बंगाल हिंसा: पीड़ित परिवारों से मिलने के बाद बोले जगदीप धनखड़, लोग घर छोड़कर जंगलों में रह रहे हैं

कूच बिहार के सितलकुची पहुंच राज्यपाल धनखड़ ने पीड़ित परिवारों से बात की. (ANI/13 may, 2021)

West Bengal Violence: कूच बिहार के दिनहटा में राज्यपाल जगदीप धनखड़ की कार को रास्ते में रोकने की कोशिश की गई और उन्हें काले झंडे भी दिखाए गए.

  • Share this:

    कोलकाता. पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने गुरुवार को विधानसभा चुनाव के बाद राज्य में हुई हिंसा से प्रभावित इलाकों का दौरा किया और इस दौरान उन्हें कुछ लोगों ने काले झंडे भी दिखाए. धनखड़ कूच बिहार के सितलकुची पहुंचे और जिन-जिन क्षेत्रों में हिंसा हुई थी, वहां जाकर लोगों से हालचाल पूछा. पीड़ित परिवार से मिलने के बाद राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा, 'लोग अपने घरों को छोड़कर चले गए हैं और जंगलों में रह रहे हैं. महिला ने मुझे बताया कि वे गुंडे लोग फिर वहां आएंगे और यह सुरक्षा की नाकामी है. मैं यह सुनकर बेहद हैरान हूं. मैं महसूस कर सकता हूं कि यहां के लोग किन हालातों से गुजर रहे हैं.'


    इससे पहले कुछ लोगों ने कूच बिहार के दिनहटा में राज्यपाल धनखड़ की कार को रास्ते में रोकने की कोशिश की और काले झंडे भी दिखाए. बाद में धनखड़ कार से उतरे और उन्होंने वहां विरोध कर रहे लोगों से कुछ बात भी की. हालांकि इस दौरान वहां मौजूद लोग काले झंडे लेकर नारे लगाते रहे. राज्य चुनाव बाद की हिंसा के गिरफ्त में है और इस दौरान कथित तौर पर भाजपा के कई कार्यकर्ताओं की मौत हो गई एवं कई अन्य घायल हो गए. केंद्र ने विपक्षी कार्यकर्ताओं पर हमले की घटनाओं पर राज्य सरकार से रिपोर्ट भी मांगी है.


    बंगाल चुनावी हिंसा
    दरअसल भाजपा ने कुछ समय पहले एक पार्टी कार्यालय में कथित आगजनी का वीडियो साझा किया था जिसमें बांस की बल्लियां और छत जलती हुई नजर आ रही थी तथा परेशान लोगों को चिल्लाते हुए भागते देखा जा सकता था. सोशल मीडिया पर मृत व्यक्तियों की तस्वीरें और एक दुकान से कपड़े लूट कर भागते लोगों की फुटेज भी वायरल हुई थी. भाजपा का दावा है कि उसके कम से कम छह कार्यकर्ता और समर्थक हमलों में मारे गए हैं जिनमें एक महिला भी शामिल है. भाजपा इसका आरोप तृणमूल पर लगा रही है.


    भाजपा ने पत्रकारों के साथ एक वीडियो साझा किया था, जिसमें नंदीग्राम में पार्टी दफ्तर में हुई तोड़फोड़ को दिखाया गया है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इस सीट पर भाजपा के शुभेंदु अधिकारी से चुनाव हार गई थीं. अधिकारियों ने बताया कि बर्द्धमान जिले में रविवार (2 मई) और सोमवार (3 मई) को तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के समर्थकों में कथित झड़प में चार लोगों की मौत हो गई. तृणमूल कांग्रेस ने दावा किया कि मारे गए लोगों में तीन पार्टी के समर्थक थे.