• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • मौलाना बोले, खबरदार राम-कृष्ण के खिलाफ जुबान खोली तो...

मौलाना बोले, खबरदार राम-कृष्ण के खिलाफ जुबान खोली तो...

मौलाना करीमी जमीयत उलेमा-ए-हिंद (हरियाणा, हिमाचल, पंजाब यूनिट) के अध्यक्ष हैं.

मौलाना करीमी जमीयत उलेमा-ए-हिंद (हरियाणा, हिमाचल, पंजाब यूनिट) के अध्यक्ष हैं.

मौलाना करीमी जमीयत उलेमा-ए-हिंद (हरियाणा, हिमाचल, पंजाब यूनिट) के अध्यक्ष हैं.

  • Share this:
शिया वक्फ बोर्ड अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर निर्माण की वकालत कर रहा है, सुन्नी वक्फ बोर्ड इसके सख्त खिलाफ है. जबकि एक सुन्नी धर्मगुरु मौलाना याहया करीमी ने मेवात में भगवान श्रीराम और कृष्ण के मान-सम्मान में ऐसा कुछ कहा कि हिंदू उनकी तारीफ करने के लिए मजबूर हो गए.

करीमी ने कहा कि इस्लाम में राम और कृष्ण या किसी भी धर्म पर सवाल उठाना गुनाह है. मौलाना करीमी जमीयत उलेमा-ए-हिंद (हरियाणा, हिमाचल, पंजाब यूनिट) के अध्यक्ष हैं. उन्होंने मेवात के एक कार्यक्रम में सभी को भगवान श्रीराम और कृष्ण का सम्मान करने की नसीहत दी.

करीमी ने कहा, "1.24 लाख नबी (अवतार) जमीन पर आए हैं. मजहब-ए-इस्लाम कहता है कि राम जी या कृष्ण जी या और किसी धर्म के लोग हो सकता है 572 ईस्वी से पहले अपने वक्त के नबी हों. इस्लाम मजहब ये कहता है कि खबरदार राम के खिलाफ जुबान खोली तो, खबरदार कृष्ण के खिलाफ जुबान खोली तो, खबरदार किसी मजहबी रहनुमा के खिलाफ जुबान खोली तो...."

करीमी ने धर्म के नाम पर कट्टरता फैलाने वालों को संदेश देते हुए कहा "वो कौम के गुंडे और गद्दार हैं जो दूसरे मजहब के लोगों पर उंगली उठाते हैं. बिना किसी मजहब का ध्यान रखते हुए अगर राम के बताए रास्ते पर चलना है तो सभी को मिलकर जुल्म के खिलाफ लड़ाई लड़नी पड़ेगी. जालिम को धर्म से न जोड़कर सिर्फ उसे गुनाहगार के तौर पर देखने की जरूरत है."

hindu, muslim, Nuh district, mewat, Haryana, Maulana Yahya Karimi, lord rama, lord Krishna, Jamiat Ulema-e-Hind, ram mandir, ayodhya, Ram Janmabhoomi, sunni waqf board, shia waqf board, हिंदू, मुस्लिम, नूह जिला, मेवात, हरियाणा, मौलाना याहया करीमी, भगवान राम, भगवान कृष्ण, जमीयत उलेमा-ए-हिंद, राम मंदिर, अयोध्या, राम जन्मभूमि, सुन्नी वक्फ बोर्ड, शिया वक्फ बोर्ड           मौलाना याहया करीमी

करीमी ने कहा "हम सब आदमवंशी और मनुवंशी हैं. इसलिए हम सबको प्यार-मोहब्बत का बर्ताव करना चाहिए. मजहब किसी का सिर काटने की कैसे इजाजत दे सकता है. इसलिए हमारा मजहब इस्लाम हो, सनातन धर्म हो या कोई और, वह मोहब्बत का पैगाम देता है."

न्यूज 18 हिंदी से बातचीत में मौलाना ने कहा कि "जब हम किसी को ग़लत बोलेंगे तो वह हमारे धर्म के खिलाफ ऐसा ही बोलेगा. इसीलिए किसी को भी दूसरे धर्म पर उंगली नहीं उठानी चाहिए."

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज