लाइव टीवी

WHO ने कहा- 70 हजार लोगों की जान ले चुके कोरोना वायरस से बचने के लिए सिर्फ मास्क पहनना विकल्प नहीं

News18Hindi
Updated: April 6, 2020, 11:48 PM IST
WHO ने कहा- 70 हजार लोगों की जान ले चुके कोरोना वायरस से बचने के लिए सिर्फ मास्क पहनना विकल्प नहीं
डब्ल्यूएचओ (WHO) ने कहा कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ लड़ाई में जनता को मास्क पहनने के लिए तब कहा जाता है कि जब हाथ धोने और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे अन्य उपाय मुश्किल होते हैं.

डब्ल्यूएचओ (WHO) ने कहा कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ लड़ाई में जनता को मास्क पहनने के लिए तब कहा जाता है कि जब हाथ धोने और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे अन्य उपाय मुश्किल होते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 6, 2020, 11:48 PM IST
  • Share this:
जेनेवा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) ने सोमवार को चेतावनी दी कि 70 हजार लोगों की मौत का कारण बन चुकी वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus) को मात देने के लिए सिर्फ मास्क पहनना ही काफी नहीं है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के डायरेक्टर जनरल टेड्रोस अदनोम गेब्रेयसस वर्चुअल (WHO director-general Tedros Adhanom Ghebreyesus) न्यूज़ कॉन्फ्रेंस में कहा कि मास्क को सिर्फ बचाव के एक व्यापक पैकेज के भाग के रूप में देखा जाना चाहिए. इसका कोई साफ उत्तर नहीं है और न ही यह कोई सिल्वर बुलेट है जो कि तुरंत राहत दे सकती है. उन्होंने जोर देकर कहा कि मास्क अकेले कोविड-19 महामारी को नहीं रोक सकता है.

ऐसी जगहों पर मास्क लगाना है जरूरी
डब्ल्यूएचओ (WHO) ने कहा कि वायरस के खिलाफ लड़ाई में जनता को मास्क पहनने के लिए तब कहा जाता है कि जब हाथ धोने और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे अन्य उपाय मुश्किल होते हैं.



ट्रेडोस ने आगे कहा कि ऐसी जगहें जहां पानी की कमी है और रहने की जगह भी तंग है, वहां हाथ धोना और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे उपाय मुश्किल हैं, वह देश अपने समुदायों में मास्क पहनने का सुझाव दे सकते हैं.



वैज्ञानिकों के दावों का किया खंडन
टेड्रोस ने हाल ही में वैज्ञानिकों द्वारा की गई टिप्पणियों को लेकर गुस्सा जाहिर किया है और नस्लवादी करार दिया गया है जिसमें कहा गया कि कोरोना वायरस की वैक्सीन का टेस्ट अफ्रीका में किया जाना चाहिए. उन्होंने इस विचार को "औपनिवेशिक मानसिकता" का हैंगओवर बताया.

उन्होंने कहा कि अफ्रीका कभी भी किसी वैक्सीन के लिए न तो टेस्टिंग ग्राउंड है और न ही होगा. हम पूरी दुनिया में किसी भी वैक्सीन के टेस्ट के लिए नियमों का पूरी तरह से पालन करेंगे फिर वो चाहे यूरोप हो, अफ्रीका हो या कोई और देश हो.

दुनिया में 70,000 से ज्यादा मौतें
बता दें कि कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण से अभी तक दुनिया भर में 70 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें से अकेले यूरोप (Europe) में 50 हजार से ज्यादा मौत हुई है. कोविड-19 (Covid-19) से सबसे ज्यादा 15,877 मौत इटली (Italy) में हुई है. जबकि स्पेन (Spain) में 13,055, अमेरिका (America) में 9,648 और फ्रांस (France) में 8,078 लोगों की मौत कोरोना वायरस संक्रमण से हुई है.

ये भी पढ़ें-
PM मोदी और बहरीन के राजा ने कोरोना संकट पर की चर्चा, कहा- दोनों देश साथ

एक संक्रमित व्यक्ति से निकलकर हवा में कितनी दूर तक जाता है कोरोना का वायरस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 6, 2020, 11:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading