Assembly Banner 2021

West Bengal Elections 2021: मिथुन चक्रवर्ती बीजेपी में शामिल होंगे? कैलाश विजयवर्गीय ने ये दिया जवाब

कैलाश विजयवर्गीय ने बॉलीवुड अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती के बीजेपी ज्‍वाइन करने पर कही ये बात.

कैलाश विजयवर्गीय ने बॉलीवुड अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती के बीजेपी ज्‍वाइन करने पर कही ये बात.

मिथुन चक्रवर्ती (Mithun Chakraborty) का राजनीति से पुराना रिश्ता रहा है. अप्रैल 2014 में तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) की तरफ से वो राज्यसभा में सांसद थे, लेकिन दिसंबर 2016 में उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था.

  • Share this:
मुंबई. पश्चिम बंगाल (West Bengal) में विधान सभा चुनाव (West Bengal Election 2021) से पहले राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है. तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) जहां फिर से सत्‍ता में वापसी का दावा कर रही है वहीं बीजेपी भी टीएमसी को सत्‍ता से बाहर करने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रही है. टीएमसी से नाराज नेता पहले ही बीजेपी का हाथ थाम चुके हैं और अब पार्टी राज्‍य के कई मशहूर और बड़े चेहरों को भी बीजेपी भी शामिल करने की तैयारी में है. खबर है कि बॉलीवुड अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती (Mithun Chakraborty) जल्‍द ही बीजेपी में शामिल हो सकते हैं.

सुपर स्टार मिथुन चक्रवर्ती के बीजेपी में शामिल होने की खबरों पर बीजेपी बंगाल प्रभारी और पार्टी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का रिएक्शन आया है. कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, मैंने मिथुन चक्रवर्ती से टेलीफोन पर बात की है, वह आज आने वाले हैं. मैं उनके साथ एक विस्तृत चर्चा के बाद ही किसी तरह की कोई टिप्पणी कर पाऊंगा.

West Bengal, West Bengal Assembly Election, Mithun Chukravarti, Trinamool Congress, Kailash Vijayvargiya, TMC



बता दें कि हाल ही में पॉपुलर बंगाली एक्टर यश दासगुप्ता और वेटरन एक्टर पापिया अधिकारी बीजेपी में शामिल हुए हैं. दासगुप्ता के बीजेपी जॉइन करने के ठीक एक दिन पहले मिथुन चक्रवर्ती संघ प्रमुख मोहन भागवत से मिले थे. इसके बाद से ही मिथुन के बीजेपी जॉइन करने कीं अटकलें लगाई जा रही हैं.

इसे भी पढ़ें :- West Bengal Elections 2021: TMC के पूर्व राज्यसभा सांसद दिनेश त्रिवेदी भाजपा में हुए शामिल

मिथुन चक्रवर्ती का राजनीतिक सफर
बता दें कि मिथुन चक्रवर्ती का राजनीति से पुराना रिश्ता रहा है. अप्रैल 2014 में तृणमूल कांग्रेस की तरफ से वो राज्यसभा में सांसद थे. लेकिन दिसंबर 2016 में उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. उस वक्त टीएमसी की तरफ से कहा गया था कि खराब स्वास्थ्य के चलते उन्होंने इस्तीफा दिया. लेकिन उन दिनों ये भी कहा गया था कि टीएमसी राज्यसभा में उनके अटेंडेंस को लेकर खुश नहीं थी. वो राज्यसभा में ना के बराबर आते थे. इसके अलावा न तो वो किसी बहस में शामिल हुए और न ही उन्होंने राज्यसभा में कोई सवाल पूछा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज