WHO ने भारतीय कोरोना वैरिएंट को माना वैश्विक चिंता का सबब, जानें क्या है इसका मतलब

भारत में दूसरी लहर के लिए इस वैरिएंट को जिम्मेदार माना जा रहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

भारत में दूसरी लहर के लिए इस वैरिएंट को जिम्मेदार माना जा रहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

इस वैरिएंट (Indian Covid Variant) को B.1.617 कहा जा रहा है. अभी इस वैरिएंट को लेकर वैज्ञानिक जांच जारी है. ये वैरिएंट अभी तक दुनिया के 17 देशों में फैल चुका है. कई देशों ने भारत से यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया है.

  • Share this:

नई दिल्ली. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भारत में मिले कोरोना वैरिएंट (Covid-19 Variant) को चिंता का कारण माना है. संगठन ने वैरिएंट को ग्लोबल वैरिएंट ऑफ कंसर्न ((global variant of concern)) की श्रेणी में रखा है. इस वैरिएंट को B.1.617 कहा जा रहा है. अभी इस वैरिएंट को लेकर वैज्ञानिक जांच जारी है. ये वैरिएंट अभी तक दुनिया के 17 देशों में फैल चुका है. कई देशों ने भारत से यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक किसी भी वैरिएंट को चिंताजनक तब माना जाता है जब उसमें संक्रमण की क्षमता अधिक दिखती है या फिर मूल स्वरूप में कोई अन्य बदलाव दिखते हैं. किसी भी वैरिएंट को चिंताजनक घोषित करने के पहले इवोल्यूशन वर्किंग ग्रुप से सलाह ली जाती है. बीते सप्ताह भारत सरकार ने कहा था कि देश में कोरोना के नए मामलों की बाढ़ के पीछे इस वैरिएंट का हाथ हो सकता है. इसे डबल म्यूटेंट भी कहा जा रहा है.

इससे पहले भी कई वैरिएंट्स बने हैं चिंता का सबब

इससे पहले यूके, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका के कोरोना वैरिएंट्स को चिंताजनक माना गया है. संक्रमण की रफ्तार के मामले में सबसे ज्यादा घातक यूके वैरिएंट को माना जाता है. ये सामान्य कोरोना वायरस से 70 गुना ज्यादा अधिक रफ्तार से संक्रमण पैदा करता है. यही वजह रही कोरोना की पहली लहर के बाद जब इस वैरिएंट का प्रकोप बढ़ा तो यूनाइटेड किंगडम में भी पूरी स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई थी.
डॉ. सौम्‍या स्‍वामीनाथन ने कहा -भारतीय डबल म्‍यूटेंट कोरोना वायरस अधिक संक्रामक

डब्‍ल्‍यूएचओ की चीफ साइंटिस्‍ट डॉ. सौम्‍या स्‍वामीनाथन ने कहा है कि भारतीय डबल म्‍यूटेंट कोरोना वायरस अधिक संक्रामक है, लेकिन यह वैक्सीन के प्रति प्रतिरोधक नहीं है. डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने कहा कि एक प्रारंभिक आंकड़े से पता चला है कि भारतीय डबल म्‍यूटेंट अधिक संक्रामक है, जिससे देश में संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है. उन्‍होंने इस दौरान लोगों से कोरोना वैक्‍सीन लगाने की अपील करते हुए कहा कि टीकाकरण महत्वपूर्ण है क्योंकि यह कोरोना वायरस की गंभीरता को कम करेगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज