अपना शहर चुनें

States

राम रहीम समर्थकों की हिंसा: क्या हालात भांपने में नाकाम रही सरकार या फिर...

डेरा प्रमुख राम रहीम
डेरा प्रमुख राम रहीम

इससे पहले हरियाणा में लोगों ने जाट आंदोलन के दौरान भी तोड़फोड़ और आगजनी देखी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 26, 2017, 5:30 PM IST
  • Share this:
डेरा सच्‍चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को रेप के मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद देश के कई हिस्‍सों में हिंसा शुरू हो गई है. दिल्‍ली तक में आगजनी हो रही है. आनंद विहार स्‍टेशन पर ट्रेन की बोगी जला दी गई. सवाल यह पैदा होता है कि क्‍या हालात भांपने में सरकार नाकाम रही.

बताया गया है कि डेरा समर्थक पहले से ही हथियारों से लैस थे. कई जगहों पर उनके पास आग लगाने के साधन थे. वे बोतलों में पेट्रोल भरकर लाए थे. वे लाठी, डंडों से लैस थे. पहले से ही हालात बिगाड़ने की धमकी दे रहे थे. इसके बावजूद हरियाणा सरकार उन्‍हें संभाल नहीं पाई.

हरियाणा के वरिष्‍ठ पत्रकार नवीन धमीजा का कहना है कि बाबा राम रहीम के खिलाफ फैसला आने पर हिंसा का अंदेशा हरियाणा सरकार को था फिर भी उसने बेबसी का प्रदर्शन किया. धमीजा का कहना है कि सरकार की इस सियासी बेबसी की वजह थी क्‍योंकि इसे बनवाने में डेरे का योगदान था.



पंचकूला में धारा 144 लगाने के बाद भी बाबा के लाखों भक्‍त पहुंचे थे. इसके चलते पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने डीजीपी को यहां तक कह दिया था कि क्यों न आपको सस्‍पेंड कर दिया जाए. फिर भी हरियाणा पुलिस से हालात नहीं संभले.
 haryana government, manohar lal khattar, dera sacha sauda chief Ram Rahim Guilty in rape case    हरियाणा के सीएम मनोहरलाल खट्टर

धमीजा के मुताबिक हरियाणा में गृह मंत्रालय खुद मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल के पास है. ऐसे में उन पर बड़ा सवाल है कि धारा 144 के बाद भी इतने लोग कैसे पहुंच गए. इससे पहले हरियाणा में लोगों ने जाट आंदोलन के दौरान भी तोड़फोड़ और आगजनी देखी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज