कर्नाटक: 14 विधायकों के इस्तीफे के बाद क्या होगा? जानें सभी समीकरण

अगर ये इस्तीफे स्वीकार हो जाते हैं तो सदन की कुल विधायकों की संख्या घटकर 210 हो जाएगी. इसके बाद कैसी होगी विधानसभा की तस्वीर?

News18Hindi
Updated: July 7, 2019, 7:56 AM IST
कर्नाटक: 14 विधायकों के इस्तीफे के बाद क्या होगा? जानें सभी समीकरण
अगर ये इस्तीफे स्वीकार हो जाते हैं तो सदन की कुल विधायकों की संख्या घटकर 210 हो जाएगी. इसके बाद कैसी होगी विधानसभा की तस्वीर?
News18Hindi
Updated: July 7, 2019, 7:56 AM IST
कर्नाटक की राजनीति में सरकार बनने के बाद तीसरी बार बड़ा उलटफेर हुआ. शनिवार को कांग्रेस और जनता दल सेक्युलर के 14 विधायकों ने पद से इस्तीफा दे दिया. अब तक 11 विधायकों के इस्तीफे विधानसभा स्पीकर रमेश कुमार की मेज पर हैं. रमेश कुमार ने कहा कि वह इन इस्तीफों पर मंगलवार को फैसला करेंगे. दावा किया जा रहा है कि विधानसभा स्पीकर के समक्ष तीन और इस्तीफे पहुंचे हैं.

वहीं इस्तीफा देने वाले 14 में से 10 विधायक स्पेशल फ्लाइट में मुंबई चले गए हैं. पहले खबर थी कि सभी विधायक गोवा गए. यह इस्तीफे ऐसे वक्त हुए जब कांग्रेस और जेडीएस के बड़े नेता देश में ही नहीं थे. एक ओर कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडु राव, ब्रिटेन थे तो राज्य के सीएम एचडी कुमारस्वामी, अमेरिका में थे.

जेडीएस नेता और पूर्व प्रधानमंत्री देवेगौड़ा ने इस पूरे घटनाक्रम पर कोई टिप्पणी करने ही मना कर दिया तो वहीं कांग्रेस की कर्नाटक इकाई के राज्य प्रभारी केसी वेणुगोपाल, बेंगलुरु पहुंचे और वहां कांग्रेस के विधायकों से मुलाकात की. खबर है कि कांग्रेस के विधायकों को शनिवार-रविवार की दरम्यानी रात स्पेशल फ्लाइट से किसी दूसरे राज्य में भेज दिया जाएगा. हालांकि इस खबर की पुष्टि नहीं की जा सकी.

यह भी पढ़ें:  कर्नाटक : विधायकों को दूसरे राज्य में लेकर जाएगी कांग्रेस!

अब क्या होगा विधानसभा का हाल?

शनिवार को हुए इस्तीफों से पहले 224 सदस्यों वाली कर्नाटक विधानसभा में 78 सीट कांग्रेस, 37 जेडीएस, बसपा, 1, निर्दलीय-2, बीजेपी 105 और अन्य अन्य के खाते में कुल 1 सीटे हैं. गठबंधन का दावा है कि उनके समर्थन में 118 विधायक हैं.


Loading...

अगर ये इस्तीफे स्वीकार हो जाते हैं तो सदन की कुल विधायकों की संख्या घटक 210 हो जाएगी. इसके बाद बहुमत के लिए 113 के बजाए 106 सीटों की जरूरत होगी. ऐसा होने पर कांग्रेस-जेडीएस सरकार में विधायकों की संख्या 104 ही रह जाएगी, जो बहुमत से दो सीट कम होगा.

यह भी पढ़ें:   इस्तीफे फाड़ने के आरोप पर DK शिवकुमार- मैंने बड़ा रिस्क लिया

BJP के पास 105 सीटें

वहीं बीजेपी के पास अपनी 105 सीटें हैं ऐसे में उन्हें सिर्फ 1 विधायक की जरूरत है. अगर सभी विधायकों के इस्तीफे स्वीकार कर लिए जाते हैं तो एक ओर जहां बीजेपी के लिए सरकार बनाने के मौका बढ़ जाएगा वहीं कांग्रेस-जेडीएस की सरकार गिर जाएगी.

इस्तीफा देने वाले कांग्रेस के विधायकों में प्रतापगौड़ा पाटील (मस्की), बी.सी. पाटील (हिरेकेरुर), रमेश जरकीहोली (गोकक), शिवराम हेब्बर (येल्लापुर), महेश कुमताहल्ली (अथानी), रामालिंगा रेड्डी (बीटीएम लायौट), एस.टी. सोमशेकर (यशवंतपुर) और एस.एन. सुब्बा रेड्डी (कोलार में केजीएफ) शामिल हैं. कांग्रेस विधायक आनंद सिंह ने भी पहली जुलाई को इस्तीफा दे दिया था. उन्होंने खुद अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष को सौंपा था ऐसे में उनका इस्तीफा स्वीकार हो चुका है.

वहीं जेडीएस से नारायण गौड़ा, गोपालैया और एच विश्वनाथ ने इस्तीफा दिया है.

यह भी पढ़ें:    'किसी ऑपरेशन कमल नहीं बल्कि स्वेच्छा से दिया इस्तीफा'
First published: July 7, 2019, 6:50 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...