जब 12वीं के छात्रों संग चर्चा में पीएम नरेंद्र मोदी से बोलीं एक महिला, आपसे मिल शाहरुख खान को भूली; देखें VIDEO

पीएम मोदी ने इस चर्चा के दौरान छात्रों से उनका हालचाल पूछा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीबीएसई छात्रों एवं उनके अभिभावकों के साथ बातचीत के दौरान पूछा कि 12वीं कक्षा की परीक्षाएं रद्द होने की बात सुनकर उन्हें कैसा महसूस हुआ.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश में CBSE की 12वीं की परीक्षा रद्द (12th Board Exam Cancel) करने के बाद आज अचानक पीएम नरेंद्र मोदी छात्रों के साथ वर्चुअल संवाद करने पहुंच गए. पीएम (PM Narendra Modi) को अचानक अपने बीच पाकर छात्र खुश हो गए और परीक्षा रद्द होने को लेकर अपनी फीलिंग शेयर करने लगे. लेकिन इसी बीच एक रोचक वाकया हुआ. दरअसल, पीएम मोदी बच्चों के माता-पिता से भी संवाद कर रहे थे. इसी दौरान एक महिला ने कहा कि उनको बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान से मिलकर उतना अच्छा नहीं लगा जितना पीएम मोदी से मिलकर लगा. महिला ने कहा कि ये सपना सच होने के समान है. यह सुनकर पीएम मोदी मुस्कुराने लगे.

    पीएम मोदी ने इस चर्चा के दौरान छात्रों से उनका हालचाल पूछा. उन्होंने बच्चों से फिजिकल फिटनेस से लेकर उनके रोजाना के दिनचर्या के बारे में पूछा. उन्होंने छात्रों से मजाक भी किया. छात्रों ने पीएम मोदी को 12वीं की परीक्षा रद्द करने के लिए उनका धन्यवाद भी किया. पीएम से वर्चुअली मिलकर छात्र काफी खुश दिख रहे थे. उन्होंने कहा कि परीक्षा पर संशय की स्थिति के कारण वो मुश्किल में थे. इसलिए परीक्षा रद्द करने का फैसला उस मुश्किल से निकलने वाला है.

    देखें VIDEO...


    12वीं की परीक्षाएं रद्द होने के बाद कैसा महसूस हुआ?
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीबीएसई छात्रों एवं उनके अभिभावकों के साथ बातचीत के दौरान पूछा कि 12वीं कक्षा की परीक्षाएं रद्द होने की बात सुनकर उन्हें कैसा महसूस हुआ. मोदी ने छात्रों से सवाल किया कि परीक्षा रद्द होने के बाद वे अपना कैसे समय बिताएंगे; क्या वे आईपीएल, चैंपियंस लीग देखेंगे या ओलंपिक की प्रतीक्षा करेंगे.

    ये भी पढ़ेंः- महाराष्ट्र में 5 फेज में होगा अनलॉक, जहां 5% पॉजिटिविटी रेट, वहां मिलेगी राहतः सरकार

    प्रधानमंत्री मोदी ने छात्रों से कहा कि स्वास्थ्य ही धन है. उनसे सवाल किया कि वे शारीरिक रूप से फिट रहने के लिए क्या करते हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने छात्रों से कहा कि उन्हें परीक्षाओं को लेकर कभी भी तनाव में नहीं रहना चाहिए, परीक्षाएं रद्द करने का फैसला उनके हित में लिया गया है. प्रधानमंत्री मोदी ने 12वीं कक्षा के छात्रों और उनके अभिभावकों के साथ संवाद में कहा कि भारत का युवा सकारात्मक और व्यवहारिक है.