ममता बनर्जी ने दिल्ली हिंसा को बताया नरसंहार, कहा- बंगाल में बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे 'गोली मारो' जैसे नारे

ममता बनर्जी ने दिल्ली हिंसा को बताया नरसंहार, कहा- बंगाल में बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे 'गोली मारो' जैसे नारे
ममता बनर्जी ने कहा, दिल्ली की हिंसा नरसंहार थी.

CM ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने कहा, 'भाजपा (BJP) पश्चिम बंगाल (West Bengal) समेत पूरे देश में ‘दंगों का गुजरात मॉडल’ लागू करने की कोशिश कर रही है.'

  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के मुद्दे पर एक बार फिर टिप्पणी की है. गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) पर निशाना साधते हुए बनर्जी ने कहा CAA की वजह से दिल्ली में कई लोग मारे गए. उन्होंने कहा, 'गृह मंत्री अमित शाह को यह बात याद रखनी होगी कि CAA की वजह से दिल्ली में कई सारे लोग मारे गए.' दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) पर सीएम ने कहा, 'बीजेपी गुजरात (Gujarat) का दंगा मॉडल पश्चिम बंगाल समेत देश के सभी हिस्सों में लागू करना चाहती है.' उन्होंने कहा, 'दिल्ली में हुई हिंसा नरंसहार है. निर्दोष लोगों के मारे जाने पर दुखी हूं.' रविवार को गृह मंत्री शाह की रैली में कथित तौर पर लगे गोली मारो के नारे पर भी बनर्जी ने टिप्पणी की. उन्होंने कहा- 'यह दिल्ली नहीं है जहां हम कोलकाता में गोली मारो सरीखे.. नारों को बर्दाश्त करें.'

सीएम बनर्जी ने कहा, मैं उन लोगों की निंदा करती हूं जिन्होंने कोलकाता की सड़कों पर “गोली मारो...” के नारे लगाए; कानून अपना काम करेगा.' इससे पहले पश्चिम बंगाल चुनाव 2020 को लेकर TMC ने अपना अभियान शुरू किया.

मिली जानकारी के अनुसार 'तृणमूल कांग्रेस ने ‘बांग्लार गोर्बो ममता’ (बंगाल की गौरव ममता) के नाम से जन संपर्क अभियान शुरू किया है.' बताया गया कि  तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने आगामी नगर निकाय चुनाव और 2021 के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जनसंपर्क अभियान ‘बांग्लार गोर्बो ममता’ (बंगाल की गौरव ममता) की सोमवार को शुरुआत की.



TMC के प्रचार अभियान की थीम
TMC के सूत्रों ने बताया कि अभियान के तहत तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के करीब एक लाख कार्यकर्ता शहर के विभिन्न हिस्सों में जाएंगे और लोगों को समझाएंगे कि बनर्जी पश्चिम बंगाल के विकास एवं प्रगति के लिए तथा राज्य के सांप्रदायिक सौहार्द को बनाये रखने के लिए कितनी जरूरी हैं.

कार्यक्रम का पहला चरण 75 दिनों तक चलेगा. बनर्जी ने पिछले साल चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर की सलाह पर अन्य संपर्क कार्यक्रम के तहत एक हेल्पलाइन नंबर और एक वेबसाइट शुरू की थी. सूत्रों ने बताया कि संपर्क अभियान ‘दीदी के बोलो’ को पहले महीने में जबर्दस्त समर्थन प्राप्त हुआ था जहां 10 लाख से अधिक लोगों ने अपनी शिकायतें दर्ज कराई थी.

यह भी पढ़ें: ममता बनर्जी का आरोप- CBI के दवाब के कारण तापस पाल को आया था हार्ट अटैक, मौत के लिए केंद्र जिम्मेदार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading