धनखड़ का ममता से सवाल-जब पूरा राज्य जल रहा है, तब क्या आपको कुछ और नहीं दिखता?

जगदीप धनख़ड़ ने चुनाव के बाद की हिंसा से प्रभावित लोगों से मुलाकात की (Photo-ANI)

West Bengal violence: उत्तर बंगाल में कूच बिहार से भाजपा सांसद नीतीश प्रमाणिक के साथ धनखड़ ने असम के धुबरी जिले में शिविर का दौरा किया और लोगों से बात की.

  • Share this:
    सिलीगुड़ी. पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने असम के अगोमनी के रनपगली में एक शिविर का शुक्रवार को दौरा किया जहां खुद को भाजपा समर्थक बता रहे कई परिवारों ने शरण ली हुई है. इन परिवारों का आरोप है कि विधानसभा चुनावों के बाद सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता उन पर अत्याचार कर रहे थे. इन शरणार्थियों से मिलने के बाद धनखड़ ने कहा, "सीतलकूची घटना दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन वे इसे नरसंहार और नृशंस हत्या करार दे रहे हैं. मुख्यमंत्री ने शपथ लेने के बाद एसआईटी का गठन किया और एसपी को सस्पेंड कर दिया." धनखड़ ने कहा, "मैं मुख्यमंत्री से ये पूछना चाहता हूं कि जब पूरा राज्य जल रहा है, तब क्या आपको कुछ और नहीं दिखता?"

    उत्तर बंगाल में कूच बिहार से भाजपा सांसद नीतीश प्रमाणिक के साथ धनखड़ ने असम के धुबरी जिले में शिविर का दौरा किया और लोगों से बात की. महिलाएं एवं बच्चों ने यहां शरण ली हुई है. शिविर में रहे लोगों ने दावा किया है कि उन्होंने दो मई को चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद से बंगाल में अपने घर छोड़ दिए हैं. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि “तृणमूल कांग्रेस के गुंडों” ने उनके घरों में तोड़-फोड़ की.

    ये भी पढ़ें- अब दूर होगी कोवैक्सीन की कमी, भारत-बायोटेक ने 14 राज्यों को शुरू की आपूर्ति



    सीतलकूची में दिखाए गए काले झंडे
    पश्चिम बंगाल के राज्यपाल ने सड़क मार्ग से कूच बिहार से रनपगली में शिविर तक की यात्रा की और चुनाव बाद की हिंसा से कथित तौर पर प्रभावित लोगों से मुलाकात की. उन्हें सीतलकूची में काले झंडे दिखाए गए जहां चार ग्रामीण चुनाव के दौरान केंद्रीय बलों की गोलीबारी में मारे गए थे जबकि जिले के दिनहाटा में उनके दौरे के वक्त “वापस जाओ” के नारे लगाए गए.

    उनका दौरा होने तक राज्यपाल और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच जुबानी जंग होती रही.



    मुख्यमंत्री ने बुधवार को उन्हें पत्र लिखकर दावा किया कि चुनाव बाद की हिंसा से प्रभावित कूच बिहार जिले का उनका दौरा नियमों का उल्लंघन करता है जबकि धनखड़ ने यह कहते हुए पलटवार किया कि वह संविधान के तहत अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे हैं. (भाषा इनपुट सहित)