West bengal Election 2021: बीजेपी ने हाईकमान से मांगे यह 6 नेता, डेढ़ महीने तक करेंगे प्रचार

(PTI Photo/Ravi Choudhary)
(PTI Photo/Ravi Choudhary)

West Bengal Electin 2021 के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी ने तैयारियां शुरू कर दी हैं. बीजेपी की बंगाल इकाई ने हाईकमान से 6 नेता मांगे हैं जो राज्य में प्रचार करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 10:16 AM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) में अगले साल यानी साल 2021 के अप्रैल-मई में विधानसभा (West Bengal Electin 2021) चुनाव हो सकते हैं. इस बाबत भारतीय जनता पार्टी ने तैयारी शुरू कर दी है. बीजेपी की पश्चिम बंगाल इकाई ने राष्ट्रीय नेतृत्व से अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले राज्य में अपना अभियान शुरू करने के लिए छह केंद्रीय मंत्रियों की मांग की है.

बुधवार को पश्चिम बंगाल बीजेपी की कोर कमेटी की बैठक में पार्टी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय सहित राज्य के नेताओं ने केंद्रीय मंत्रियों स्मृति ईरानी, पीयूष गोयल, प्रहलाद पटेल, नरेंद्र सिंह तोमर, धर्मेंद्र प्रधान और किरेन रिजिजू को भेजने का आग्रह किया. पार्टी सूत्रों ने कहा कि मंत्री करीब डेढ़ महीने तक प्रचार करेंगे. उसके बाद पार्टी अगला रास्ता तय करने के लिए बैठक करेगी.

एक ओर जहां ईरानी बंग्ला में धाराप्रवाह बोलती हैं, तो प्रधान ओडिशा राज्य की सीमा से सटे इलाकों में प्रचार कर सकते हैं. वहीं,  रिजिजू उत्तरपूर्वी राज्यों के पास के इलाकों में प्रचार करेंगे. इसके साथ ही तोमर कृषि बिल के मुद्दे पर लोगों को संबोधित कर सकते हैं.



एक सूत्र ने कहा, 'चूंकि पश्चिम बंगाल में रेलवे का व्यापक नेटवर्क है, इसलिए गोयल का असर हो सकता है  और पटेल संस्कृति और युवाओं पर केंद्रित हमारे इलेक्शन नैरेटिव में फिट होंगे.'
यह भी पढ़ें: राजनीतिक फायदे के लिए माओवाद को बढ़ावा दे रहीं ममता: बंगाल BJP ने केंद्र को बताया

क्या होगी बीजेपी की रणनीति?
बैठक में शामिल होने वाले पार्टी नेताओं ने कहा कि भाजपा जल्द ही राज्य में बड़े पैमाने पर अभियान शुरू करेगी, जो 'राजनीतिक हत्या, लोकतंत्र की हत्या और राज्य में अराजकता' पर केंद्रित होगी. पार्टी लोगों को यह बताने की कोशिश करेगी कि तृणमूल कांग्रेस पश्चिम बंगाल के सांस्कृतिक और सामाजिक चरित्र को बदलने की कोशिश कर रही है. बीजेपी तृणमूल पर मुस्लिमों को लुभाने के लिए तुष्टिकरण की राजनीति करने का आरोप भी लगाती रही है. बीजेपी का दावा है कि इसमें बांग्लादेश से अवैध अप्रवासी शामिल हैं.

पार्टी ने गृह मंत्री अमित शाह से राज्य में युवाओं के 'कट्टरपंथीकरण' खिलाफ हस्तक्षेप करने की मांग करते हुए कहा है कि राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी राज्य को 'आतंकवाद की जमीन' में बदलने की कोशिश कर रही है. पार्टी सूत्रों ने कहा कि 8 अक्टूबर को बीजेपी की युवा शाखा युवा मोर्चा ममता बनर्जी सरकार के खिलाफ कोलकाता में एक विरोध रैली निकालेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज