Home /News /nation /

WHO की चेतावनी : मौजूदा कोरोना वैक्सीन का बूस्टर डोज काफी नहीं, अपग्रेड करना होगा

WHO की चेतावनी : मौजूदा कोरोना वैक्सीन का बूस्टर डोज काफी नहीं, अपग्रेड करना होगा

प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो

WHO Alert on Covid-19 : कोविड-19 पर डब्ल्यूएचओ के सलाहकार समूह (WHO’s Advisory Group on Covid-19) ने इस वक्त दुनिया में मौजूद 19 कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) अच्छी हैं. ये लोगों को गंभीर रूप से बीमार होने से बचा रही हैं. लेकिन इनके बावजूद कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron) लोगों को संक्रमित कर रहा है. इसका मतलब है कि वैक्सीन को अभी लगातार अपग्रेड करने की जरूरत है.

अधिक पढ़ें ...

Covid-19. कोरेाना (Corona) के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron) की वजह से दुनिया के तमाम देशों में संक्रमण बढ़ रहा है. इसके साथ जिन देशों में लोगों को वैक्सीन (Vaccine) की दोनों खुराकें लिए 6-8 महीने से ज्याद हो गया है, वहां बूस्टर डोज (Booster Dose) लगाने-लगवाने का क्रम भी तेज है. हालांकि इसी बीच, बूस्टर डोज के सिलसिले में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने एक चेतावनी जारी की है. इसमें कहा है कि मौजूदा कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) का बूस्टर डोज (Booster Dose) काफी नहीं है. इसे जल्द नई परिस्थितियों के मुताबिक अपग्रेड करना होगा.

ये भी पढ़ें: Omicron Coronavirus Live Updates: दिल्ली में जनवरी 2022 के 12 दिनों में कोरोना संक्रमण से 133 लोगों की मौत

कोविड-19 पर WHO के सलाहकार समूह (WHO’s Advisory Group on Covid-19) ने इस वक्त दुनिया में मौजूद 19 कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) अच्छी हैं. ये लोगों को गंभीर रूप से बीमार होने से बचा रही हैं. लेकिन इनके बावजूद कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron) लोगों को संक्रमित कर रहा है. इसका मतलब है कि वैक्सीन को अभी लगातार अपग्रेड करने की जरूरत है. उसके मुताबिक, अपग्रेडेशन इस तरह का होना चाहिए कि वैक्सीन का असर लंबे समय तक रहे और बार-बार बूस्टर डोज (Booster Dose) की जरूरत न पड़े. विशेषज्ञों ने वैक्सीन निर्माताओं से आग्रह किया है कि वे यह विशिष्ट जानकारी और आंकड़े उपलब्ध कराएं कि उनके टीके ने ओमिक्रॉन (Omicron Specific Data) पर कैसा असर दिखाया है.

वैक्सीन को चकमा दे रहा ओमिक्रॉन, इसलिए फाइजर ने टीके में किया सुधार

विशेषज्ञों के मुताबिक ओमिक्रॉन (Omicron) न सिर्फ पूरी दुनिया में तेजी से फैल रहा है, बल्कि यह वैक्सीन सुरक्षा को भी चकमा दे रहा है. लगातार हो रहे अध्ययनों से इसकी पुष्टि हुई है. सीएनबीसी (CNBC) के मुताबिक इन शोध अध्ययनों को ध्यान में रखते हुए फाइजर (Pfizer) ने अपनी वैक्सीन (Vaccine) में सुधार भी किया है. फाइजर (Pfizer) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अल्बर्ट बॉरला ने इसी हफ्ते बताया है कि उनकी कंपनी ने ओमिक्रॉन (Omicron) को ध्यान में रखते हुए अपनी वैक्सीन (Vaccine) में परिवर्तन कर लिए हैं. बहुत संभव है कि मार्च तक वैक्सीन (Vaccine) का बेहतर संस्करण (Upgrade Version) उपयोग के लिए उपलब्ध हो जाएगा.

वैक्सीन असंतुन : गरीब देशों के सिर्फ 11% लोगों को लगा टीका

डब्ल्यूएचओ (WHO) ने वैक्सीन वितरण (Vaccine Distribution) में असंतुलन की तरफ भी फिर ध्यान दिलाया. साथ ही इसे दूर करने का आग्रह किया. संगठन की ओर से बताया गया कि अब तक अमीर देशों की लगभग 67% आबादी को कोरोना का टीका लग चुका है. कम से उन्हें एक खुराक तो मिल ही चुकी है. लेकिन गरीब देशों की 11% आबादी का ही टीकाकरण (Vaccination) हो पाया है. यानी वहां अभी बड़ी आबादी टीके की पहली खुराक के लिए इंतजार कर रहे हैं. इससे नए तथा ज्यादा खतरनाक कोरोना वेरिएंट (Covid-19 Variant) उभरने का खतरा अभी बना हुआ है.

Tags: Corona Virus, Omicron, WHO

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर