होम /न्यूज /राष्ट्र /राजस्थान में कौन करेगा कांग्रेस सरकार का नेतृत्व? गहलोत के जवाब ने बढ़ाई पायलट की टेंशन!

राजस्थान में कौन करेगा कांग्रेस सरकार का नेतृत्व? गहलोत के जवाब ने बढ़ाई पायलट की टेंशन!

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लड़ेंगे कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव....

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लड़ेंगे कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव....

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को साफ कर दिया कि वह पार्टी के कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ेंगे. कोच ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

कोच्चि. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashol Gehlot)  ने शुक्रवार को साफ कर दिया कि वह पार्टी के कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ेंगे. कोच्चि में भारत जोड़ो यात्रा में हिस्सा लेने पहुंचे गहलोत ने कहा कि उन्होंने कहा कि चुनाव के नतीजे चाहे जो भी हों, एकजुट होकर काम करना और यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि पार्टी एक मजबूत विपक्षी दल के रूप में उभरे. राजस्थान सरकार का नेतृत्व उनके बाद कौन करेगा, इस पर गहलोत ने जो बयान दिया, उससे पायलट कैंप में टेंशन जरूर बढ़ गई. कांग्रेस सांसद शशि थरूर के कांग्रेस के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने की अटकलों पर गहलोत ने कहा कि ‘कांग्रेस के अन्य मित्र’ भी चुनाव लड़ सकते हैं, लेकिन पार्टी में एकता और सभी स्तरों पर संगठन को मजबूत करना सबसे ज्यादा मायने रखता है.

पत्रकारों ने जब गहलोत से पूछा कि चुनाव जीतने की सूरत में राजस्थान में उनके बाद बाद कांग्रेस सरकार का नेतृत्व कौन करेगा तो उन्होंने इस सवाल के जवाब में कहा, ‘मौजूदा पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और राजस्थान में पार्टी मामलों के प्रभारी अजय माकन इस संबंध में फैसला लेंगे.’

गहलोत से यह भी पूछा गया कि क्या राजस्थान में उनके उत्तराधिकारी के चयन में उनकी कोई भूमिका होगी, जवाब में उन्होंने कहा, ‘मैं कोच्चि में खड़ा होकर यह नहीं कह सकता. राजस्थान में पार्टी मामलों के प्रभारी अजय माकन और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी राजस्थान में संबंधित घटनाक्रमों और यह कब किया जाना है, इस पर फैसला लेंगे.’


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज शिर्डी भी पहुंचे और साईं बाबा के दर्शन किए. यहां पत्रकारों ने जब उनसे दोनों पदों (कांग्रेस अध्य्क्ष और सीएम पद) से जुड़ा सवाल पूछा तो उन्होंने कहा, ‘यह बात बेबुनियाद है. मीडिया की ओर से बहस छेड़ी जा रही है. पहले कहा जा रहा था कि मैं सीएम पद नहीं छोड़ना चाहता. जब तक तय नहीं था कि मैं अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ रहा हूं, तब तक कोई क्या बोलेगा. मैं अध्य्क्ष बनने की बात यही कहूंगा कि राजस्थान में जहां से मेरा ताल्लुक है, जिस गांव में मैं पैदा हुआ हूं, वहां की सेवा जिंदगीभर करता रहूंगा. यह कहने में क्या हर्ज है. उसका लोग अलग-अलग अर्थ निकाल लेते हैं.’
Dwarka Expressway: देश का पहला अर्बन एक्सप्रेस-वे, कई मायनों में अनूठा; जानिए कब तक होगा चालू?

उन्होंने आगे कहा, ‘अभी मेरे नामांकन की डेट तय नहीं हुई है. पार्टी की सेवा मुझे करनी है. पार्टी ने मुझे पिछले 40 साल में बहुत कुछ दिया है. तीन बार केंद्रीय मंत्री, तीन बार एआईसीसी का महामंत्री, तीन बार राजस्थान कांग्रेस का अध्य्क्ष और तीन बार मुख्यमंत्री बनाया है. अब मेरे लिए पद महत्व नहीं रखता.’

इधर, राजस्थान में गहलोत कैंप पायलट की राहें मुश्किल करने की तैयारी में जुटा है.  गहलोत कैंप पायलट के सामने राजस्थान के वरिष्ठ नेताओं के नाम आगे बढ़ा सकता है, जिसमें विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी का प्रमुख रूप से शामिल है.

(इनपुट भाषा से भी) 

Tags: Ashok gehlot, Ashok Gehlot Vs Sachin Pilot, Sachin pilot

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें