अपना शहर चुनें

States

आज से Co-Vaccine का कोलकाता में ट्रायल, मंत्री फिरहाद हाकिम को मिलेगा पहला डोज

फिरहाद हाकिम लेंगे Covaccine के ट्रायल में पहला डोज
फिरहाद हाकिम लेंगे Covaccine के ट्रायल में पहला डोज

पश्चिम बंगाल के शहरी विकास मंत्री फरहाद हाकिम (Firhad Hakim) ने कहा था कि वह कोलकाता के राष्ट्रीय हैजा एवं आंत्र रोग संस्थान (एनआईसीईडी) में होने वाले कोवैक्सीन टीके के तीसरे चरण के परीक्षण के दौरान टीका लगवाना चाहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 2, 2020, 5:23 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. कोरोना वायरस (Coronavirus Vaccine) की वैक्सीन के संदर्भ में टीकों के लिए जारी शोध के बीच पश्चिम बंगाल में भी ट्रायल जारी है. भारत में तीन टीकों के वैक्सीन ट्रायल के तीसरे फेज में हैं. इसी क्रम में बुधवार को पश्चिम बंगाल में भारत बायोटेक के कोवैक्सीन (Co- Vaccine) का क्लीनिकल ट्रायल आज से शुरू हो रहा है. बताया गया कि कोवैक्सीन के तीसरे फेज के ट्रायल के तहत कोलकाता में 1,000 वैक्सीन भेजी गई है. देश के कई अन्य शहरों में कोवैक्सीन का टेस्ट हो चुका है. बताया गया कि मेयर और शहरी विकास मंत्री फिरहाद हाकिम भी वॉलंटियर के तौर पर वैक्सीन की डोज लेंगे. हाकिम की उम्र 62 साल है.

डॉक्टर्स ने जानकारी दी कि हाकिम, कोवैक्सीन के ट्रायल के लिए मेडिकली फिट हैं. हाकिम ने इस बाबत जानकारी दी कि वह आज शाम चार बजे नाइसेड में वैक्सीन की डोज लगवाएंगे. बता दें वैक्सीन का ट्रायल के लिए बतौर वॉलंटियर अपना सहयोग देने के लिए हाकिम ने सबसे पहले ऐलान किया था.

बीते दिनों हाकिम ने कहा था, 'मैं लोगों की मदद करना चाहता हूं. अगर मेरे योगदान से लोगों के इलाज में मदद होती है तो मुझे बहुत खुशी होगी. मैं (कोवैक्सीन टीके के तीसरे चरण के परीक्षण) कार्यक्रम का हिस्सा बनने को लेकर बहुत उत्सुक हूं.'



ट्रायल पहले ही कई जगहों पर शुरू हो चुका
गौरतलब है कि कोवैक्सीन को भारत बायोटेक ने आईसीएमआर के सहयोग से बनाया है. कोवैक्सीन की यह खुराक 18 साल या उससे ऊपर के करीब 28,500 लोगों को दी जाएगी. वैक्सीन का ट्रायल 10 राज्यों में 25 जगहों पर होगा. मालूम हो कि इसका ट्रायल पहले ही कई जगहों पर शुरू हो चुका है.

एक अधिकारी ने कहा कि कोलकाता स्थित एनआईसीईडी में जल्द ही कोवैक्सीन टीके के तीसरे चरण का परीक्षण शुरू होगा, जिसमें टीका लगवाने के इच्छुक कम से कम 1,000 लोग हिस्सा लेंगे. हैदराबाद में जीनोम वैली स्थित भारत बायोटेक की बीएसएल-3 (जैव-सुरक्षा स्तर 3) इकाई में टीके का विकास किया जा रहा है और यहीं इसका उत्पादन किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज