लाइव टीवी

डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे और 'नमस्ते ट्रंप' के आखिर क्या हैं मायने

अमिताभ सिन्हा | News18Hindi
Updated: February 24, 2020, 6:39 PM IST
डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे और 'नमस्ते ट्रंप' के आखिर क्या हैं मायने
अहमदाबाद में ट्रंप

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने ऐलान किया कि अपने दौरे के दूसरे दिन वे भारत के साथ कई महत्वपूर्ण रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे. इनमें अति आधुनिक हेलीकॉप्टर डील भी शामिल है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2020, 6:39 PM IST
  • Share this:
दुनिया के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के भारत दौरे का एक लम्बे समय से इंतज़ार था. ऐसा पहली बार हो रहा था कि एक विदेशी राजनेता का लाखों की रैली में सम्मान किया जा रहा हो. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने तैयारी की एक-एक बारीकियों पर नजर रखी और नतीजा गुजरात के मोटेरा स्टेडियम (Motera Stadium) में नज़र आ गया. अमेरिका से एक लंबी यात्रा कर सीधा अहमदाबाद पहुंचने के बाद बिना रुके ट्रंप परिवार सीधा साबरमती आश्रम और फिर मोटेरा स्टेडियम पहुंचा.

इंडिया अमेरिका फ्रेंडशिप
लांग लिव लांग लिव


पीएम मोदी ने इस बार इसी नारे से शुरुआत की और स्टेडियम में मौजूद लोगों ने भी उनके सुर में सुर मिलाया. राष्ट्रपति ट्रम्प ने जब बोलना शुरू किया तो साफ हो गया कि भारत अमेरिका संबंध अब पीछे मुड़ कर देखने वाले नहीं रहे. भाषणों में परस्पर संबंधों और एक दूसरे की तारीफ तो थी ही लेकिन पाकिस्तान से लेकर चीन तक को ये संदेश चला गया था कि दुनिया के दो सबसे बड़े लोकतंत्र अब शांति और विकास चाहते हैं.



ट्रंप का इस्लामिक कट्टरवाद पर हमला


राष्ट्रपति ट्रंप ने जैसे ही अपने भाषण में इस्लामिक कट्टरवाद का जिक्र किया, पूरा स्टेडियम ही तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा. मानो भारत की जनता अमेरिकी राष्ट्रपति से ये बात सुनने का इंतजार कर रही थी. ये पीएम मोदी की आक्रामक नीति का ही परिणाम है कि इस्लामिक कट्टरवाद और आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत और अमेरिका साथ नजर आने लगे हैं. ट्रंपअ की पाकिस्तान को झिड़कने की बात तो पीएम मोदी को भी भा रही थी.

रक्षा समझौतों में भारत का साथ अमेरिका के हित में
राष्ट्रपति ट्रंप ने ऐलान किया कि अपने दौरे के दूसरे दिन वे भारत के साथ कई महत्वपूर्ण रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे. इनमें अति आधुनिक हेलीकॉप्टर डील भी शामिल है. भारत अमेरिका से लड़ाकू विमानों, हेलीकॉप्टर और होवित्जर गन्स का सबसे बड़ा खरीददार बन कर उभरा है. ये बात और है कि अब भी फ्रांस, रूस जैसे देश भी हथियारों के बड़े सप्लायर हैं.

दरअसल शीत युद्ध और गुटनिरपेक्ष आंदोलन के दौर से निकलते हुए भारत ने अपनी विदेश नीति खासी बदल डाली है. पिछले 12 से 13 सालों में भारत अमेरिका रक्षा समझौते और व्यापार भारत के पुराने मित्र रूस से ज्यादा हो चुके हैं. चीन को काबू में करने के लिए अमेरिका को भारत की जरूरत है. पाकिस्तान से पनपते आतंकवाद को काबू में करने के लिए भारत का सहयोग चाहिए. पैसिफिक इलाके में भी जापान के साथ भारत भी संयुक्त एक्सरसाइज का हिस्सा बन गया है. इस लिए राष्ट्रपति ट्रंप ने भी कहा कि भारत सामरिक दृष्टि से भी अमेरिका के लिए खास महत्व रखता है.

मोदी के विकास के कामों की तारीफ
अपने भाषण की शुरुआत में ही ट्रंप ने पीएम मोदी की तारीफों के पुल बांध दिए. समाज के हर वर्ग को साथ लेकर चलने और विकास को गति देने वाला बताते हुए ये भी ऐलान कर दिया कि मोदी है तो मुमकिन है. मोदी ने भी ट्रंप और अमेरिका की तारीफ खूब की. लेकिन हाउडी मोदी के एक नारे को बोलने से बचे. वो नारा था 'अबकी बार ट्रंप सरकार' जो उन्होंने अमेरिका में कहा था.

लेकिन गुजरात में लाख लोगों की रैली और रोड शो ने दूर अमेरिका में बैठे वोटरों को संदेश जरूर दे दिया होगा कि यहां की पसंद क्या है. ज्ञात होना चाहिए कि अमेरिका में 4 बिलियन भारतीय मूल के लोग नागरिक हैं. 2 लाख से ज्यादा भारतीय छात्र भी वहां मौजूद हैं. भारतीय अब बड़े उद्योगपति, प्रोफेशनल, और कई राज्यों में चुनाव को प्रभावित करने का दम रखते हैं. पीएम मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप इससे भली भांति अवगत हैं.

विदेश नीति के माध्यम से भारत का हित साधना
जापान, चीन के राष्ट्राध्यक्षों के बाद राष्ट्रपति ट्रंप का ये दौरा काफी मायने रखता है. अमेरिका कृषि और व्यापार में भारत के हाई टैरिफ को लेकर अक्सर नाराजगी जताते रहता है. लेकिन ये पीएम मोदी की कूटनीति का असर है कि अमेरिका को अब इन सब से परे भारत का महत्व नजर आने लगा है. भारत ने फ्रांस से भी रक्षा समझौता किया और रूस से भी लेकिन अमेरिका के उद्योगों को भारत जैसा बड़ा बाजार मिल रहा हो तो छोटी बातों में उलझने से वो भी बच रहे हैं.

दौरे के आखिरी दिन व्यापार और रक्षा समझौतों पर बात होगी. कुछ समझौतों को अंतिम रूप दिया जाएगा. देर रात राष्ट्रपति ट्रंप जब वापस लौटेंगे तो ये सुकून होगा कि इस स्वागत के बाद उनके देश में भी भारतीय उनके लिए राह आसान करेंगे.

ये भी पढ़ें-
भारत के साथ ये 5 बड़ी डील करने वाले हैं ट्रंप, किया ये ऐतिहासिक ऐलान

मोटेरा स्टेडियम में बोले ट्रंप- PM मोदी मेरे अच्छे दोस्त, लेकिन हैं बहुत सख्त

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 24, 2020, 4:41 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading