भारत में प्रत्यर्पण के डर से एंटीगा से क्यूबा भाग गया फरार कारोबारी मेहुल चौकसी!

मेहुल चौकसी  File pic)

मेहुल चौकसी File pic)

मेहलु चौकसी (Mehul Choksi) ने जनवरी 2018 में भारत से भागने से पहले ही, 2017 में कैरेबियाई द्वीपीय देश एंटीगा एवं बारबुडा (Antigua and Barbuda) की नागरिकता हासिल कर ली थी.

  • Share this:

नई दिल्ली. एंटीगा और बारबुडा ( Antigua and Barbuda) में रह रहा भगोड़ा हीरा व्यापारी मेहुल चौकसी (Mehul Choksi) लापता हो गया है और रविवार से ही पुलिस उसकी तलाश में जुटी है.  कैरेबियाई द्वीपीय देश की ‘रॉयल पुलिस फोर्स’ ने एक बयान में यह जानकारी दी. चौकसी पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में वांछित है. वह जनवरी 2018 से इस देश में रह रहा है.

अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि चौकसी के खिलाफ लगे आरोपों की जांच कर रही सीबीआई ने इस खबरों ‘औपचारिक और अनौपचारिक’ मंचों के जरिए पुष्टि कर रही है. इंटरपोल ने भी एजेंसी के अनुरोध पर उसके खिलाफ ‘रेड कॉर्नर नोटिस’ जारी किया है.

क्यूबा भाग गया मेहुल?

वहीं कुछ रिपोर्ट्स में एंटीगा और बारबुडा में स्थानीय स्रोतों और खबरों का हवाला देते हुए दावा किया है कि चौकसी ने क्यूबा (Mehul Choksi In Cuba) चला गया है. यह एंटीगा से 1,700 किमी उत्तर-पश्चिम में स्थित है. एंटीगा से क्यूबा के लिए फ्लाइट के लिए 2 घंटे का समय लगता है.
क्यूबा से नहीं है भारत की प्रत्यर्पण संधि

WIC न्यूज़ नाम के एक पोर्टल ने चौकसी के एक करीबी सहयोगी के एक परिचित के हवाले से कहा कि भगोड़ा हीरा व्यापारी भारत में प्रत्यर्पण के डर से क्यूबा चला गया. रिपोर्ट में कहा गया है कि चोकसी क्यूबा में एक सेफ हाउस में रह रहा है.

बता दें क्यूबा उन देशों में शामिल नहीं है जिनकी भारत के साथ प्रत्यर्पण संधि या कोई समझौता है. इसका मतलब है कि चौकसी को वापस देश में लाने की प्रक्रिया को कागजी कार्रवाई और बातचीत के कई और दौर से गुजरना पड़ सकता है.



चौकसी के लापता होने का समय है अहम!

चौकसी के लापता होने का समय भी अहम हैं. एंटीगा ने भारत को आश्वासन दिया था कि जब चौकसी के सभी कानूनी रास्ते खत्म हो जाएंगे तो वह उसे भारत वापस भेज देगा. इस साल मार्च में एंटीगा के पीएम गैस्टन ब्राउन ने भारत और पीएम नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया. एंटीगा को भारत ने कोविड-19 वैक्सीन दिये थे. इस पर ब्राउन ने कोविड -19 के खिलाफ उसकी लड़ाई में 'उदारता और निस्वार्थ भाव से' मदद करने के लिए भारत की सराहना की थी.


उधर, सीबीआई के एक अज्ञात अधिकारी ने कहा कि एजेंसी को चौकसी के लापता होने के बारे में आधिकारिक तौर पर सूचित नहीं किया गया. जिसकी पुष्टि उनके वकील विजय अग्रवाल ने की थी. भारतीय समाचार संस्थाओं से बात करने वाले एंटीगा के अधिकारियों और सूत्रों ने कहा कि उनके पास चौकसी के मौजूदा ठिकाने की कोई जानकारी नहीं है और पुलिस ने उसका पता लगाने के प्रयास शुरू कर दिए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज