अपना शहर चुनें

States

बंगालः TMC विधायक ने पार्टी नेताओं को दीमक कहा, बोलीं- इन्हें साफ करूंगी

बैशाली डालमिया ने कहा कि वे बीजेपी नहीं ज्वॉइन करेंगी और पार्टी में रहकर उन तत्वों के खिलाफ लड़ेंगी जो राज्य और पार्टी के हित के खिलाफ काम कर रहे हैं.
बैशाली डालमिया ने कहा कि वे बीजेपी नहीं ज्वॉइन करेंगी और पार्टी में रहकर उन तत्वों के खिलाफ लड़ेंगी जो राज्य और पार्टी के हित के खिलाफ काम कर रहे हैं.

बैशाली डालमिया (Baishali Dalmiya) बीसीसीआई (BCCI) के पूर्व प्रमुख जगमोहन डालमिया (Jagmohan Dalmiya) की बेटी हैं और पिछले चुनाव में उन्हें बल्ली विधानसभा (Bally Assembly Election) से चुनावी मैदान में उतारा गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 6, 2021, 11:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की पार्टी छोड़कर हाल के दिनों में तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) के नेताओं ने दर्जनों की संख्या में बीजेपी (BJP) ज्वॉइन की है. इसी क्रम में पार्टी की एक और नेता ने अपने साथी नेताओं के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए उन्हें दीमक (Termites) करार दिया. हालांकि एनडीटीवी को दिए एक इंटरव्यू में बैशाली डालमिया ((Baishali Dalmiya) ने कहा कि वे बीजेपी नहीं ज्वॉइन करेंगी और पार्टी में रहकर उन तत्वों के खिलाफ लड़ेंगी जो राज्य और पार्टी के हित के खिलाफ काम कर रहे हैं.

डालमिया ने कहा कि यही कारण है कि पूर्व क्रिकेटर लक्ष्मी रतन शुक्ला (Laxmi Ratan Shukla) पार्टी छोड़कर चले गए हैं. 52 वर्षीय बैशाली ममता बनर्जी के साथ वुडलैंड अस्पताल पहुंचीं थीं, जब मुख्यमंत्री टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (Saurav Ganguly) से मिलने गई थीं. उन्होंने कहा, "मैंने उन लोगों के खिलाफ शिकायत की है, जो पार्टी के खिलाफ काम कर रहे हैं, जनहित और हमारे समुदाय के खिलाफ काम कर रहे हैं. मैं उनके खिलाफ मुखर हूं. मेरे इलाके में ऐसे लोग हैं जो हावड़ा में बिजनेस को आगे नहीं बढ़ने देना चाहते. ऐसे लोग भी हैं जो विधायकों, सांसदों और पार्टी के अन्य नेताओं के खिलाफ काम कर रहे हैं."

बैशाली डालमिया ने आगे कहा, "मैं इन दीमकों (मैं उन्हें दीमक कहती हूं) को साफ करना चाहती हूं. जोकि समाज के हित में है. ये आम जनता के हित में है. ये पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के हित में है, जिन्होंने अपने खून-पसीने से पार्टी को सींचा है, लेकिन सिर्फ कुछ लोगों के चलते उन्हें पार्टी में कोई पद नहीं मिला." बीजेपी ज्वॉइन करने के सवाल पर उन्होंने कहा, "मैंने इस बारे में नहीं सोचा है, लेकिन मेरे पास बहुत धैर्य है और अंत तक लड़ने की कोशिश करूंगी. यही कारण है कि मैं इन मुद्दों पर मुखर हूं."



बैशाली डालमिया, बीसीसीआई के पूर्व प्रमुख जगमोहन डालमिया की बेटी हैं और पिछले चुनाव में उन्हें बल्ली विधानसभा से चुनावी मैदान में उतारा गया था. पिछले चुनाव में जीत हासिल करने बैशाली पार्टी में बेहद मुखर रही हैं और इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव से जुड़े मुद्दों पर लगातार बोलती रही हैं. तृणमूल कांग्रेस के दर्जनों नेताओं ने पार्टी की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए अपने रास्ते अलग कर लिए हैं. इनमें से ज्यादातर ने बीजेपी ज्वॉइन की है. बीजेपी ज्वॉइन करने वाले नेताओं में सबसे बड़ा नाम सुवेंदु अधिकारी का है.
पार्टी के भ्रष्ट पदाधिकारियों पर बरसते हुए बैशाली डालमिया ने कहा, "बहुत सारे लोग हैं जो अवैध निर्माण से जुड़े हैं. सरकार के साथ काम कर रहे ठेकेदारों से पैसे वसूलते हैं. फैक्ट्री कर्मचारियों को डराते हैं. ये लोग जनता के साथ दुर्व्यवहार करते हैं. सब लोग ऐसे नहीं हैं, लेकिन कुछ हैं, जिनके खिलाफ मैं आवाज उठा रही हूं."

पश्चिम बंगाल में आगामी विधानसभा चुनाव अप्रैल-मई महीने में कराए जाने की संभावना है. ममता सरकार के खिलाफ बीजेपी ने राज्य में मोर्चा खोल रखा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज