Home /News /nation /

पश्चिम बंगाल में नड्डा ने फूंका चुनावी बिगुल, परिवर्तन यात्रा को दिखाई हरी झंडी

पश्चिम बंगाल में नड्डा ने फूंका चुनावी बिगुल, परिवर्तन यात्रा को दिखाई हरी झंडी

पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी की ‘परिवर्तन यात्रा’ को अस्थायी तौर पर रोका 

ANI

पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी की ‘परिवर्तन यात्रा’ को अस्थायी तौर पर रोका ANI

जेपी नड्डा ने रैली में कहा कि यहां से शुरू होती है परिवर्तन यात्रा. यह केवल सरकार का नहीं बल्कि सोच का भी बदलाव है. ममता दीदी ने 'माटी मानुष' की शपथ लेकर 10 साल पहले सरकार का गठन किया. 10 साल में, 'मां' को लूट लिया गया, 'माटी' का अनादर किया गया और 'मानुष' की रक्षा नहीं की गई.

अधिक पढ़ें ...

    कोलकाता. पश्चिम बंगाल में इसी सील अप्रैल-मई में होने वाले विधानसभा चुनावों (West Bengal Assembly Elections) के लिए राजनीतिक तापमान बढ़ा हुआ है. इसी बीच बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने आज राज्य के दौरे पर हैं और चुनावी बिगुल फूंक रहे हैं. नड्डा ने नौदीप से रथ यात्रा की शुरुआत की. नौदीप से पहले जेपी नड्डा मालदा में यात्रा निकाली. नड्डा की रैली में भारी भीड़ उमड़ी है. जिस रूट से जेपी नड्डा की यात्रा निकल (BJP Parivartan Yatra) रही है वो लोगों से अटा पड़ा है.

    जेपी नड्डा ने रैलों को संबोधित करते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल तो ईस्ट पाकिस्तान में चला जाता लेकिन इसे श्याम प्रसाद मुखर्जी ने बचा लिया. टीएमसी ने यहां भ्रष्टाचार को संस्थागत बना दिया गया, प्रशासन का राजनीतिकरण कर दिया और पुलिस के साथ साथ उसका इस्तेमाल क्रिमिनल एक्टिविटी को बढ़ावा देने के लिए किया गया.

    जेपी नड्डा ने रैली में कहा कि यहां से शुरू होती है परिवर्तन यात्रा. यह केवल सरकार का नहीं बल्कि सोच का भी बदलाव है. ममता दीदी ने ‘माटी मानुष’ की शपथ लेकर 10 साल पहले सरकार का गठन किया. 10 साल में, ‘मां’ को लूट लिया गया, ‘माटी’ का अनादर किया गया और ‘मानुष’ की रक्षा नहीं की गई.

    यात्रा के जरिए बंगाल की जनता को जगाएंगे
    जेपी नड्डा ने कहा कि यहां पर टोलाबाजी, तुष्टिकरण और तानाशाही विराजमान रही है. इसलिए बीजेपी ने तय किया है कि परिवर्तन यात्रा के माध्यम से बंगाल की जनता को जगाएंगे, उनको बताएंगे, बल्कि मुझे तो लगता है कि अब बंगाल की जाग चुकी है.

    नड्डा ने दावा किया कि टीएमसी का नारा “मां, माटी, मानुष” से बदलकर वास्तविकता में “तानाशाही, तोलाबाजी (रंगदारी) और (मुस्लिम) तुष्टिकरण” हो गया है. उन्होंने कहा कि टीएमसी सरकार ने उन लोगों के साथ विश्वासघात किया है जिन्होंने उस पर भरोसा जताया था. उन्होंने आरोप लगाया कि ममता बनर्जी के शासन में सिर्फ टीएमसी नेताओं का फायदा हुआ और यहां तक कि अंफान तूफान के बाद राहत के लिये भेजी गई रकम में भी उनके द्वारा हेरफेर की गई.

    जय श्रीराम के नारे से ममता की नाराजगी
    नड्डा ने ‘जय श्रीराम’ के नारे को लेकर ममता की नाराजगी का मुद्दा भी उठाया और इस नारे को देश की संस्कृति से जुड़ा बताया. उन्होंने कहा, “वह ‘जय श्रीराम’ के नारे से इतनी नफरत क्यों करती हैं? अपने ही देश की संस्कृति से जुड़ना गलत है क्या? वे (टीएमसी) वोट-बैंक की राजनीति के लिए देश की संस्कृति को नकारना चाहते हैं.”

    बनर्जी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में ‘जय श्रीराम’ का नारा लगने के बाद संबोधन से इनकार कर दिया था. विधानसभा चुनावों से पहले बनर्जी द्वारा शुरू किये गई घरेलू-बाहरी की बहस का उल्लेख करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि उनकी पार्टी का प्रदेश नेतृत्व पश्चिम बंगाल की संस्कृति की रक्षा करेगा और उसे प्रगति के पथ पर लेकर जाएगा.

    उन्होंने आरोप लगाया, “ममता बनर्जी सरकार ने प्रशासन का राजनीतिकरण, पुलिस का अपराधीकरण और भ्रष्टाचार को संस्थागत कर दिया है.” उन्होंने बाद में 15वीं शताब्दी के संत चैतन्य महाप्रभु की जन्मस्थली नवद्वीप से पश्चिम बंगाल में बदलाव लाने के उद्देश्य से भाजपा की ‘परिवर्तन यात्रा’ के तहत एक परिष्कृत ‘रथ’ को भी झंडी दिखाकर रवाना किया.

    Tags: Jp nadda, Mamta Banerjee, Trinamool congress, West bengal, West Bengal Assembly Election 2021, West Bengal Assembly Elections

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर