होम /न्यूज /राष्ट्र /क्या होता है चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ?, CDS क्या करते हैं काम, जानें सबकुछ

क्या होता है चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ?, CDS क्या करते हैं काम, जानें सबकुछ

अनिल चौहान को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के पद पर नियुक्त किया गया है. (फाइल फोटो)

अनिल चौहान को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के पद पर नियुक्त किया गया है. (फाइल फोटो)

भारत सरकार (Government of India) ने लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (सेवानिवृत्त) को अगले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (Chief of Defe ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

नई दिल्‍ली.  भारत सरकार (Government of India) ने लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (सेवानिवृत्त) को अगले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (Chief of Defence Staff) के पद पर नियुक्त किया. रक्षा मंत्रालय की ओर दी गई जानकारी के मुताबिक, वह तीनों सेनाओं के प्रमुख होने के साथ भारत सरकार के सैन्य मामलों से जुड़े विभाग के सचिव के रूप में भी कार्य करेंगे. दरअसल चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) बेहद अहम पद है. यह सेना और सरकार के बीच महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है. आइए जानते हैं कि क्‍या होता है चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ? CDS क्‍या काम करते हैं?

15 अगस्त 2019 को स्वतंत्रता दिवस भाषण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का पद बनाए जाने की घोषणा की थी. दिसंबर 2019 में जनरल बिपिन रावत देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ नियुक्त हुए थे. भारतीय सेना के तीनों अंगों के बेहतर तालमेल और ज्वाइंटनेस के लिए सरकार ने 28 दिसंबर 2019 को सेना के सर्विस रूल में बदलाव का नोटिफिकेशन जारी किया और उसके बाद सीडीएस का नया पद बना था.

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ या CDS क्या होता है?
देश का चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ, भारतीय सशस्‍त्र बलों का सैन्‍य प्रमुख होता है. वह भारतीय सशस्‍त्र बलों की चीफ ऑफ स्‍टाफ कमेटी का चेयरमैन भी होता है. वह रक्षा मंत्रालय द्वारा बनाए गए नए विभाग डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री अफेयर्स का प्रमुख होता है. इसी साल 6 जून में सीडीएस की नियुक्ति को लेकर सरकार ने सेना के सर्विस रूल में बदलाव का नोटिफिकेशन जारी किया था. इस नोटिफिकेशन में ये साफ किया गया था कि सर्विंग और रिटायर्ड 3 स्टार अधिकारी को भी सीडीएस के तौर पर चुना जा सकता है.

कैसे चुना जाता है चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ? 

तीनों अंगों के मौजूदा सेना प्रमुख के अलावा 3 स्टार अफ़सर यानी थलसेना के लें जनरल, वायुसेना के एयर मार्शल और नौ सेना के वाइस एडमिरल रैंक के अधिकारियों को भी सीडीएस के लिए सरकार चुन सकती है. वहीं इस नोटिफिकेशन में ये भी साफ किया गया था कि सीडीएस के लिए रिटायर्ड 4 स्टार और 3 स्टार अधिकारियों की उम्र 62 साल से ज़्यादा नहीं होनी चाहिए. तीनों सेना के थ्री स्टार अधिकारी 60 साल की उम्र में रिटायर होते हैं तो उनके चांस सीडीएस बनने के बने हुए थे जबकि सेना प्रमुख का रिटायरमेंट 62 साल की उम्र में होता है और अब जब सीडीएस के पद के लिए उम्र 62 साल तय कर दी गई है तो हाल ही में रिटायर्ड हुए तीनों अंगों के सेना प्रमुख इस रेस से बाहर हो गए थे.

क्या करते हैं चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ?
चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ प्रमुख सैन्य सलाहकार के रूप में काम करता है. वह रक्षा मंत्रालय को सलाह देता है. आर्म्ड फोर्सेज के बीच आवश्यक तालमेल के लिए यह नियुक्ति होती है. सेना में जॉइंटमैनशिप को बढ़ाने के लिए, संसाधनों की बर्बादी रोकने और निर्णय लेने में तेजी के लिए चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ की भूमिका महत्‍वपूर्ण होती है. CDS किसी भी सेना का प्रमुख नहीं होता है, तीनों सेनाओं के प्रमुख अपनी जिम्‍मेदारियां बखूबी निभाते हैं. सेना के तीनों अंगों के बीच कोऑर्डिनेशन को बढ़ाने में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ की अहम भूमिका होती है.

Tags: CDS, Chief of Defence Staff, Government of India

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें