पश्चिम बंगाल: मुकुल रॉय को मिला TMC में जाने का सिला, बेटे सुभ्रांशु की सुरक्षा केंद्र ने वापस ली

तृणमूल कांग्रेस के नेता मुकुल रॉय. (एएनआई फाइल फोटो)

Mukul Roy Son Subhranshu Security: मुकुल रॉय के बेटे को वाई-श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गई थी, उसे 12 जून को हटा लिया गया. अधिकारियों का कहना है कि ‘ये नियम के मुताबिक हुआ है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) ने मुकुल रॉय के बेटे सुभ्रांशु रॉय की सुरक्षा को वापस ले लिया है और ऐसे संकेत हैं कि केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल (CRPF) जो मुकुल रॉय की सुरक्षा देख रहे थे वो भी ऐसा ही कुछ फैसला ले सकते हैं. अधिकारिक सूत्रों का कहना है कि मुकुल रॉय के मामले में गृह मंत्रालय के आदेश का इंतजार है. सीआरपीएफ के एक अधिकारी ने न्यूज 18 को बताया कि इस मामले में गृह मंत्रालय फैसला लेता है, ये सुरक्षा पाने वाले और पैरा मिलेट्री बलों के बीच की बात नहीं है, हमें गृह मंत्रालय के आदेश का इंतज़ार है.


    रॉय 2017 में जब टीएमसी छोड़ भाजपा में शामिल हुए थे तब उन्हें केंद्रीय सुरक्षा प्रदान की गई थी. 2021 में हुए विधानसभा चुनाव से ठीक पहले ही उनकी सुरक्षा बढ़ाकर जेड- श्रेणी की कर दी गई थी. उन्हें मिलने वाली धमकियों के चलते अधिकारियों का अनुमान था कि चुनाव के दौरान उन पर टीएमसी की ओर से हमला हो सकता है.


    बंगाल में चुनाव के बाद खेला होबे? कई नेता भाजपा छोड़ TMC में वापसी को बेचैन


    गृह मंत्रालय का कहना है कि अब चूंकि रॉय वापस टीएमसी में चले गए हैं, तो धमकी का कोई सवाल नहीं उठता है. इसके अलावा उनकी सुरक्षा वापस लेने के पीछे एक और वजह है. दरअसल रॉय ने खुद गृह मंत्रालय को चिट्ठी लिख कर अपनी सुरक्षा को वापस लिए जाने की प्रार्थना की थी. उन्होंने कोलकाता में मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि वो पहले ही सीआरपीएफ को अपनी सुरक्षा से जाने को कह चुके हैं. हालांकि सीआरपीएफ मुख्यालय का कहना है कि सुरक्षाकर्मी अभी भी उनकी ड्यूटी पर हैं.


    सीआईएसएफ जो रॉय के बेटे को वाई-श्रेणी की सुरक्षा प्रदान करती है, उसे शनिवार को हटा लिया गया. अधिकारियों का कहना है कि ‘ये नियम के मुताबिक हुआ है. वीआईपी सुरक्षा प्रोटोकॉल से जुड़ी पीली किताब में साफ तौर पर लिखा है कि, अगर सुरक्षा चाहने वाला खुद सुरक्षा लेने से इनकार करता है, तो वह सुरक्षा प्रदान नहीं कर सकते हैं.’


    टीएमसी में लौटे मुकुल रॉय त्रिपुरा में भी करेंगे खेला? BJP नेता सुदीप रॉय बर्मन की ‘घर वापसी’ लेकर अटकलें तेज़


    8 सीआईएसएफ सुरक्षाकर्मी, जिनमें 5 सशस्त्र गार्ड और तीन निजी सुरक्षा अधिकारी, प्रत्येक शिफ्ट में एक, सुभ्रांशु की सुरक्षा में तैनात थे. वहीं 33 सीआरपीएफ सुरक्षाकर्मी जिसमें 12 सशस्त्र रक्षक भी शामिल थे, उन्हें मुकुल रॉय की सुरक्षा में तैनात किया गया था. पश्चिम बंगाल सरकार सुभ्रांशु और मुकुल रॉय दोनों के तृणमूल में लौटने के बाद उन्हें सुरक्षा प्रदान करवाएगी.




    राज्य में आए चुनावी नतीजों के बाद गृह मंत्रालय ने भाजपा के सभी 77 विधायकों को केंद्र के पैरा मिलेट्री बल से सुरक्षा प्रदान की है. ये फैसला तब लिया गया जब भाजपा ने आरोप लगाया था कि चुनाव नतीजे आने के बाद टीएमसी हिंसा पर उतारू हो गई है और उनके नेताओं और कार्यकर्ताओं पर हमले हो रहे हैं.
    माना जा रहा है कि कई भाजपा विधायक टीएमसी में शामिल हो सकते हैं. ऐसे संकेत हैं कि केंद्रीय पैरा मिलेट्री फोर्स, सीआरपीएफ और सीआईएसएफ को जल्दी ही कई विधायकों की सुरक्षा वापस लेने का आदेश मिल सकता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.