Assembly Banner 2021

पुडुचेरी में अब क्या करेगी भाजपा? आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली पर टिकी हैं निगाहें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (ANI/24 Feb 2021)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (ANI/24 Feb 2021)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) गुरुवार को एक रैली करेंगे. जिसमें पुडुचेरी (Puducherry) में बीजेपी के राजनीतिक भविष्य को लेकर कुछ ऐलान हो सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 25, 2021, 11:40 AM IST
  • Share this:
पुडुचेरी. पुडुचेरी (Puducherry) में अब कांग्रेस (Congress) की सरकार नहीं है. बुधवार को केंद्र की अनुशंसा पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ramnath Kovind) ने केंद्र शासित प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की अनुमति दे दी है. ऐसा 40 सालों में पहली बार हुआ जब दक्षिण के किसी भी राज्य में कांग्रेस की सरकार नहीं है. कई विधायकों के इस्तीफा देने के बाद कांग्रेस की सरकार सदन में बहुमत साबित नहीं कर पाई. जिसके बाद वी नारायाणसामी के अगुआई वाली सरकार गिर गई. ऐसे में अब यह सवाल उठ रहे हैं कि आखिर भारतीय जनता पार्टी यहां क्या करेगी? माना जा रहा है कि हाल के दिनों में पुडुचेरी में जो हुआ वह कोई अचानक हुई घटना नहीं है. साल 2016 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद जब कांग्रेस ने नारायणसामी को राज्य की कमान सौंपी तो तभी से स्थानीय नेता उनके खिलाफ थे.

हालांकि पूर्ववर्ती यूपीए सरकार के दौरान राज्यमंत्री रहे नारायणसामी तभी गांधी परिवार के नजर में आ चुके थे. हालांकि अपनी बारी का इंतजार कर रहे कई नेताओं का धैर्य इस कदर जवाब दे गया कि सरकार गिर गई.

पीएम की रैली पर निगाहें
अभी तक राज्य में एक बार भी भारतीय जनता पार्टी या उसके गठबंधन की सरकार नहीं आई. पिछले चुनाव में भी भाजपा को एक भी सीट नहीं आई थी. हालांकि इस बार के विधानसभा चुनाव में भाजपा मजबूती के साथ उतर रही है. यह बात दीगर है कि राज्य की कांग्रेस सरकार के शुरू के दिनों से ही पूर्व उपराज्यपाल रहीं किरण बेदी से अच्छे संबंध नहीं थे. कांग्रेस लगातार यह मांग कर  रही थी कि बेदी को पद से हटाया जाए. राज्य में मचे राजनीतिक घमासान से पहले ही बेदी को पद से हटा दिया गया ताकि मौजूदा संकट का ठीकरा भाजपा और उपराज्यपाल पर ना फूटे.
इतना ही नहीं पुडुचेरी में जो हुआ है उसका असर तमिलनाडु के चुनाव में भी देखने को मिल सकता है. राज्य में कांग्रेस, डीएमके के गठबंधन की सरकार गिरने से चेन्नई में भी इस गठबंधन के खिलाफ संदेश जा सकता है. इसके साथ ही दोनों दलों के बीच दूरियां भी बढ़ सकती हैं. राज्य में गुरुवार को पीएम नरेंद्र मोदी की रैली है. माना जा रहा है कि इस रैली में AIADMK, NR कांग्रेस और भाजपा के गठबंधन पर औपचारिक ऐलान कर सकते हैं.



पूर्व सीएम नारायणसामी ने की अपील
बता दें पुडुचेरी के पूर्व सीएम मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी और उनके मंत्रिमंडल के सदस्यों ने सोमवार को विश्वासमत पेश किए जाने के बाद मत विभाजन से पूर्व उप राज्यपाल तमिलिसाई सौंदरराजन को अपने इस्तीफा सौंप दिये.

विधानसभा में पेश किए गए विश्वासमत प्रस्ताव पर मतदान से पहले ही मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी और सत्तारूढ़ पार्टी के अन्य विधायकों ने सदन से बहिर्गमन किया था. इसके बाद मुख्यमंत्री राजनिवास पहुंचे और उप राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपा.

वहीं, वी नारायणसामी ने बुधवार को कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में मतदाताओं को भाजपा, एआईएनआरसी और अन्नाद्रमुक गठबंधन को समर्थन नहीं देना चाहिए क्योंकि इन दलों को, संघ शासित प्रदेश का तमिलनाडु में विलय करने में कोई हिचक नहीं होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज