अपना शहर चुनें

States

पश्चिम बंगाल : मवेशी तस्करों ने बीएसएफ के जवानों पर बरसाईं गोलियां

पश्चिम बंगाल में मवेशी तस्करों ने बीएसएफ के जवानों पर गोलियां बरसाईं .
पश्चिम बंगाल में मवेशी तस्करों ने बीएसएफ के जवानों पर गोलियां बरसाईं .

पश्चिम बंगाल में पशु तस्करों ने एक बार फिर बीएसएफ जवानों पर हमला बोला है. भारत-बांग्लाहदेश सीमा के पास अंतरराष्ट्रीय सीमा पर लगी बाड़ टूटी मिली है. यहां बांग्लादेश और भारत दोनों की तरफ से 20-20 तस्कर मौजूद थे. संदिग्ध गतिविधियों पर निगाह रख रहे जवानों पर तस्करों ने गोलीबारी की. बीएसएफ के जवानों ने भी उसका जवाब दिया. पशु तस्‍करों का रैकेट पश्चिम बंगाल से सटे राज्‍यों में भी फैल गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2021, 4:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल में भारत-बांग्लादेश अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सोमवार तड़के कुछ मवेशी तस्करों ने बीएसएफ के एक दल पर गोलीबारी की. अधिकारियों ने बताया कि घटना सुबह साढ़े पांच बजे हुई, अलीपुरद्वार जिले के फलकटा में पुटिया बारा मासिया सीमा चौकी के पास अंतरराष्ट्रीय सीमा की बाड़ ‘‘टूटी’’ पाई गई. घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है.

उन्होंने बताया कि सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के एक सैनिक ने ‘‘बांग्लादेश की ओर से 20-25 असामाजिक तत्वों और भारत की ओर से कम से कम 18-20 तस्करों की कुछ संदिग्ध गतिविधियों को भांपा था.’’ अधिकारी ने बताया कि दोनों ओर के लोग भारत से बांग्लादेश में मवेशियों की तस्करी करने की कोशिश कर रहे थे और उन्हें तितर- बितर करने के लिए सैनिक ने ‘चिली ग्रेनेड’ का इस्तेमाल किया.

ये भी पढ़ें - Explained: कैसे होती है पशुओं की इंटरनेशनल तस्करी, कैसे काम करता है गिरोह?



अधिकारियों के अनुसार, भारतीय तस्करों ने बीएसएफ के दल पर गोलीबारी की, जिसके जवाब में कॉन्स्टेबल ने भी गोली चलाई. तस्करों द्वारा इस्तेमाल किए गए दो कारतूस और एक खाली कारतूस मौके से बरामद किया गया है. उन्होंने बताया कि बीएसएफ की 100वीं बटालियन इस क्षेत्र की रक्षा करता है, जो बल के गुवाहाटी सीमा के क्षेत्राधिकार के तहत काम करता है.
ये भी पढ़ें- बिहार से बंगाल ले जाए जा रहे 42 मवेशी रामगढ़ में जब्त, चार तस्कर भी गिरफ्तार

आसपास के राज्‍यों से हो रही है तस्‍करी
पश्चिम बंगाल से लगे राज्‍यों से पशुओं को पकड़कर तस्‍करों तक पहुंचाने की घटनाएं भी सामने आ रही हैं. इसी महीने झारखंड के रामगढ़ में पुलिस ने बिहार के गया से एक कंटेनर में छिपाकर पश्चिम बंगाल ले जाये जा रहे 42 मवेशी जब्त (42 cattle seized) किये थे. इस सिलसिले में चार पशु तस्करों को धर दबोचा था. पुलिस सूत्रों ने बताया कि आज रामगढ़ के पुलिस अधीक्षक को एक गुप्त सूचना मिली कि बिहार के गया से एक कंटेनर में अवैध मवेशी डालटनगंज, बालूमाथ, रांची, रामगढ़ होते हुए बंगाल के अवैध वधशाला में बेचने हेतु ले जाया जा रहा. इस सूचना पर आवश्यक कारवाई करने के लिए विशेष पुलिस टीम ने एक कंटेनर को रोका था. हालांकि, ड्राइवर ने कंटेनर को भगाने का प्रयास किया परंतु उसको रोड जाम करके पकड़ लिया गया.

पशुओं की कीमत आठ गुनी हो जाती है
झारखंड के पाकुड़ में पकड़े गए ऊंट की तस्करी के अंतरराज्यीय नेटवर्क के आरोपियों ने पुलिस को बताया था कि हरियाणा और राजस्थान से ऊंटों की तस्करी हो रही है. दिल्ली, यूपी, बिहार और झारखंड होकर ऊंटों को पश्चिम बंगाल के मालदा पहुंचाया जाता है. वहां से मोदी घाट और पूर्णभामा घाट से नाव के जरिये से गंगा नदी के पार बांग्लादेश भेजा जाता है. पिछले एक महीने में पाकुड़ में दो बार ऊंट लदे वाहन को वन विभाग के अधिकारियों ने पकड़ा. तब इस बात का खुलासा हुआ है. एक ट्रक में 14 और दूसरे में 15 ऊंट थे. ट्रक चालकों और तस्करों से जब पूछताछ की गई, तो पता चला कि राजस्थान और हरियाणा में 25-25 हजार रुपये में ऊंटों को खरीदकर पश्चिम बंगाल में इन्हें चार गुना दाम में बेचा जाता है. वहीं बांग्लादेश तक पहुंचते- पहुंचते इनकी कीमत आठ गुनी हो जाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज