• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • WEST BENGAL CID SUMMONED CISF PERSONNEL ON SITALAKUCHI FIRING CASE BJP CALLED IT POLITICAL MOVE OF TMC

सीतलकुची फायरिंग केस में CISF के जवानों को CID ने किया तलब, ममता पर हमलावर हुई BJP

सीतलकुची फायरिंग केस की जांच तेज हो गई है.

बंगाल चुनाव खत्म होने के बाद अब राजनीतिक रंजिशें निपटाने का दौर चल रहा है. ममता बनर्जी ने सीएम पद की कमान संभालते ही सबसे पहले सीतलकुची फायरिंग केस में जांच तेज करा दी है. मामले में CID ने CISF के जवानों को नोटिस भेजा है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. ममता बनर्जी (Mamta Banergee) ने मुख्यमंत्री बनने के बाद सबसे पहले सीतलकुची (Sitalkuchi firing) के फायरिंग मामले में कार्रवाई का आदेश दिया है. यहां चुनाव के चौथे चरण के दौरान कूच बिहार जिले के सीतलकुची इलाके में फायरिंग की घटना सामने आई थी, जिसमें 5 लोगों की मौत हो गई थी. इस मामले में अब पश्चिम बंगाल के क्राइम इंवेस्टिगेशन डिपार्टमेंट (CID) ने CISF के 4 जवानों, 1 इंस्पेक्टर और 1 डिप्टी कमांडेंट को तलब किया है, ताकि उनसे मामले को लेकर पूछताछ की जा सके.

    धारा 160 के तहत दिया गया नोटिस
    CRPC की धारा 160 के तहत सीआईडी मुख्यालय की ओर CISF के 6 कर्मचारियों को नोटिस दिया गया है. नोटिस में चारों सिपाहियों, इंस्पेक्टर और डिप्टी कमांडेंट को मंगलवार के दिन सीआईडी (CID)  मुख्यालय में हाजिर होने के लिए कहा गया है.

    BJP ने कहा- 'राजनीति से प्रेरित कदम'
    पश्चिम बंगाल CID के नोटिस पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि ये राजनीति से प्रेरित होकर की गई कार्रवाई है. वहीं नंदीग्राम से विधायक और नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी ने ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा कि ये उनके इशारों पर की गई कार्रवाई है क्योंकि CRPF और CISF केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन आने वाली सेंट्रल फोर्स हैं.



    क्या है पूरा मामला?
    पश्चिम बंगाल में 10 अप्रैल यानि चौथे चरण के मतदान वाले दिन सीतलकुची में हुई दो अलग-अलग घटनाओं में 5 लोगों की मौत हुई थी. फायरिंग की घटनाओं में से एक जगह पहली बार वोट देने जा रहे एक वोटर को गोली लगी थी जबकि बाकी 4 लोगों की मौत CISF की गोली से हुई थी. एसपी देवाशीष की रिपोर्ट में इसे सेंट्रल फोर्सेज की ओर से आत्मरक्षा में की गई फायरिंग बताया गया था जबकि ममता बनर्जी ने आरोप लगाया था कि सेंट्रल फोर्स ने केंद्र के इशारे पर गोली मारकर हत्या की है.

    सीएम बनते ही ममता बनर्जी ने दिए जांच का निर्देश
    सीएम पद पर काबिज होते ही ममता बनर्जी ने सीतलकुची फायरिंग में मारे गए सभी लोगों के परिवार के सदस्यों को होमगार्ड की नौकरी देने का ऐलान किया था. इसके साथ ही CID को मामले की जांच तेज करने का भी निर्देश दिया था. ममता बनर्जी ने घटना की जांच के लिए 4 सदस्यों की SIT भी बनाई है, जिसकी अगुआई डीआईजी सीआईडी कर रहे हैं. अब तक मामले में एसपी देवाशीष धर को सस्पेंड किया जा चुका है और माथाभांगा के IO मलय घटक की पेशी हुई थी.
    Published by:Prateeti Pandey
    First published: