होम /न्यूज /राष्ट्र /IBLA 2022: भारत का हित पहले देखा जाएगा, रूस से तेल खरीदने पर बोलीं निर्मला सीतारमण

IBLA 2022: भारत का हित पहले देखा जाएगा, रूस से तेल खरीदने पर बोलीं निर्मला सीतारमण

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण. (फाइल फोटो)

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण. (फाइल फोटो)

Nirmala Sitharaman in IBLA 2022: केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, "भारत के राष्ट्रीय हित, ऊर्जा संबंधी चिं ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को भारत के सबसे बड़े कॉर्पोरेट पुरस्कार समारोहों में से एक CNBC TV-18 के इंडिया बिजनेस लीडर अवार्ड (IBLA) को संबोधित किया और देश की अर्थव्यवस्था को लेकर विचार साझा किये. वित्त मंत्री ने कहा कि रूस से छूट पर तेल खरीदना स्वाभाविक है और भारत ने अधिक बैरल तेल मास्को से नई दिल्ली लाने के लिए प्रक्रिया शुरू भी कर दी है. वित्त वर्ष की शुरुआत के दिन सीतारमण ने कहा कि वह आने वाले साल को लेकर आशावादी थीं, लेकिन सावधानी के साथ.

उन्होंने कहा, “भारत के राष्ट्रीय हित, ऊर्जा संबंधी चिंताओं को पहले रखा जाना चाहिए. हमने रूसी तेल खरीदना शुरू कर दिया है. अगर हमें कम दरों पर पेशकश की जा रही है, तो हम ऐसा निर्णय क्यों नहीं लेते जिससे लोगों को फायदा हो.” सीतारमण ने कहा, “मैं अपनी ऊर्जा सुरक्षा और देश के हित को सबसे पहले रखूंगी. अगर तेल की आपूर्ति छूट पर उपलब्ध है, तो मुझे इसे क्यों नहीं खरीदना चाहिए? मैं घटनाक्रम का संज्ञान ले रही हूं, किसी भी आकस्मिक घटना का सामना करने के लिए जरूरी व्यवस्था कर रही हूं.”

‘भारत को जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम करनी चाहिए’
वित्त मंत्री ने आगे कहा कि भारत को जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम करनी चाहिए. उन्होंने कहा, “जलवायु परिवर्तन एक ऐसा मुद्दा है जिसके बारे में हमें जागरूक होना होगा और लोगों के हित में हमें जीवाश्म ईंधन से अक्षय ऊर्जा की ओर बढ़ने की जरूरत है, ईंधन के विकल्प के रूप में गैस बनाने की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि आपूर्ति घटती है और लागत बढ़ जाती है.”

क्रिप्टोकरेंसी पर कानून को लेकर कही ये बात
कृषि क्षेत्र के बारे में बात करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा, “हम देश के किसानों पर बोझ नहीं डाल सकते थे” और इसलिए केंद्र सरकार ने उर्वरक सब्सिडी से उत्पन्न होने वाले प्रभाव को सहन करने का फैसला किया. यह पूछे जाने पर कि क्या सरकार अपने अगले संसद सत्र में क्रिप्टोकरेंसी पर पेश किए गए कानूनों के साथ आगे बढ़ेगी, उन्होंने कहा कि केंद्र को “अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करना है”.

सीतारमण सीएनबीसी टीवी18 की शिरीन भान के साथ टाउनहॉल वार्ता को संबोधित कर रही थीं. उन्होंने कोटक महिंद्रा बैंक के एमडी उदय कोटक, नेस्ले के सीएमडी सुरेश नारायणन, इंफोसिस के सीईओ सलिल पारेख और बायोकॉन के प्रमुख किरण मजूमदार सहित अन्य लोगों के साथ भी बातचीत की.

Tags: Crude oil, India, Nirmala sitharaman, Russia

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें