• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • New Air Chief Marshal: कौन हैं एयर मार्शल वीआर चौधरी जो बने हैं नए वायुसेना प्रमुख

New Air Chief Marshal: कौन हैं एयर मार्शल वीआर चौधरी जो बने हैं नए वायुसेना प्रमुख

चौधरी 30 सितंबर को निवर्तमान वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया की सेवानिवृत्ति के बाद पदभार संभालेंगे. (Photo: Twitter/@SpokespersonMoD)

चौधरी 30 सितंबर को निवर्तमान वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया की सेवानिवृत्ति के बाद पदभार संभालेंगे. (Photo: Twitter/@SpokespersonMoD)

New Air Chief Marshal: चौधरी को मिग-21, मिग-23 एमएफ, मिग-29 और सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमानों के परिचालन उड़ान समेत 3,800 घंटे से अधिक के उड़ान का अनुभव है. चौधरी को परम विशिष्ट सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक और वायु सेना पदक से नवाजा जा चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. एयर मार्शल वीआर चौधरी को नया वायुसेना (New Air Chief Marshal VR Chaudhari) प्रमुख नियुक्त किया गया है. वह 30 सितंबर को निवर्तमान वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया की सेवानिवृत्ति के बाद पदभार संभालेंगे. दिसंबर 1982 में भारतीय वायु सेना की लड़ाकू धारा में शामिल हुए चौधरी को 3800 घंटे का फ्लाइंग एक्सपीरिएंस है. इसमें ऑपरेशन मेघदूत के दौरान जिसमें 1980 के दशक में सियाचिन ग्लेशियर पर कब्जा करने के लिए वायु सेना ने पूरा किया था. इसके साथ ही ऑपरेशन सफेद सागर (1999 में कारगिल संघर्ष के दौरान भारतीय वायुसेना द्वारा प्रदान की गई सहायता) जैसे मिशन को पूरा किया है.

    राष्ट्रीय रक्षा अकादमी और रक्षा सेवा स्टाफ कॉलेज, वेलिंगटन के पूर्व छात्र चौधरी,अपने करियर के दौरान एक फ्रंटलाइन फाइटर स्क्वाड्रन और एक फाइटर बेस की कमान संभाल चुके हैं. इसके अलावा वह वायु सेना अकादमी के डिप्टी कमांडेंट, सहायक वायुसेनाध्यक्ष संचालन (वायु रक्षा) और सहायक वायुसेनाध्यक्ष (कार्मिक अधिकारी) सहित कई अन्य पदों पर भी कार्य कर चुके हैं.

    ये भी पढ़ें- New Air Chief Marshal: एयर मार्शल वीआर चौधरी होंगे देश के अगले वायुसेना प्रमुख

    इस पदों को संभाल चुके हैं चौधरी
    इससे पहले, चौधरी वायु सेना मुख्यालय में वायु सेना के उप प्रमुख और पूर्वी वायु कमान में सीनियर एयर स्टाफ ऑफिसर के तौर पर कार्य कर चुके हैं. जुलाई में उप प्रमुख के रूप में पदभार ग्रहण करने से पहले, चौधरी ने पश्चिमी वायु कमान के कमांडर-इन-चीफ के तौर पर काम कर चुके हैं. यह पाकिस्तान और चीन के साथ दोनों सीमाओं के कुछ हिस्सों के लिए जिम्मेदार भारतीय वायुसेना की सबसे बड़ी वायु कमान है. पश्चिमी वायु कमान के पास लद्दाख की सुरक्षा की भी जिम्मेदारी है, जहां भारत और चीन के बीच मई 2020 से तनाव की स्थिति बनी हुई है.

    चौधरी को मिग-21, मिग-23 एमएफ, मिग-29 और सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमानों के परिचालन उड़ान समेत 3,800 घंटे से अधिक के उड़ान का अनुभव है. चौधरी को परम विशिष्ट सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक और वायु सेना पदक से नवाजा जा चुका है.

    बता दें आरकेएस भदौरिया ने सितंबर 2019 में बीएस धनोआ के सेवानिवृत्त हो जाने के बाद पदभार ग्रहण किया था. संयोग से, भदौरिया उस दिन सेवानिवृत्त होने वाले थे, लेकिन प्रमुख के रूप में उनकी नियुक्ति के बाद उनका कार्यकाल दो साल के लिए बढ़ गया. जून 1980 में वायु सेना के फाइटर स्ट्रीम में कमीशन प्राप्त भदौरिया ने स्वॉर्ड ऑफ ऑनर का खिताब जीता था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज