पश्चिम बंगाल के राज्य निर्वाचन आयुक्त आरिज आफताब ने कहा कि हमने सीतलकूची में पोलिंग बूथ नंबर 126 के बाहर हुई गोलीबारी की घटना को लेकर जिले के डीएम और एसपी से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. इसी विधानसभा की बूथ संख्या 285 के बाहर हुई एक व्यक्ति की मौत को लेकर दो लोगों को हिरासत में लिया गया है.

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल के कूचबिहार जिले में शनिवार को स्थानीय लोगों द्वारा हमला किए जाने के बाद सीआईएसएफ ने कथित तौर पर गोलियां चलाई जिसमें चार लोगों की मौत हो गई. ऐसा आरोप है कि स्थानीय लोगों ने सीआईएसएफ जवानों की ‘‘राइफलें छीनने की कोशिश की.’’

ये भी पढ़ें- COVID-19: MP के इन इलाकों में बढ़ा लॉकडाउन, 1 लाख एक्टिव केस का अंदेशा



वहीं कूचबिहार की घटना को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हिंसा में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की और निर्वाचन आयोग से दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. साथ ही उन्होंने राज्य की सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस पर चुनावों के दौरान हिंसा फैलाने का आरोप लगाया.



एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भ्रष्टाचार सहित अन्य मुद्दों पर आड़े हाथों लेते उन पर लोगों को केंद्रीय सुरक्षाबलों के खिलाफ उकसाने और चुनाव प्रक्रिया में रोड़े अटकाने का आरोप भी लगाया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज