अमित शाह बोले- NRC का अभी प्लान नहीं, लागू हुआ तो गोरखाओं को नहीं होगी दिक्कत

दार्जिलिंग रैली में अमित शाह (ANI)

दार्जिलिंग रैली में अमित शाह (ANI)

West Bengal Assembly Elections 2021: पश्चिम बंगाल में अब भी 4 चरणों का चुनाव बाकी है. 17, 22, 26 और 29 अप्रैल को अभी मतदान होना है. 17 अप्रैल को होने जा रहे मतदान को लेकर अमित शाह (Amit Shah) ने दार्जिलिंग में रैली की और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) को लेकर बड़ा बयान दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 1:55 PM IST
  • Share this:
West Bengal Assembly Elections 2021: पश्चिम बंगाल में चार चरणों की वोटिंग हो चुकी है. 17 अप्रैल को पांचवें चरण के लिए मतदान है. इस बीच केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने दार्जिलिंग में जनसभा को संबोधित किया. इस दौरान शाह ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) को लेकर बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि एनआरसी को लेकर अभी कोई प्लान नहीं है. अगर ये लागू भी हुआ तो इससे दार्जिलिंग में गोरखा लोगों को कोई दिक्कत नहीं होगी. वहीं, अमित शाह ने राज्य में बीजेपी सरकार बनने पर दार्जिलिंग समस्या के राजनीतिक समाधान करने का भी वादा किया.

आइए जानते हैं दार्जिलिंग रैली में अमित शाह ने और क्या-क्या कहा:-
अमित शाह ने कहा कि बंगाल में 200 से ज्यादा सीटों के साथ भाजपा की सरकार बनेगी. अब दीदी इसे रोक नहीं पाएंगी. उन्होंने कहा कि गोरखाओं को मेनस्ट्रीम में लाना होगा. देश के लिए बलिदान करने वालों की सूची बनती है, तो उसमें गोरखाओं का नाम सबसे पहले होता है.
शाह ने कहा कि 2 मई को दार्जिलिंग में दिवाली होने वाली है. दो मई को पहाड़ पर आग नहीं लगेगी, दीए जलाकर उत्सव मनाया जाएगा. चाय बागान श्रमिकों का वेतन बढ़ा कर 350 रुपये कर दिया जाएगा.
अमित शाह (Amit Shah) ने कहा कि गोरखाओं (Gorkhas) की समस्या का राजनीतिक समधान सभी की चिंता है. गोरखा समस्या का स्थायी राजनीतिक समाधान बीजेपी के केंद्र सरकार और बंगाल सरकार मिलाकर निकालेगी. भारतीय संविधान में सभी का प्रावधान है. समाधान का रास्ता निकाला जाएगा. आपको आंदोलन नहीं करना पड़ेगा. गोरखा की 12 जातियों को अनुसूचित जाति का दर्जा देंगे.
अमित शाह ने ऐलान किया- 'दार्जिलिंग से मैं कह कर जाता हूं कि बंगाल में भाजपा सरकार बनने के बाद आंदोलन के जितने भी मुकदमे किसी भी गोरखा भाई पर है, सबके सब एक सप्ताह के अंदर वापस लेने का काम भाजपा करेगी.'
अमित शाह ने कहा कि आजादी के बाद कांग्रेस, कम्युनिस्ट और दीदी ने दार्जिलिंग के विकास पर फुल स्टॉप लगा दिया. देश बहुत आगे निकल गया और दार्जिलिंग वहीं का वहीं रह गया. सभी ने दार्जिलिंग को आराम करने की जगह के रूप में समझा. किसी ने दार्जिलिंग का विकास नहीं किया. उन्होंने कहा कि बीजेपी पांच साल में दार्जिलिंग की सभी समस्या का समाधान कर देगी.
उन्होंने कहा कि गोरखा भाषा को बंगाल की सह भाषा का दर्जा देंगे. प्रसार भारती में अगले चैनल बना कर मनोरंजन और शिक्षा की व्यवस्था करेंगे. कोई गोरखा घुसपैठिया नहीं हो सकता है. जितनी उसकी भूमि है. उतनी ही है.
अमित शाह ने कहा- 'बंगाल चुनाव हम सभी की एक प्रकार से परीक्षा है. बीजेपी और गोरखा की एकता को तोड़ने का घिनौना प्रयास TMC और दीदी ने किया है. दीदी और TMC को मुंहतोड़ जवाब देना है. उनको समझाना है कि ऐसे जुल्म करके आप हमें तोड़ नहीं सकती.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज