अरुण जेटली ने जिस स्‍कूल में अपने बच्‍चों को पढ़ाया, वहीं ड्राइवर-रसोइया के बच्‍चों को भी पढ़ाया

News18Hindi
Updated: August 24, 2019, 10:29 PM IST
अरुण जेटली ने जिस स्‍कूल में अपने बच्‍चों को पढ़ाया, वहीं ड्राइवर-रसोइया के बच्‍चों को भी पढ़ाया
बीजेपी नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का लंबी बीमारी के बाद शनिवार दोपहर निधन हो गया.

पूर्व वित्त मंत्री (Finance Minister) अरुण जेटली (Arun Jaitley) का लंबी बीमारी के बाद शनिवार दोपहर 12 बजकर 07 मिनट पर एम्स में निधन हो गया. अरुण जेटली को पेट में संक्रमण के बाद एम्स (AIIMS) में भर्ती कराया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 24, 2019, 10:29 PM IST
  • Share this:
बीजेपी (BJP) नेता और पूर्व वित्त मंत्री (Finance Minister) अरुण जेटली (Arun Jaitley) न केवल पार्टी में बल्कि विपक्ष (Opposition) में भी अच्छी पकड़ रखते थे. अरुण जेटली अपने साथ काम करने वाले कर्मचारियों को वैसा ही सम्मान देते थे जैसा वह किसी वरिष्ठ नेता या फिर परिवार के किसी सदस्य को दिया करते थे. अरुण जेटली अपने घर पर काम करने वाले सभी कर्मचारियों को परिवार का हिस्सा मानते थे. यही कारण है कि उनके साथ जुड़ा हर एक शख्स उनसे काफी प्यार किया करता था.

बिजनेस स्टैंडर्ड में छपे एक इंटरव्यू में जेटली के राजनीतिक सचिव रहे ओम प्रकाश शर्मा ने बताया था कि अरुण जेटली के घर पर काम करने वाले कर्मचारियों के बच्चे उसी स्कूल में पढ़ा करते थे जहां पर खुद जेटली के बच्चों ने पढ़ाई की थी. ये स्कूल चाणक्यपुरी स्थित कार्मल कॉन्वेंट स्कूल है. यही नहीं अगर किसी कर्मचारी का बच्चा विदेश में पढ़ाई करने का इच्छुक होता था तो उसे विदेश में उसी यूनिवर्सिटी में पढ़ने भेजा जाता था, जहां खुद उनके बच्चों ने पढ़ाई की थी. खास बात ये है कि इन सभी कर्मचारियों के बच्चों की पढ़ाई की जिम्मेदारी जेटली ही उठाया करते थे.

BJP, Arun Jaitley, Opposition, Narendra Modi, Ministry of Finance, Lawyers, AIIMS
बीजेपी नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली को पेट में संक्रमण के बाद एम्स में भर्ती कराया गया था.


बताया जाता है कि जेटली के परिवार के लिए खाने-पीने की व्यवस्था करने वाले जोगेंद्र की दो बेटियों में से एक लंदन में पढ़ रही हैं. संसद में जेटली के साथ हर समय साए की तरह रहने वाले सहयोगी गोपाल भंडारी का एक बेटा डॉक्टर है जबकि दूसरा इंजीनियर है. बताते हैं कि जिन कर्मचारियों के बच्चे एमबीए या कोई प्रोफेशनल कोर्स करना चाहते थे, उनके लिए अरुण जेटली फीस से लेकर नौकरी तक की व्यवस्था करते थे.

सहायक के बेटे को गिफ्ट में दे दी थी कार
अरुण जेटली आर्थिक तंगी में भी पढ़ने वाले बच्चों से बेहद प्रभावित होते थे. जब कभी भी वह किसी ऐसे प्रतिभावान बच्चे को देखते तो उसकी हर मुमकिन मदद करने की कोशिश में जुट जाते थे. साल 2005 में उन्होंने अपने सहायक रहे ओपी शर्मा के बेटे चेतन को लॉ की पढ़ाई के दौरान अपनी 6666 नंबर की एसेंट कार गिफ्ट दी थी.

इसे भी पढ़ें :-
Loading...

अरुण जेटली के बेटे ने PM मोदी से कहा- आप देश के लिए बाहर गए हैं, दौरा रद्द न करें
जानिए अरुण जेटली के परिवार के सदस्यों के बारे में, क्या करते हैं उनके बच्चे
अरुण जेटली के निधन पर भावुक हुए क्रिकेटर गौतम गंभीर, बताया पिता तुल्य
अरुण जेटली ने अंतिम समय में इन लोगों को किया याद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 24, 2019, 3:03 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...