Home /News /nation /

कोविड के खात्मे के लिए जल्द नेजल स्प्रे के लिए जरिए दी जाएगी वैक्सीन, WHO भी तैयार

कोविड के खात्मे के लिए जल्द नेजल स्प्रे के लिए जरिए दी जाएगी वैक्सीन, WHO भी तैयार

 कोरोना वैक्सीन लगवाने वाले सामान्य लोगों और कोरोना पीडि़तों पर की गई स्टडी. (प्रतीकात्मक फोटो-shutterstock.com)

कोरोना वैक्सीन लगवाने वाले सामान्य लोगों और कोरोना पीडि़तों पर की गई स्टडी. (प्रतीकात्मक फोटो-shutterstock.com)

Nasal sprays and oral doses COVID-19 vaccines: स्वामीनाथन ने नेजल स्प्रे से होने वाले लाभों की चर्चा करते हुए बताया कि कई देशों में इन्फ्लुएंजा वैक्सीन को इस तरह से लिया जाता है. उन्होंने बताया की अगर इसका उपयोग किया जाए तो लोकल स्तर पर ही वायरस की रोकथाम हो सकेगी मसलन नेजल स्प्रे के जरिए वायरस को फेफड़ों में पहुंच कर दिक्कत खड़ी करने से पहले ही रोका जा सकेगा.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के प्रमुख वैज्ञानिक ने कोविड-19 टीकाकरण (Covid-19 Vaccination) के सेकेंड जनरेशन के लिए उत्साह प्रकट करते हुए नेजल स्प्रे (नाक से दी जाने वाली दवा) और ओरल (मुंह से दी जाने वाली) वैक्सनी में अपनी रुचि जाहिर की है. सौम्या स्वामीनाथन के अनुसार इस तरह की वैक्सीन कई मायनों में फायदेमंद हैं एक तो इसे इन्जेक्शन की तुलना में लगाना आसान होगा, दूसरा इसे खुद भी लिया जा सकता है. स्वामीनाथन के मुताबिक 129 वैक्सीन उम्मीदवारों ने क्लीनिकल ट्रायल की तरफ रुख किया है वहीं 194 और हैं जो अभी शोध में हैं और उन पर प्रयोगशाला में काम चल रहा है.

    विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक सोशल मीडिया चैनल पर उन्होंने बताया कि “तकनीक कि एक पूरी श्रंखला को इसमें शामिल किया गया है. हालांकि ये अभी भी विकसित की जा रही है, लेकिन मुझे भरोसा है कि इनमें से कुछ खुद को बहुत सुरक्षित, प्रभावशाली साबित करेंगी. सेकेंड जनरेशन वैक्सीन के अपने फायदे हैं, स्पष्ट हैं अगर ओरल वैक्सीन या इंट्रा नेजल वैक्सीन है तो यह इन्जेक्शन की तुलना में आसानी से दी जा सकती है. खास बात यह है कि हम उनमें से सबसे उपयुक्त जो भी होगा उसे चुनने में सक्षम होंगे.”

    ये भी पढ़ें- दूसरे डोज के बाद कब ले सकते हैं कोविड बूस्टर, भारत बायोटेक के एमडी ने बताई ये जरूरी बात

    दूसरे संक्रमण की रोकथाम के लिए कर सकते हैं इस प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल
    अगर कोविड-19 के लिए नहीं हुआ तो हम इस प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल भविष्य में होने वाले दूसरे संक्रमण की रोकथाम के लिए कर सकते हैं. स्वामीनाथन ने नेजल स्प्रे से होने वाले लाभों की चर्चा करते हुए बताया कि कई देशों में इन्फ्लुएंजा वैक्सीन को इस तरह से लिया जाता है. उन्होंने बताया की अगर इसका उपयोग किया जाए तो लोकल स्तर पर ही वायरस की रोकथाम हो सकेगी मसलन नेजल स्प्रे के जरिए वायरस को फेफड़ों में पहुंच कर दिक्कत खड़ी करने से पहले ही रोका जा सकेगा.

    केवल 7 कोविड-19 वैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने आपातकालीन इस्तेमाल के लिए अधिकृत किया है, ये वैक्सीन फाइजर, बायोएनटेक, मॉडर्ना, एस्ट्राजेनका, जॉनसन एंड जॉनसन, सिनोफार्म, सिनोवेक और हाल ही में भारत बायोटेक ने विकसित की है.

    Tags: Corona vaccine, Corona Vaccine Update, World Health Organization

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर