• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • मुश्किल भरी लाइफ, नौकरी में शोषणः जज की पत्नी-बेटे को गोली मारने वाले गनर की कहानी

मुश्किल भरी लाइफ, नौकरी में शोषणः जज की पत्नी-बेटे को गोली मारने वाले गनर की कहानी

महिपाल (बीच में) ने शनिवार को सेशन जज की पत्नी और बेटे पर गोली चलाई थी.

महिपाल (बीच में) ने शनिवार को सेशन जज की पत्नी और बेटे पर गोली चलाई थी.

News18 की टीम उन जगहों तक पहुंची जहां महिपाल बड़ा हुआ, जहां उसका परिवार 8 साल पहले शिफ्ट हुआ था. हम जानना चाहते थे कि ऐसा क्या हुआ जो महिपाल ने उन्हीं लोगों पर गोली चला दी जिनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी उस पर थी.

  • Share this:
    रौनक कुमार गुंजन

    गुरुग्राम के आर्केडिया मार्केट में सेशन जज की पत्नी और बेटे को गोली मारने वाले गनर महिपाल सिंह (32) की जिंदगी परेशानियों से भरी रही है. उसकी पारिवारिक और प्रोफेशनल दोनों ही जिंदगी में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा था.

    News18 की टीम उन जगहों तक पहुंची जहां महिपाल बड़ा हुआ, जहां उसका परिवार 8 साल पहले शिफ्ट हुआ था. टीम ने उसके परिवार और उसे करीब से जानने वालों से बात की. हम जानना चाहते थे कि ऐसा क्या हुआ जो महिपाल ने उन्हीं लोगों पर गोली चला दी जिनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी उस पर थी.

    महिपाल के परिजन, दोस्तों, परिचितों और पड़ोसियों में एक भी शख्स ऐसा नहीं मिला जिसने कभी भी महिपाल को आक्रामक होते देखा हो. उसके दोस्तों ने यह भी बताया कि महिपाल ने चार साल पहले अपना धर्म बदल लिया था. इसका विरोध करने पर उसने अपने परिवार के कई लोगों से रिश्ता तोड़ लिया था.

    रिश्तेदारों ने न्यूज 18 को बताया कि उसके पिता शराब के नशे में अक्सर अपनी पत्नी से मारपीट करते थे.

    महिपाल अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था. उसके पैदा होने के तुरंत बाद प्रताड़ना से परेशान होकर उसकी मां ने पति से अलग होने का फैसला किया और वह अपने मायके में जाकर रहने लगी.

    महिपाल के मामा दानसिंह ने कहा, “महिपाल जब 70 दिन का था तब से मैंने उसे पाला है. बचपन में हमने उसे उसके पिता के बारे में नहीं बताया था. हम बस साल में एक बार उसे उसके पिता के परिवार से मिलवाने के लिए लेकर जाते थे.”

    2007 में हरियाणा पुलिस में शामिल हुआ था महिपाल


    महिपाल के लिए परेशानियां तब शुरू हुई जब 2007 में उसने हरियाणा पुलिस की मेरिट लिस्ट में जगह बनाई और नतीजे के दिन ही उसके पिता की मौत हो गई. एक साल बाद उसकी शादी विकास देवी से हो गई. उसके माता-पिता की तरह ही उसकी भी शादी टूट गई. शादी के कुछ वक्त बाद ही किसी झगड़े की वजह से उसकी पत्नी मायके चली गई.

    हालांकि बाद में वह वापस लौटी. अपनी जिंदगी को नए सिरे से शुरू करने के लिए महिपाल 2010 में अपनी पत्नी और मां के साथ 2010 में गुरुग्राम में शिफ्ट हो गया.

    गुरुग्राम पुलिस लाइन में महिपाल के ज्यादातर पड़ोसियों का कहना है कि उसकी शादीशुदा जिंदगी मुश्किलों से भरी रही, उसे कभी शांति नहीं मिली. उसके पड़ोसियों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि उनके घर से अक्सर लड़ाई-झगड़े की आवाज आती थी.

    एक पड़ोसी ने कहा, "महिपाल की पत्नी मीनू अक्सर उस पर चिल्लाती रहती थी. हालांकि, ऐसा बहुत कम हुआ जब महिपाल ने आवाज ऊंची करके बात की हो.” उन्होंने बताया शाम को काम से लौटने के बाद दोनों के बीच अक्सर लड़ाई होती थी. महिपाल और उसकी पत्नी के साथ उसकी मां और दो बेटियां भी रहती थीं.

    साल 2014 में महिपाल ने ईसाई धर्म अपना लिया था. उसके कई रिश्तेदारों ने उसके धर्म परिवर्तन का विरोध किया था. इसके बाद उसने अपने पिता के गांव जाना बंद कर दिया था. वह केवल अपने मामा के परिवार से मिलने कोसली जाया करता था.

    मिली जानकारी के अनुसार 14 अक्टूबर (जिस दिन उसे जज की पत्नी और बेटे को गोली मारी) से पहले तीन-चार दिनों से वह सोया नहीं था. उसके दोस्तों ने बताया, “इस दौरान वह काफी चिड़चिड़ा हो गया था.”

    जज कृष्ण कांत की पत्नी ऋतु पर महिपाल ने दो गोलियां चलाई थी. ऋतु की शनिवार-रविवार की दरमियानी रात मौत हो गई थी. सोमवार को ऋतु का हिसार में अंतिम संस्कार किया गया. वहीं बेटे ध्रुव को डॉक्टरों ने ब्रेन डेड घोषित कर दिया गया है. महिपाल को जज के पर्सनल सिक्योरिटी गार्ड के तौर पर तैनात किया गया था.

    महिपाल के दोस्तों का कहना है कि वह अपनी नौकरी से भी खुश नहीं था. उसे जज के परिवार के साथ मार्केट जाना या उनके घर के काम करना पसंद नहीं था. उसके दोस्त कैलाश ने कहा, "वह पुलिस का जवान था लेकिन उसे घरेलू नौकर की तरह एक्सप्लॉइट किया जा रहा था."

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज