अमित शाह के बाद अब कौन बनेगा BJP अध्यक्ष? सामने आए ये दो नाम

जेपी नड्डा रेस में इसलिए आगे हैं क्योंकि उनके चुनाव प्रभारी रहते हुए बीजेपी ने यूपी में एक बार फिर से बड़ी जीत हासिल की. इसके बाद जब उन्हें मोदी सरकार में मंत्री नहीं बनाया गया तो संदेश साफ था कि वो इस रेस में हैं.

अमिताभ सिन्हा | News18Hindi
Updated: June 3, 2019, 7:29 PM IST
अमित शाह के बाद अब कौन बनेगा BJP अध्यक्ष? सामने आए ये दो नाम
अमित शाह के बाद कौन होगा बीजेपी का राष्ट्रीय अध्यक्ष
अमिताभ सिन्हा
अमिताभ सिन्हा | News18Hindi
Updated: June 3, 2019, 7:29 PM IST
कौन बनेगा बीजेपी अध्यक्ष? अमित शाह के खाली किए सिंहासन पर आखिर कौन बैठेगा?  ये वो सवाल हैं जो बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के मोदी सरकार में गृहमंत्री बनने के बाद दिन-रात चर्चा का विषय बने हुए हैं. सूत्रों के हवाले से खबर है कि बीजेपी केंद्रीय नेतृत्व आने वाले एक सप्ताह में एक कार्यकारी अध्यक्ष के नाम की घोषणा कर सकता है.

बीजेपी के संविधान के अनुसार नए पार्टी अध्यक्ष का चुनाव या नियुक्ति देशभर के सभी राज्यों के पचास प्रतिशत में संगठन के चुनाव होने के बाद ही हो सकता है. 2019 के लोकसभा चुनाव के कारण पार्टी ने सितंबर 2018 में पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में तय किया कि संगठन और नए अध्यक्ष के चुनाव और नियुक्ति को लोकसभा चुनावों तक स्थगित किया जाए. अब अध्यक्ष पद के चुनाव का समय आ गया है. अमित शाह के गृह मंत्री का पद संभालने के बाद आलाकमान को जल्द से जल्द ये काम पूरा करना है.

जब तक देशभर के पचास फीसदी से ज्यादा राज्यों में संगठन के चुनाव नहीं कराए जाते हैं तब तक के लिए पार्टी कार्यकारी अध्यक्ष के नाम की घोषणा कर सकती है. सूत्रों की माने तो कार्यकारी अध्यक्ष ही पार्टी का नया अध्यक्ष भी बनेगा. मतलब साफ है कि कार्यकारी अध्यक्ष की नियुक्ति के जरिए पार्टी संगठन में ये संदेश चला जाएगा कि अमित शाह के बाद पार्टी का अगला अध्यक्ष कौन होगा. माना जा रहा हैं कि जेपी नड्डा या फिर भूपेन्द्र यादव में से किसी एक के नाम पर अध्यक्ष की मुहर लग सकती है.

इसके बाद जुलाई या फिर अगस्त में संसद सत्र समाप्त होने के बाद बीजेपी राष्ट्रीय परिषद की बैठक होगी. पार्टी दोबारा बहुमत से जीत कर सत्ता में आई है, इसलिए इस बैठक को और भव्य बनाने की तैयारी है. वैसे आलाकमान इस बार अपनी बैठक बंगाल में करने की भी सोच रहा है, जहां 2021 में विधानसभा चुनाव होने हैं.

सूत्रों की माने तो जेपी नड्डा रेस में सबसे आगे हैं. जेपी नड्डा रेस में इसलिए आगे हैं क्योंकि उनके चुनाव प्रभारी रहते हुए बीजेपी ने यूपी में एक बार फिर से बड़ी जीत हासिल की. इसके बाद जब उन्हें मोदी सरकार में मंत्री नहीं बनाया गया तो संदेश साफ था कि वो इस रेस में हैं. नड्डा पार्टी की लाइन पर खामोशी से अपना काम निबटाने वाले नेता हैं, जिन्हें संघ से लेकर बीजेपी आलाकमान का समर्थन प्राप्त है.

ये भी पढ़ें: जेपी नड्डा बन सकते हैं बीजेपी के अगले अध्यक्ष, मोदी कैबिनेट में नहीं मिली जगह

जेपी नड्डा फिलहाल पार्टी की सबसे शक्तिशाली संसदीय बोर्ड और केंद्रीय चुनाव समिति के सचिव हैं. नड्डा फरवरी 2010 से नवम्बर 2014 तक नितिन गडकरी, राजनाथ सिंह और अमित शाह के साथ पार्टी के महासचिव के रूप में काम कर चुके हैं. वे 1991 में पार्टी के वरिष्ठ नेता मुरली मनहोर जोशी के अध्यक्ष काल में बीजेपी युवा मोर्चा के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. इसके अलावा वे हिमाचल प्रदेश की सरकार में कैबिनेट मंत्री भी रह चुके हैं.
Loading...

दूसरी तरफ बीजेपी महासचिव भूपेन्द्र यादव वर्तमान बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के करीबी माने जाते हैं. इस चुनाव में बिहार और गुजरात के प्रभारी के नाते उनका प्रदर्शन तारीफ के काबिल रहा. जेपी नड्डा, भूपेन्द्र यादव की अपनी अपनी क्षमताओं के हिसाब से दावेदारी बनती है, लेकिन अंतिम फैसला पीएम मोदी और अमित शाह को लेना है. अब देखना है कि संघ की हां और ना भी बहुत बड़ा महत्व रखती है या नही?

ये भी पढ़ें: 'संकटमोचक' जेपी नड्डा बनाए जा सकते हैं BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष!

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
First published: June 3, 2019, 5:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...