चीन की दूसरी कोरोना वैक्सीन को WHO की मंजूरी, 60+ वालों पर बहुत कम ट्रायल

चीन की नई वैक्सीन को मंजूरी. (सांकेतिक तस्वीर)

चीन की नई वैक्सीन को मंजूरी. (सांकेतिक तस्वीर)

Sinovac-CoronaVac नाम की इस वैक्सीन को बीजिंग की एक फार्मा कंपनी ने बनाया है. वैक्सीन के बारे में जानकारी दी गई है कि इसे 18 साल के ऊपर के लोग ले सकते हैं. हालांकि 60 साल के ऊपर के बहुत कम लोगों को क्लीनिकल ट्रायल में शामिल किया गया.

  • Share this:

नई दिल्ली. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने चीन की दूसरी वैक्सीन को भी मंजूरी दे दी है. Sinovac-CoronaVac नाम की इस वैक्सीन को बीजिंग की एक फार्मा कंपनी ने बनाया है. वैक्सीन के बारे में जानकारी दी गई है कि इसे 18 साल के ऊपर के लोग ले सकते हैं. हालांकि 60 साल के ऊपर के बहुत कम लोगों को क्लीनिकल ट्रायल में शामिल किया गया. इस वैक्सीन के दो डोज 2-4 हफ़्तों के अंतराल पर लेने होंगे.

इस वैक्सीन को इमरजेंसी यूज की अनुमति दिए जाने के बाद WHO ने कहा है-दुनिया को बहुत बेसब्री के साथ कई कोरोना वैक्सीन का इंतजार है. जिससे वैश्विक रूप से लोगों को तक वैक्सीन पहुंचाई जा सके. हम वैक्सीन उत्पादकों से कहना चाहते हैं कि वो कोवैक्स फैसिलिटी में भागीदारी निभाएं.

मई महीने की शुरुआत में चीन की पहली वैक्सीन Sinopharm को मिली थी मंजूरी

इससे पहले मई महीने की शुरुआत में चीन की पहली वैक्सीन Sinopharm को भी इमरजेंसी यूज की अनुमति दे दी गई थी. चीन के कोविड रोधी टीके का विनिर्माण सिनोफार्म कंपनी ने किया है. सिनोफार्म ने टीके और इसके प्रभाव से संबंधित ब्योरे के बारे में ज्यादा जानकारी साझा नहीं की है.
चीनी अधिकारी ने उठाए थे सवाल

कुछ समय पहले चीन के शीर्ष रोग नियंत्रण अधिकारी ने कहा था कि देश के कोरोना वायरस संक्रमण रोधी टीके कम असरदार हैं और सरकार इन्हें और अधिक प्रभावी बनाने पर विचार कर रही है. चीन के रोग नियंत्रण केन्द्र (सीडीसी) के निदेशक गाओ फू ने कहा था कि चीन के टीकों में ‘बचाव दर बहुत ज्यादा नहीं है.’ गाओ का यह बयान ऐसे वक्त में सामने आया जब चीन ने अन्य देशों को टीकों की करोड़ों खुराकें दी हैं और पश्चिमी देशों के टीकों के प्रभावी होने पर संशय पैदा करने और बढ़ावा देने की भी वह लगातार कोशिश कर रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज