Exclusive: ममता बनर्जी ने पूछा 'बायोपिक, नमो दुकानें, नमो टीवी... ये सब क्यों?'

लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के मतदान के समय में न्यूज़18 के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी के साथ खास इंटरव्यू में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राष्ट्रवाद, एयर स्ट्राइक के साथ ही पीएम नरेंद्र मोदी के बारे में बेबाक बातचीत की.

News18Hindi
Updated: April 19, 2019, 12:03 AM IST
News18Hindi
Updated: April 19, 2019, 12:03 AM IST
लोकसभा चुनावों में पश्चिम बंगाल इसलिए अहम है क्योंकि इस प्रदेश से 42 सांसद चुनकर आते हैं. इस बार के चुनावों में बंगाल का महत्व इसलिए भी ज़्यादा है क्योंकि केंद्र की बीजेपी सरकार और राज्य की टीएमसी सरकार के बीच सहमति के बजाय द्वंद्व की स्थिति है. फिलहाल बीजेपी और कांग्रेस यानी देश की दोनों बड़ी पार्टियों के साथ टीएमसी का चुनावी गठबंधन नहीं है. इन परिस्थितियों में न्यूज़ 18 के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राष्ट्रवाद, बालाकोट एयर स्ट्राइक, महागठबंधन और पीएम नरेंद्र मोदी के साथ अपने रिश्तों को लेकर खास बातचीत की.

पढ़ें : EXCLUSIVE INTERVIEW
हमें ऐसा चौकीदार चाहिए, जो देश के लिए काम करे- ममता
'बंगाल में जीतेंगे 42 की 42 सीटें, विपक्ष तय करेगा प्रधानमंत्री'

टीएमसी प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री होने के नाते ममता बनर्जी का कद देश की राजनीति में पहले की तुलना में लगातार बढ़ा है. ऐसे में राष्ट्रीय नेता की हैसियत से राष्ट्रवाद के मुद्दे पर हो रही चर्चा और बयानबाज़ी को लेकर ममता का मानना है ​कि लोकतंत्र का सम्मान होना चाहिए.

ममता ने कहा कि 'इस बार चुनावों में प्रचार का स्तर बेहद गिरा हुआ है. जब देश के प्रधानमंत्री ऐसी भाषा बोलें, जिस पर सवालिया निशान लगे तो आप दूसरों से क्या उम्मीद करेंगे? पीएम को इस तरह बात करनी चाहिए जिससे राजनीति संयमित रह सके. सबको संयम से काम लेना चाहिए, चाहे मेरी ही बात क्यों न हो. लोकतंत्र सबसे पहले है. सिर्फ इसलिए कि चुनावी माहौल है, हम जो चाहें, वो बोल दें, ये ठीक नहीं है. हमें आदर्श आचार संहिता का पालन करना चाहिए'.

पुलवामा हमले के लिए कौन है ज़िम्मेदार? ममता ने उठाया सवाल
Loading...

बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद हो रहे इस चुनाव में राष्ट्रवाद की लहर से जुड़े मुद्दे पर ममता ने आगे कहा कि उन्हें नहीं लगता कि बालाकोट एयर स्ट्राइक को चुनावी मुद्दे के तौर पर भुनाना चाहिए. उन्होंने कहा कि 'अपने कई जवानों के जान गंवाने पर मुझे बहुत अफ़सोस है. लेकिन सवाल ये है कि इंटेलिजेंस रिपोर्ट को सरकार ने अनदेखा क्यों किया? हमारे इतने जवान मारे क्यों गए? आतंकवाद इस कदर क्यों बढ़ा? इस तरह के कई सवाल हैं.'

mamata banerjee, west bengal election, loksabha elections 2019, narendra modi, mamata banerjee on nationalism, ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल चुनाव, लोकसभा चुनाव 2019, नरेंद्र मोदी, राष्ट्रवाद पर ममता बनर्जी

ममता ने ये सवाल उठाते हुए बताया कि 'हमने मोदीजी से एक सर्वदलीय बैठक बुलाकर इस मामले पर रोशनी डालने को कहा था. लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. उन्होंने सिर्फ संसदीय नेताओं के साथ एक मीटिंग की. इसे सर्वदलीय बैठक नहीं कहा जा सकता. और अब वो इस मुद्दे को वोट हासिल करने का रास्ता बना रहे हैं. बीजेपी नेता 'मोदी की सेना' कह रहे हैं जबकि सेना हर देशवासी की है. हमारे जवान हमारे लिए जान देते हैं, उनका सम्मान होना चाहिए. उनका इस्तेमाल वोटों के लिए नहीं होना चाहिए. हमें अपने जवानों पर गर्व है. लेकिन, भाजपा जो कर रही है, उसे किसी कीमत पर सही नहीं कहा जा सकता'.

पीएम मोदी की भाषा से खफा हुईं ममता
ममता की इन बातों से साफ ज़ाहिर हुआ कि उनके और पीएम मोदी के बीच कुछ खटास है. दूसरी ओर, 2014 में दोनों ने ही एक दूसरे के खिलाफ इस तरह की बयानबाज़ी नहीं की थी, बल्कि पीएम ने तो ममता को 'बहन' तक कहा था. इन तमाम बातों पर ममता बनर्जी ने कहा कि 'मैं भी उन्हें भाई कहती हूं. मैं शिष्टाचार जानती हूं इसलिए कहती हूं. लेकिन, सार्वजनिक मंचों से वो जिस तरह की भाषा बोलते हैं, वो लोकतंत्र के लिए खतरा है. उनके बोलने का तरीका बहुत, बहुत खराब है'.

ममता ने कहा 'नेता को इतना अभिमानी नहीं होना चाहिए'
दूसरी ओर, पीएम मोदी अपनी रैलियों में महागठबंधन को 'महामिलावटी लोग' करार दे रहे हैं. मोदी का कहना है कि ये लोग किसी कॉमन लक्ष्य के लिए नहीं बल्कि मौकापरस्ती के लिए साथ हैं. इस पर भी ममता ने बात करते हुए पीएम मोदी पर आरोप लगाए. ममता ने कहा कि 'वो इतने घमंडी क्यों हैं? एक नेता को इस तरह अभिमानी होना शोभा नहीं देता. एक नेता को लोगों का नेतृत्व करना चाहिए, न कि सिर्फ खुद का.'

mamata banerjee, west bengal election, loksabha elections 2019, narendra modi, mamata banerjee on nationalism, ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल चुनाव, लोकसभा चुनाव 2019, नरेंद्र मोदी, राष्ट्रवाद पर ममता बनर्जी

ममता ने आगे कहा कि 'गांधीजी, राजेंद्र प्रसाद, मौलाना आज़ाद, अंबेडकर, भगत सिंह, गुरू नानक जैसे लोग सच्चे नेता थे. एक नेता को सिर्फ अपने कसीदे नहीं पढ़ना चाहिए. यहां बंगाल में हम अपने मुंह मियां मिट्ठू बनने को बड़ी खराब बात मानते हैं. हम तभी नेता हैं, जब तक लोग हमें अपना नेता मानते हैं. हमारी लोकप्रियता लोगों से ही है.'

अपनी ब्रांडिंग में बिज़ी हैं मोदी : ममता
मोदी के बारे में बात करते हुए ममता ने आगे कहा कि 'उन्होंने अपनी एक फिल्म बनवाई, नमो दुकानें खुलवाईं, नमो टीवी शुरू किया, क्यों? मोदी जी खुद के प्रचार में ही व्यस्त हैं. यहां तक कि उन्होंने अपने वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी जी तक के प्रति असम्मान दिखाया. उन्हें टिकट नहीं दिया. जब मोदी को आडवाणी की मदद चाहिए थी, तब तो ली थी लेकिन अब आडवाणी जी को पूरी तरह किनारे कर दिया गया है. मुझे भाजपा के अंदरूनी मामलों का ज़्यादा पता नहीं, लेकिन मैं आडवाणी जी का सम्मान करती हूं. और वाजपेयी जी का भी, जो अपने अंतिम समय तक अच्छे इलाज के लिए महरूम रह गए.'

ममता ने न्यूज़ 18 के साथ इस खास बातचीत में यह भी कहा कि वो इस बारे में ज़रूर लिखेंगी. न्यूज़ 18 के एडिटर इन चीफ के साथ खास बातचीत में ममता ने राजनीति के साथ ही, कई निजी मुद्दों और पहलुओं पर भी बातचीत की. ममता बनर्जी के साथ हुई इस खास बातचीत के बारे में और जानने के लिए जुड़े रहें न्यूज़18.कॉम के साथ और पढ़ें लोकसभा चुनाव का सबसे बड़ा और एक्सक्लूसिव कवरेज.

क क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स 

ये भी पढ़ें:
अलीगढ़ में वोटिंग से पहले BJP प्रत्याशी ने कहा- 'जिन्ना' की तस्वीर भेजूंगा पाकिस्तान
CM योगी के बाद बीजेपी प्रत्याशी रवि किशन भी अयोध्या के हनुमानगढ़ी में टेकेंगे मत्था
दूसरा फेज: बुलंदशहर और अमरोहा के बूथ पर ईवीएम खराब, बिजनौर में CCTV कैमरे बंद
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार