कोरोना की दूसरी लहर के बीच पश्चिम बंगाल में 6वें चरण की वोटिंग आज

शांतिपूर्ण वोटिंग के लिए जबरदस्त सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं. (पिक्चर क्रेडिट- CEOWestBengal Twitter)

शांतिपूर्ण वोटिंग के लिए जबरदस्त सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं. (पिक्चर क्रेडिट- CEOWestBengal Twitter)

West Bengal Assembly Election 6th Phase Voting: राज्य की 43 विधानसभा सीटों पर 14480 पोलिंग बूथ (Polling Booth) बनाए गए हैं. ये सीटें उत्तर 24 परगना, उत्तर दिनाजपुर और पूर्व बर्धमान में पड़ती हैं. इस चरण में 27 महिलाओं समेत 306 उम्मीदरवारों के भाग्य का फैसला होना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 22, 2021, 5:44 AM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) विधानसभा चुनाव में आज 6वें चरण (sixth phase of polls) की वोटिंग होगी. राज्य की 43 विधानसभा सीटों पर 14480 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं. ये सीटें उत्तर 24 परगना, उत्तर दिनाजपुर और पूर्व बर्धमान में पड़ती हैं. इस चरण में 27 महिलाओं समेत 306 उम्मीदरवारों के भाग्य का फैसला होना है. इस चरण में करीब 1.03 करोड़ वोटर हैं जो अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे.

6वें चरण में कई राजनीतिक दिग्गजों के भाग्य का फैसला होना है. इनमें बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय, तृणमूल सरकार में मंत्री ज्योतिप्रियो मलिक और चंद्रिमा भट्टाचार्य, सीपीएम नेता तन्मय भट्टाचार्य शामिल हैं. इसके अलावा सिनेमा इंडस्ट्री से जुड़े राज चक्रवर्ती, कौशानी मुखर्जी भी चुनाव मैदान में हैं.

1071 कंपनियां तैयात की गई हैं

सुरक्षा इंतजाम के मद्देनजर सुरक्षा बलों की 1071 कंपनियां तैयात की गई हैं. बताया जा रहा है कि चौथे चरण के चुनाव के दौरान सीतलकूची में हुई हिंसा के मद्देनजर सुरक्षा इंतजाम और मजबूत किए गए हैं. इस घटना के बाद राज्य का राजनीतिक मौहाल काफी गर्म है. घटना को लेकर बीजेपी और टीएमसी के बीच जमकर जुबानी जंग भी हुई है.
कोरोना की दूसरी लहर राज्य में दिखा रही असर

इस बीच कोरोना की दूसरी लहर भी राज्य में तेजी के साथ बढ़ रही है. बुधवार को राज्य में 9819 नए मामले सामने आए हैं. टीएमसी ने बाकी के चरण के चुनाव एक बार में कराने की मांग की थी जिसे चुनाव आयोग ने खारिज कर दिया है. आयोग ने बुधवार को तृणमूल कांग्रेस से कहा कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के शेष चरणों को एक साथ मिलाने का उसका सुझाव लागू करने योग्य नहीं है. तृणमूल कांग्रेस को लिखे एक पत्र में आयोग ने निर्वाचन कानून और कोरोना वायरस महामारी के परिप्रेक्ष्य में मतदाताओं की सुरक्षा के लिए उठाए गए विभिन्न कदमों का जिक्र किया और राज्य में चुनाव के कार्यक्रम में बदलाव से इंकार किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज