पश्चिम बंगालः राज्यपाल बोले- राजनीतिक रूप से प्रेरित पुलिस शासन के हर क्षेत्र में दखल दे रही है

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लिखे पत्र में कहा कि पूर्वी मेदिनीपुर के कनकपुर गांव के निवासी मदन गोराई की मौत हिरासत में हुए अमानवीय अत्याचार, उत्पीड़न और मौत की एक और घटना है.
पश्चिम बंगाल के राज्यपाल धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लिखे पत्र में कहा कि पूर्वी मेदिनीपुर के कनकपुर गांव के निवासी मदन गोराई की मौत हिरासत में हुए अमानवीय अत्याचार, उत्पीड़न और मौत की एक और घटना है.

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लिखे पत्र में कहा कि पूर्वी मेदिनीपुर के कनकपुर गांव के निवासी मदन गोराई की मौत हिरासत में हुए 'अमानवीय अत्याचार, उत्पीड़न और मौत' की एक और घटना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2020, 10:04 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने एक व्यक्ति की 'हिरासत में हुई मौत' के मुद्दे पर बोलते हुए रविवार को आरोप लगाया कि राज्य की 'राजनीतिक रूप से प्रेरित' पुलिस शासन के हर क्षेत्र में दखल दे रही है. भाजपा का दावा है कि वह व्यक्ति उसका कार्यकर्ता था.

धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लिखे पत्र में कहा कि पूर्वी मेदिनीपुर के कनकपुर गांव के निवासी मदन गोराई की मौत हिरासत में हुए 'अमानवीय अत्याचार, उत्पीड़न और मौत' की एक और घटना है.

उन्होंने कहा कि इस प्रकार की घटनाएं राज्य की छवि को नुकसान पहुंचा रही हैं. धनखड़ ने कहा कि यह खुला रहस्य है कि राजनीतिक रूप से प्रेरित पुलिस शासन के हर क्षेत्र में दखल दे रही है और यह पुलिस की आदत बन गई है.



गोराई को अपहरण के एक मामले में 26 सितंबर को पूर्वी मेदिनीपुर के पताशपुर में गिरफ्तार किया गया था. पुलिस ने कहा है कि वह उसकी नहीं, बल्कि न्यायिक हिरासत में था जबकि भाजपा कह रही है कि उसे पुलिस हिरासत में रखा गया था. धनखड़ ने मुख्यमंत्री को पत्र में लिखा, 'यह सही समय है कि आप अपनी संवैधानिक शपथ को निभाएं और कानून का शासन लागू करें तथा राज्य में लोकतांत्रिक शासन सुनिश्चित करें और पुलिस एवं प्रशासन को ‘राजनीतिक रूप से तटस्थ और जवाबदेह’ बनाएं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज