Home /News /nation /

यूरोप में कोरोना के कहर पर WHO की आशंका, दिसंबर तक जान गंवा सकते हैं 2 लाख से ज्यादा लोग

यूरोप में कोरोना के कहर पर WHO की आशंका, दिसंबर तक जान गंवा सकते हैं 2 लाख से ज्यादा लोग

WHO प्रमुख टेड्रोस अदहानोम गेब्रेयेसस.

WHO प्रमुख टेड्रोस अदहानोम गेब्रेयेसस.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने यह आशंका भी जाहिर की है कि इस साल 1 दिसंबर तक यूरोप में कोरोना की वजह से 2 लाख 36 हजार लोगों की मौत भी हो सकती है.

    नई दिल्ली. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने यूरोपीय देशों में कोरोना वैक्सीनेशन (Covid Vaccination) की धीमी पड़ी रफ्तार पर गंभीर चिंता जाहिर की है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने यह आशंका भी जाहिर की है कि इस साल 1 दिसंबर तक यूरोप में कोरोना की वजह से 2 लाख 36 हजार लोगों की मौत भी हो सकती है. बता दें कि इस वक्त यूरोपीय देशों में कोरोना के डेल्टा वैरिएंट ने कहर मचाया हुआ है. यूरोप में वैक्सीनेशन की रफ्तार में भी कमी देखी गई है. हालांकि इससे पहले तक विश्व स्वास्थ्य संगठन गरीब देशों में वैक्सीनेशन को लेकर चिंतित रहा है. यही कारण है कि कुछ यूरोपीय देशों की तरफ से बूस्टर डोज की शुरुआत को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अनिच्छा जाहिर की थी.

    वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की यूरोप शाखा के प्रमुख ने कहा है कि वह अमेरिकी सरकार के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ की इस बात से सहमत है कि कोविड-19 रोधी टीके की तीसरी खुराक अतिसंवेदनशील लोगों को संक्रमण से बचाने में सहायता कर सकती है. डॉ हंस क्लुगे ने संक्रमण के अधिक प्रसार को बेहद चिंताजनक बताते हुए कहा कि डब्ल्यूएचओ यूरोप क्षेत्र में शामिल 53 में से 33 देशों में पिछले एक सप्ताह से ज्यादा समय में मामलों में 10 प्रतिशत या इससे अधिक की वृद्धि हुई है.

    ब्रिटेन में 12-15 आयुवर्ग में वैक्सीनेशन की तैयारी
    इस बीच ब्रिटेन से खबर आई थी कि वहां 12-15 वर्ष के आयुवर्ग के बच्चों के टीकाकरण की तैयारी की जा रही. हालांकि देश की टीका परामर्शदाता समिति ने इस टीकाकरण अभियान को अभी मंजूरी नहीं दी है.

    स्वास्थ्य विभाग की ओर से कहा गया कि मंजूरी मिलते ही वह टीकाकरण अभियान आरंभ करने के लिए तैयार है. विभाग ने कहा कि देश के ज्यादातर हिस्सों में नया अकादमिक वर्ष आरंभ होने के साथ ही वह स्कूलों में टीके पहुंचाने के लिए भी तैयार है. सितंबर में यहां स्कूल खुलने वाले हैं और ब्रिटेन में पहले से ऊंची कोरोना वायरस संक्रमण दर के और भी बढ़ने की आशंका है.

    दक्षिण अफ्रीका के नए वैरिएंट की पैदा की चिंता
    वहीं कोविड-19 का एक नया वेरिएंट दुनियाभर के लिए चिंता का सबब बनकर उभरा है. C.1.2 नाम का ये वेरिएंट दक्षिण अफ्रीका में मिला है. इस वेरिएंट पर हुई एक स्टडी में दावा किया गया है कि ये दुनियाभर में फैल सकता है और मौजूदा सभी कोरोना वैक्सीन को चकमा दे सकने में सक्षम है.

    दक्षिण अफ्रीका के नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ कम्युनिकेबल डिजीज (NCID) की स्टडी में सामने आया है कि ये वेरिएंट पहले के सभी वेरिएंट से ज्यादा संक्रामक हो सकता है. ये वेरिएंट सबसे पहले अफ्रीका में बीते मई महीने में पाया गया था. इसके बाद से अब तक इस वेरिएंट के मरीज चीन, कांगो, मॉरिशस, इंग्लैंड, न्यूज़ीलैंड, पुर्तगान और स्विट्जरलैंड में मिल चुके हैं.

    Tags: Delta Variant, WHO

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर