लाइव टीवी

कौन है शरजील इमाम जिसने कहा असम को भारत से अलग कर देंगे?

News18Hindi
Updated: January 25, 2020, 4:23 PM IST
कौन है शरजील इमाम जिसने कहा असम को भारत से अलग कर देंगे?
शरजील इमाम (फोटो सौ. फेसबुक प्रोफाइल)

कहा जा रहा है कि शरजील इमाम (Sharjeel Imam) शाहीन बाग में हो रहे धरना प्रदर्शन का मुख्य आयोजक था. वो सोशल मीडिया पर लोगों को लगातार इस धरने में शामिल होने की अपील करता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2020, 4:23 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बीजेपी के प्रवक्‍ता संबित पात्रा ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया है. जहां शरजील इमाम (Sharjeel Imam) नाम का एक शख्स असम को भारत से अलग करने की बात कर रहा है. वीडियो शेयर करते हुए संबित पात्रा ने लिखा है- दोस्तों, शाहीन बाग़ की असलियत देखें. इस वीडियो में शरजील कह रहा है, 'असम और इंडिया कटकर अलग हो जाए, तभी वह हमारी बात सुनेंगे. असम में मुसलमानों का क्या हाल है, आपको पता है क्या? वहां एनआरसी लागू हो गया है. मुसलमान डिटेंशन कैंप में डाले जा रहे हैं... 6-8 महीनों में पता चलेगा कि सारे बंगालियों को मार दिया गया वहां... अगर हमें असम की मदद करनी है तो हमें असम का रास्ता बंद करना होगा.'

बता दें कि न्यूज़ 18 इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है. आईए एक नज़र डालते हैं कि आखिर कौन है शरजील इमाम जो इस तरह के भड़काऊ  और विवादित बयान दे रहा है.

>>शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद का रहने वाला है. शरजील इमाम ने IIT बॉम्बे से कंप्यूटर इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है. कहा जाता है कि शरजील ने कुछ दिनों तक वहां पढ़ाया भी. ग्रेजुएशन के बाद दो साल तक उसने बेंगलुरु में एक सॉफ्टवेयर कंपनी में डेवेलपर के तौर पर काम किया.  2013 में जेएनयू में आधुनिक इतिहास में मास्टर्स करने के लिए एडमिशन लिया. यहां से उसने Mphil और फिर PHD भी किया.

>> शरजील आइसा में दो साल से अधिक रहा और एक साल के लिए इसकी कार्यकारिणी का सदस्य भी रहा. इसके अलावा उसने आइसा के प्रत्याशी के तौर पर काउंसलर के पद के लिए 2015 का जेएनयूएसयू चुनाव लड़ा.

>> कहा जा रहा है कि शरजील शाहीन बाग में हो रहे धरना प्रदर्शन का मुख्य आयोजक था. वो सोशल मीडिया पर लोगों को लगातार इस धरने में शामिल होने की अपील करता था. एक फेसबुक पोस्ट में शरजील ने लिखा है, 'शाहीन बाग का मॉडल चक्का जाम का है, बाक़ी सब सेकेंडरी हैं, चक्का जाम और धरने में फ़र्क समझिए, हर शहर में धरने कीजिए, उसमे लोगों को चक्का जाम के बारे में बताइए, और फिर तैयारी करके हाईवेज पर बैठ जाइए.'

>> दो जनवरी को एक फेसबुक पोस्ट में शरजील ने लिखा था कि वो हॉन्ग-कॉन्ग की तर्ज पर भीड़ को इकट्ठा करना चाहता है. कहा जा रहा है कि इसको लेकर उसने तैयारियां भी शुरू कर दी थी.

>> पिछले साल राम मंदिर पर फैसला आने के बाद शरजील इमाम ने सोशल मीडिया पर Justice Denied नाम से एक कैंपन भी चलाया. इस दौरान वो कई जगह भीड़ को ये बता रहा था कि बाबरी मस्जिद मामले में उनके समुदाय के साथ न्याय नहीं हुआ.>>आरोप है कि पिछले कुछ समय से शरजील नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहा था. दावा है कि शरजील CAA के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान जेएनयू, जामिया और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में भी दिखा.

ये भी पढ़ें:

चीन में कोरोनावायरस का कोहराम, वुहान के बाद कई और शहरों की नाकेबंदी

चीन में कोरोनावायरस का कोहराम, वुहान के बाद कई और शहरों की नाकेबंदी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 25, 2020, 3:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर