केंद्र सरकार ने बंगाल के मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय को बुलाया वापस, पीएम मोदी की बैठक में देर से पहुंचे थे

अलपन बंदोपाध्याय का बतौर मुख्य सचिव उनका कार्यकाल इसी महीने के आखिरी में खत्म हो रहा था लेकिन कुछ दिन पहले ही ममता सरकार ने अगले तीन महीने के लिए उनका कार्यकाल बढ़ा दिया था.

अलपन बंदोपाध्याय का बतौर मुख्य सचिव उनका कार्यकाल इसी महीने के आखिरी में खत्म हो रहा था लेकिन कुछ दिन पहले ही ममता सरकार ने अगले तीन महीने के लिए उनका कार्यकाल बढ़ा दिया था.

आज यास चक्रवात से प्रभावित इलाकों का जायजा लेने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी बंगाल के दौरे पर गए थे. वहां सीएम ममता बनर्जी के पीएम के रिव्यू मीटिंग में देर से पहुंचने को लेकर बीजेपी ने उनपर हमला बोला है.

  • Share this:

नई दिल्ली. केंद्र और ममता बनर्जी सरकार (Mamta Banerjee) के बीच तकरार बढ़ी. केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय को वापस बुलाया है. न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, केंद्र ने राज्य सरकार को कहा है कि जल्द उन्हें रिलीव किया जाए. 31 मई तक बंद्योपाध्याय को DoPT में रिपोर्ट करने को कहा गया.

केंद्र द्वारा जारी पत्र में राज्य सरकार से मुख्य सचिव को तत्काल प्रभाव से कार्य मुक्त करने का आग्रह किया गया है. बता दें कि आज यास चक्रवात से प्रभावित इलाकों का जायजा लेने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी बंगाल के दौरे पर गए थे. वहां सीएम ममता बनर्जी के पीएम के रिव्यू मीटिंग में देर से पहुंचने को लेकर बीजेपी ने उनपर हमला बोला है. उनके साथ मुख्य सचिव भी देर से मीटिंग में पहुंचे थे.

Youtube Video

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ममता पर बोला हमला
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ममता पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा था कि पश्चिम बंगाल का आज का घटनाक्रम स्तब्ध करने वाला है. मुख्यमंत्री व प्रधानमंत्री व्यक्ति नहीं संस्था है. दोनों जन सेवा का संकल्प और संविधान के प्रति निष्ठा की शपथ लेकर दायित्व ग्रहण करते हैं.

राजनाथ ने ट्वीट कर कहा कि आपदा काल में बंगाल की जनता को सहायता देने के भाव से आए हुए प्रधानमंत्री के साथ इस प्रकार का व्यवहार पीड़ादायक है. जन सेवा के संकल्प व संवैधानिक कर्तव्य से ऊपर राजनैतिक मतभेदों को रखने का यह एक दुर्भाग्यपूर्ण उदहारण है, जो भारतीय संघीय व्यवस्था की मूल भावना को भी आहत करने वाला है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज