होम /न्यूज /राष्ट्र /WFI Vs Wrestlers : कुश्ती संघ पर खेल मंत्रालय सख्त, जांच कमेटी बनाने पर कर रहा विचार, WFI अध्यक्ष ने रखा अपना पक्ष

WFI Vs Wrestlers : कुश्ती संघ पर खेल मंत्रालय सख्त, जांच कमेटी बनाने पर कर रहा विचार, WFI अध्यक्ष ने रखा अपना पक्ष

WFI: पहलवानों के आरोपों की जांच के लिए कमेटी बना सकता है खेल मंत्रालय: सूत्र

WFI: पहलवानों के आरोपों की जांच के लिए कमेटी बना सकता है खेल मंत्रालय: सूत्र

WFI: दिल्ली के जंतर-मंतर पर जारी पहलवानों के धरने के बीच बड़ी खबर सामने आई है. पहलवानों की ओर से अपने ऊपर लगाए गए आरोपो ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली: देश के पहलवान (Wrestlers) भारतीय कुश्ती संघ (WFI) के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना दे रहे हैं. जंतर-मंतर पर जारी प्रदर्शन के बीच देश के पहलवानों की ओर से अपने ऊपर लगाए गए आरोपों पर भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने खेल मंत्री अनुराग ठाकुर से फोन पर बात की है और अपना पक्ष रखा है. इस बीच खेल मंत्रालय तीन सदस्यी समिति बनाने पर विचार कर रहा है और इस समिति में महिला सदस्य भी होंगी. बता दें कि जंतर-मंतर पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पहलवानों ने कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष और कुछ कोच पर महिला पहलवानों के यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है.

सूत्रों ने गुरुवार को न्यूज18 को बताया कि खेल मंत्रालय भारतीय कुश्ती महासंघ के प्रमुख के खिलाफ महिला पहलवानों द्वारा यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच के लिए तीन सदस्यीय समिति बनाने पर विचार कर रहा है. समिति में दो महिला प्रतिनिधि होने की संभावना है, क्योंकि यह सुनिश्चित करेगा कि महिला पहलवान ‘अपनी चिंताओं को बेहतर तरीके से साझा करने में सक्षम हैं’. बता दें कि बजरंग, विनेश, रियो ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक, विश्व चैम्पियनशिप पदक विजेता सरिता मोर, संगीता फोगाट, सत्यव्रत मलिक, जितेंद्र किन्हा और राष्ट्रमंडल खेल पदक विजेता सुमित मलिक जंतर मंतर पर धरने पर बैठे 30 पहलवानों में हैं.

Wrestlers vs WFI: अखाड़े की लड़ाई सड़क पर क्यों आई? देखें कुश्ती संघ के खिलाफ जंतर-मंतर पर पहलवानों का ‘दंगल’

सूत्रों ने गुरुवार को न्यूज18 को बताया कि खेल मंत्रालय भारतीय कुश्ती महासंघ के प्रमुख के खिलाफ महिला पहलवानों द्वारा यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच के लिए तीन सदस्यीय समिति बनाने पर विचार कर रहा है. समिति में दो महिला प्रतिनिधि होने की संभावना है, क्योंकि यह सुनिश्चित करेगा कि महिला पहलवान ‘अपनी चिंताओं को बेहतर तरीके से साझा करने में सक्षम हैं’.

दरअसल, इससे पहले खेल मंत्रालय ने बुधवार को विनेश फोगाट, साक्षी मलिक, अंशु मलिक और बजरंग पुनिया सहित ओलंपिक पहलवानों द्वारा डब्ल्यूएफआई के कामकाज का विरोध करने के बाद भारतीय कुश्ती महासंघ से स्पष्टीकरण मांगा था. मंत्रालय ने कहा था कि उसने ‘मामले को बहुत गंभीरता से लिया है’ क्योंकि यह एथलीटों की भलाई से जुड़ा है. वहीं, विनेश फोगाट ने एक चौंकाने वाले खुलासे में बुधवार को आरोप लगाया कि डब्ल्यूएफआई के अध्यक्ष एवं भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह कई वर्षों से महिला पहलवानों का यौन शोषण कर रहे हैं लेकिन भाजपा सांसद ने इन आरोपों को खारिज किया है.

बता दें कि पहलवान विनेश फोगाट द्वारा भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर महिला पहलवानों का यौन शोषण करने का आरोप लगाए जाने के बाद दिल्ली महिला आयोग ने युवा मामले एवं खेल मंत्रालय और शहर पुलिस को नोटिस जारी किया. डीसीडब्ल्यू प्रमुख स्वाति मालीवाल ने जंतर मंतर पर प्रदर्शनकर रहे पहलवानों से मुलाकात भी की.

Tags: Delhi news, Indian Wrestler, Wrestler

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें