Home /News /nation /

बच्चों को वैक्सीन के बूस्टर डोज की जरूरत होगी? WHO की चीफ साइंटिस्ट ने दिया जवाब

बच्चों को वैक्सीन के बूस्टर डोज की जरूरत होगी? WHO की चीफ साइंटिस्ट ने दिया जवाब

बच्चों का कोरोना वैक्सीनेशन (फाइल फोटो)

बच्चों का कोरोना वैक्सीनेशन (फाइल फोटो)

WHO top scientist reacts on vaccine booster dose: अमेरिका, जर्मनी और इजरायल समेत कुछ देशों में कोरोना महामारी से बचाव के लिए सरकारें बच्चों को कोरोना वैक्सीन का बूस्टर डोज दे रही है. हालांकि र्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की टॉप साइंटिस्ट डॉ सौम्या विश्वनाथन ने कहा कि इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि स्वस्थ बच्चों और किशोरों को वैक्सीन का बूस्टर डोज देने की आवश्यकता होगी.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली: दुनिया के कई देशों में ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) के कारण कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) पर नियंत्रण पाने के लिए कोविड-19 वैक्सीन के बूस्टर डोज (Covid-19 Vaccine Booster Dose) पर तैयारी चल रही है. इस बीच वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) की टॉप साइंटिस्ट डॉ सौम्या विश्वनाथन ने कहा कि इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि स्वस्थ बच्चों और किशोरों को वैक्सीन का बूस्टर डोज देने की आवश्यकता होगी. ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर उन्होंने कहा कि जरूरी नहीं है कि हर वेरिएंट को ध्यान में रखते हुए टीकाकरण में बदलाव किया जाए.

बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान डॉ सौम्या विश्वनाथन ने कहा कि, फिलहाल इस बात का कोई सबूत नहीं है कि स्वस्थ बच्चों और किशोरों को कोरोना वैक्सीन के बूस्टर डोज की जरूरत होगी. दरअसल विश्व स्वास्थ्य संगठन की शीर्ष डॉक्टर का यह बयान उस वक्त आया है जब अमेरिका, जर्मनी और इजरायल जैसे देशों ने बच्चों को बूस्टर डोज देने की शुरुआत कर दी है.

जबकि भारत में इस महीने की शुरुआत में 15 से 18 वर्ष के बच्चों के कोरोना वैक्सीनेशन की शुरुआत हुई है. वहीं अमेरिका में फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने 12 से 15 वर्ष के बच्चों के लिए फाइजर और बायोएनटेक की कोविड-19 वैक्सीन को बूस्टर डोज के तौर पर इस्तेमाल करने की मंजूरी दे दी है.

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस की गंभीरता को कम कर सकता है ओमिक्रॉन, नई रिसर्च में खुलासा

अमेरिका जैसे विकसित देशों में बच्चों को वैक्सीन का बूस्टर डोज दिया जा रहा है वहीं दूसरी ओर वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने इस बात से सहमत नहीं है कि आबादी के कमजोर समूह से जुड़े लोगों को बूस्टर डोज की आवश्यकता नहीं है. डॉ सौम्या विश्वनाथन ने कहा कि इस सप्ताह के आखिरी में जाने-माने शिक्षाविदों का एक समूह इस विषय पर चर्चा करेगा कि सरकारों को वैक्सीन के बूस्टर डोज पर फिर से विचार करना चाहिए.

डॉ सौम्या विश्वनाथन ने कहा कि बूस्टर डोज का मुख्य उद्देश्य उस कमजोर वर्ग के लोगों को कोविड-19 से सुरक्षा प्रदान करने की है. जिनमें गंभीर बीमारियों और मौत से जुड़ा खतरा ज्यादा है. बुजुर्ग आबादी के साथ-साथ हेल्थ वर्कर भी इसमें शामिल हैं.

Tags: Booster Dose, Coronavirus, Omicron

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर