पश्चिम बंगाल: विश्वभारती यूनिवर्सिटी में दीवार निर्माण को लेकर हंगामा, तोड़े गए ऐतिहासिक ढांचे

पश्चिम बंगाल: विश्वभारती यूनिवर्सिटी में दीवार निर्माण को लेकर हंगामा, तोड़े गए ऐतिहासिक ढांचे
शांति निकेतन के बोलपुर में विश्वभारती यूनिवर्सिटी प्रशासन ने पिछले सप्ताह एक दीवार का निर्माण शुरू कराया था, जिसे लेकर विवाद हो गया है.

पश्चिम बंगाल के शांति निकेतन (Shantiniketan) के बोलपुर में विश्वभारती यूनिवर्सिटी (Visva-Bharati University) प्रशासन ने पिछले सप्ताह एक दीवार का निर्माण शुरू कराया था. दीवार एक मेला ग्राउंड के पास से उठाई जा रही है, जिसके विरोध में स्थानीय लोग सड़कों पर उतर आए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 17, 2020, 1:29 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) के बीरभूम जिले में स्थित शांति निकेतन की विश्वभारती यूनिवर्सिटी में सोमवार को हंगामा हुआ. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, स्थानीय लोग एक मेला ग्राउंड के पास बनी रही दीवार का विरोध कर रहे हैं. आक्रोशित लोगों ने विरोध जाहिर करने के लिए कई ऐतिहासिक ढांचों को भी नुकसान पहुंचाया है. निर्माण स्थल पर ईंट और सीमेंट भी उठाकर फेंक दिए गए हैं. पुलिस ने आंशिक बल का इस्तेमाल कर हालात पर काबू पाया है.

मिली जानकारी के मुताबिक, शांति निकेतन के बोलपुर में विश्वभारती यूनिवर्सिटी प्रशासन ने पिछले सप्ताह एक दीवार का निर्माण शुरू कराया था. दीवार एक मेला ग्राउंड के पास से उठाई जा रही है, जिसके विरोध में स्थानीय लोग सड़कों पर उतर आए हैं. प्रदर्शनकारियों अभी तक जितनी दीवार बनकर तैयार हुई थी, उसे तोड़ दिया है. साथ ही जेसीबी मशीनों को भी नुकसान पहुंचाया गया है.

पश्चिम बंगाल: कोरोना ने ली एक और जनप्रतिनिधि की जान, TMC विधायक समरेश दास का हुआ निधन



बताया जा रहा है कि शांति निकेतन में करीब 100 बीघा के करीब जमीन खाली है, जहां किसी प्रकार की रोक टोक नहीं थी. इस मेला ग्राउंड पर पौष मेला लगता है. स्थानीय लोग ग्राउंड का इस्तेमाल सुबह की सैर के लिए करते हैं. दीवार बनने पर जगह छोटी हो जाएगी. इसलिए लोग इसके विरोध में उतर आए हैं. फिलहाल हालात नियंत्रण में बताए जा रहे हैं.
बता दें कि विश्वभारती विश्वविद्यालय की स्थापना 1921 में कविगुरु रवीन्द्रनाथ टैगोर ने पश्चिम बंगाल के शांति निकेतन नगर में की थी. यह भारत के केंद्रीय विश्वविद्यालयों में से एक है. विश्व-भारती विश्वविद्यालय कई मायनों में अनोखा है. इस विश्वविद्यालय में भारतीय संस्कृति और परम्परा के अनुसार दुनियाभर की किताबें पढ़ाई जाती हैं.

यहां भारत की पुरानी आश्रम शिक्षा पद्धति के अनुसार पढ़ाई होती है. यहां किसी पेड़ के नीचे जमीन पर बैठकर छात्रों को पढ़ते हुए देखा जा सकता है. शांतिनिकेतन का अर्थ होता है- शांति से भरा हुआ घर. इसके आस-पास की प्राकृतिक छटा देखते ही बनती है. देश-दुनिया के पर्यटक इस जगह को घूमने जाते रहते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज