• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • बदल गए एयर क्वालिटी इंडेक्स के मानक, जानें किन देशों पर होगा सबसे ज्यादा असर

बदल गए एयर क्वालिटी इंडेक्स के मानक, जानें किन देशों पर होगा सबसे ज्यादा असर

पंजाब में पराली जलाने की घटनाओं के मद्देनजर दिल्ली में स्मॉग संकट गहरा सकता है. (सांकेतिक तस्वीर)

पंजाब में पराली जलाने की घटनाओं के मद्देनजर दिल्ली में स्मॉग संकट गहरा सकता है. (सांकेतिक तस्वीर)

WHO की गाइडलाइंस में स्पष्ट तौर पर बताया गया है कि प्रदूषित हवा का मानवीय स्वास्थ्य पर कितना बुरा प्रभाव होता है. इसी के मद्देनजर प्रदूषण के मानकों को सख्त किया गया है. WHO के मुखिया टेडरॉस अधानोम गेब्रेयेसुस ने कहा है-वायु प्रदूषण दुनिया के सभी देशों में स्वास्थ्य के लिए बड़ा खतरा है लेकिन इसका सर्वाधिक असर गरीब-मध्यम आय वाले देशों पर पड़ता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने ग्लोबल एयर क्वालिटी इंडेक्स (Global AQI Index) की गाइडलाइंस में बदलाव किए हैं. वैश्विक संगठन ने सार्वजनिक स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए अब मानकों को और सख्त कर दिया है. WHO की गाइडलाइंस में स्पष्ट तौर पर बताया गया है कि प्रदूषित हवा का मानवीय स्वास्थ्य पर कितना बुरा प्रभाव होता है. इसी के मद्देनजर प्रदूषण के मानकों को सख्त किया गया है.

    विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुखिया टेडरॉस अधानोम गेब्रेयेसुस ने कहा-वायु प्रदूषण दुनिया के सभी देशों में स्वास्थ्य के लिए बड़ा खतरा है. लेकिन इसका सर्वाधिक असर गरीब और मध्यम आय वाले देशों पर पड़ता है. नई गाइडलाइंस वैज्ञानिक साक्ष्यों के आधार पर तय की गई हैं. मैं सभी देशों से आग्रह करता हूं कि इनका पालन कर वो सार्वजनिक स्वास्थ्य की रक्षा करें.

    नई गाइडलाइंस के मुताबिक ये हैं नए मानक
    नई गाइडलाइंस के मुताबिक सालाना PM2.5 का औसत 5 ug/m3 होना चाहिए. इससे पहले 2005 में ये सीमा 10 ug/m3 की गई थी. वहीं PM10 का सालाना औसत 15 ug/m3 कर दिया गया है जो पहले 20 ug/m3 था.

    दिल्ली-एनसीआर में इस साल गहरा सकता है स्मॉग संकट
    इससे पहले न्यूज़18 ने रिपोर्ट की है कि इस साल स्मॉग संकट फिर गहरा सकता है. हर साल का सबसे बड़ा संकट बन चुके इस प्रदूषण को लेकर पंजाब के खेतों में जलने वाली पराली को जिम्‍मेदार ठहराया जाता है. पिछले साल पंजाब में धान की पराली को खेतों में ही जला देने के मामलों में 44 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई थी. वहीं विशेषज्ञों की मानें तो इस साल पंजाब सरकार की ओर से पराली जलाने पर रोक लगाई गई है लेकिन इंतजाम नाकाफी होने के चलते इस साल भी दिल्‍ली-एनसीआर में प्रदूषण गहराने की आशंका है.

    भारत में 2009 में हुआ था आखिरी बार बदलाव
    भारत में राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता मानकों में 2009 में आखिरी बार बदलाव किया गया था. भारत में तय मानक विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानकों की तुलना में काफी नर्म हैं. हिंदुस्तान टाइम्स पर प्रकाशित एक रिपोर्ट में एक्सपर्ट ने कहा है भारत को अपने वायु गणवत्ता मानकों में बदलाव करना चाहिए.

    अगर नए मानकों से तुलना की जाए तो 2020 में दुनिया के 100 बड़े शहरों में से 92 वायु गुणवत्ता सूचकांक WHO के नए मानक से ज्यादा है. इनमें पांच भारतीय शहर भी शामिल हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज