कोविड 19 वैक्‍सीन की वैश्विक उपलब्‍धता में भारत अहम भूमिका निभाएगा: WHO

कोविड 19 वैक्‍सीन की वैश्विक उपलब्‍धता में भारत अहम भूमिका निभाएगा: WHO
डब्‍ल्‍यूएचओ ने दिया रिएक्‍शन.

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) की साउथ ईस्‍ट एशिया की डायरेक्‍टर पूनम खेत्रपाल सिंह का कहना है कि भारत सबसे बड़े निर्माताओं में से एक है और इसे दुनिया की फार्मेसी कहा जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 29, 2020, 11:38 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश-दुनिया में इस समय कोरोना वायरस (Coronavirus) जमकर हावी है. सभी बड़े देश इसकी वैक्‍सीन विकसित करने में जुटे हैं. इनमें भारत भी है. लेकिन अहम सवाल यह भी है कि वैक्‍सीन (Covid 19 Vaccine) विकसित होने के बाद उसे वैश्विक स्‍तर पर किस तरह से उपलब्‍ध कराया जाएगा. इस पर सीएनएन न्‍यूज18 ने बात की विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) की साउथ ईस्‍ट एशिया की डायरेक्‍टर पूनम खेत्रपाल सिंह से. उनका कहना है कि कोरोना वायरस संक्रमण की वैक्‍सीन बनने के बाद उसकी वैश्विक स्‍तर पर उपलब्‍धता को लेकर भारत अहम भूमिका निभाएगा.

दुनियाभर में वैक्‍सीन उपलब्‍ध कराए जाने की व्‍यवस्‍था पर डब्‍ल्‍यूएचओ की साउथ ईस्‍ट एशिया की डायरेक्‍टर पूनम खेत्रपाल सिंह ने कहा कि कोविड 19 वैक्सीन के बड़े विविध विभागों के प्रबंधन के लिए COVAX स्थापित किया गया है, जो कि कोरोना वायरस के टीके के विकास और उचित आवंटन सुनिश्चित करने के लिए विकास के अधीन हैं.

COVAX सुविधा एक ऐसा तंत्र है जो दुनिया भर में कोविड 19 टीकों के लिए तेजी से निष्पक्ष और न्यायसंगत पहुंच सुनिश्चित करने के लिए डिजाइन है. मांग के पूल को आपूर्ति के पूल से जोड़कर यह देशों को एक व्यापक पोर्टफोलियो तक पहुंचने की अनुमति देगा और निर्माताओं को एक मांग वाले सुरक्षित बाजार तक पहुंचने की अनुमति देगा. सभी देशों को इस सुविधा में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया जा रहा है. यह सुविधा 2021 के अंत तक सभी भाग लेने वाले देशों में जनसंख्या समूहों को प्राथमिकता देने के लिए दो अरब खुराक देने का लक्ष्य रखती है. WHO सभी देशों और लोगों के साथ टीके और ड्रग्स साझा करने के लिए देशों की वकालत करता रहेगा.



उन्‍होंने कहा कि भारत सबसे बड़े निर्माताओं में से एक है और इसे दुनिया की फार्मेसी कहा जाता है. निस्संदेह, भारत को वैश्विक स्तर पर कोविड 19 वैक्सीन उपलब्ध कराने में भूमिका निभानी होगी. भारत कोरोना महामारी से निपटने के लिए अटूट प्रतिबद्धता का प्रदर्शन करता रहा है. भारत अस्पतालों को तैयार करने और उनका निर्माण करना, डॉक्टरों को प्रशिक्षित करना, परीक्षण करना, चिकित्सा आवश्यकताओं की खरीद कर रहा है. देश स्थानीय क्षमताओं का दोहन कर रहा है और महत्वपूर्ण चिकित्सा आपूर्ति के उत्पादन में तेजी ला रहा है.

देश की आबादी, आकार और निरंतर आवश्यकता को देखते हुए बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए यह एक महत्वपूर्ण और प्रशंसनीय विकास रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading