कोरोनाः अस्पतालों में ऑक्सीजन और बेड की किल्लत पर क्या बोले पीएम मोदी?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना के खिलाफ उठाए गए कदमों की विस्तृत जानकारी दी है. (तस्वीर-ANI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना के खिलाफ उठाए गए कदमों की विस्तृत जानकारी दी है. (तस्वीर-ANI)

PM Narendra Modi on Supply of Oxygen: पीएम मोदी ने कहा, "इस बार कोरोना संकट में देश के अनेक हिस्सों में ऑक्सीजन की डिमांड बहुत ज्यादा बढ़ी है. इस विषय पर तेजी से और पूरी संवेदनशीलता के साथ काम किया जा रहा है."

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 20, 2021, 10:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने मंगलवार की शाम राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि देश में ऑक्सीजन की कमी को जल्द से जल्द दूर करने का अभियान चल रहा है. देश के कई हिस्सों में ऑक्सीजन की डिमांड बेहद तेजी से बढ़ी है. आपूर्ति बढ़ाने के लिए सरकार इस मसले पर काम कर रही है. राज्य सरकार, प्राइवेट सेक्टर सब मिलकर सरकार के साथ लगे हुए हैं. इंडस्ट्री के लिए सप्लाई होने वाले ऑक्सीजन को मेडिकल ऑक्सीजन में तब्दील किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि फॉर्मा सेक्टर ने दवाइयों का उत्पादन बढ़ा दिया है और इसे तेज किया जा रहा है. उन्होंने कहा, "मेरी देश की फॉर्मा इंडस्ट्री के बड़े लोगों से बात हुई है. प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए दवाई कंपनियों की मदद ली जा रही है. हम सौभाग्यशाली है कि हमारे देश के पास इतना बड़ा और मजबूत फॉर्मा सेक्टर है, जो तेजी से दवाइयां बनाता है."

पीएम मोदी ने कहा, "इस बार कोरोना संकट में देश के अनेक हिस्सों में ऑक्सीजन की डिमांड बहुत ज्यादा बढ़ी है. इस विषय पर तेजी से और पूरी संवेदनशीलता के साथ काम किया जा रहा है. केंद्र सरकार, राज्य सरकारें, प्राइवेट सेक्टर, सभी की पूरी कोशिश है कि हर जरूरतमंद को ऑक्सीजन मिले." उन्होंने कहा कि अस्पतालों में बेड की संख्या बढ़ाने का काम चल रहा है. कुछ शहरों में डिमांड को देखते हुए कोविड अस्पताल बनाए जा रहे हैं. प्रधानमंत्री ने कहा, "ऑक्सीजन प्रोडक्शन और सप्लाई को बढ़ाने के लिए भी कई स्तरों पर उपाय किए जा रहे हैं. राज्यों में नए ऑक्सीजन प्लांट्स हों, एक लाख नए सिलेंडर पहुंचाने हों, औद्योगिक इकाइयों में इस्तेमाल हो रही ऑक्सीजन का मेडिकल इस्तेमाल हो, ऑक्सीजन रेल हो, हर प्रयास किया जा रहा है."

कोरोना से पैदा हुए मौजूदा हालात पर प्रधानमंत्री ने कहा कि "पिछले साल की परिस्थितियां इस साल के मुकाबले अलग थीं. याद करिए कि कोरोना टेस्ट के लिए कोई लैब नहीं थी, पीपीई किट का प्रोडक्शन नहीं था, बीमारी के बारे में जानकारी नहीं, लेकिन हमने तेजी से सुधार किया. आज हमारे डॉक्टरों ने कोरोना का इलाज संभव किया है. पीपीई किट, लैब, टेस्टिंग की सुविधा के साथ हम ज्यादा तैयार हैं. देश ने बहुत मजबूती और धैर्य से लड़ाई लड़ी है. इसका श्रेय आप सभी को जाता है."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज