अमित शाह का यही अंदाज बनाता है उनको दूसरों से अलग

इसके पहले कांग्रेस की सरकार रही हो या बीजेपी की अलगाववादी दिल्ली से आने वाले किसी नेता का दौरा कश्मीर में शांतिपूर्ण तरीके से नहीं होने देते थे.

Anil Rai | News18Hindi
Updated: June 28, 2019, 4:59 AM IST
अमित शाह का यही अंदाज बनाता है उनको दूसरों से अलग
इसके पहले कांग्रेस की सरकार रही हो या बीजेपी की अलगाववादी दिल्ली से आने वाले किसी नेता का दौरा कश्मीर में शांतिपूर्ण तरीके से नहीं होने देते थे.
Anil Rai
Anil Rai | News18Hindi
Updated: June 28, 2019, 4:59 AM IST
भारत के किसी गृह मंत्री का कश्मीर दौरा इतनी शांति से निपटा हो ये शायद किसी को याद नहीं है. देश का गृह मंत्री कश्मीर के दौरे पर हो और वहां किसी तरह का विरोध प्रदर्शन नहीं हो रहा है, ऐसी तस्वीरें मीडिया में कम ही आती हैं.

कश्मीर में केंद्र सरकार के मंत्रियों के दौरे के रिकॉर्ड को खंगालें तो पिछल 30 साल में किसी गृह मंत्री का ये पहला दौरा है, जिस दौरान किसी भी अलगाववादी संगठन ने किसी तरह का बंद नहीं बुलाया हो. अमित शाह ने अपने दौरे के पहले ही संकेत दे दिया था कि सरकार कश्मीर में आतंकवाद के मुद्दे पर सख्ती से निपटेगी. साथ ही अलगावादियों के दबाव के आगे नहीं झुकेगी. शायद इसका ही असर था कि लगातार बंद का ऐलान कर सरकार को दबाव में लाने वाले अलगाववादी संगठन इस बार बैकफुट पर नजर आए. इसके पहले कांग्रेस की सरकार रही हो या बीजेपी की, अलगाववादी दिल्ली से आने वाले किसी नेता का दौरा कश्मीर में शांतिपूर्ण तरीके से नहीं होने देते थे.

अमित शाह के विरोध से डरे अलगाववादी
दरअसल, राज्य में राष्ट्रपति शासन लगने के बाद से ही केंद्र सरकार ने अलगाववादियों पर शिकंजा कस लिया. अलगाववादियों पर एनआईए, इनकम टैक्स, ईडी जैसी केंद्रीय एजेंसियों ने ताबड़तोड़ छापेमारी कर उनकी कमर तोड़ दी. शब्बीर शाह और यासीन मलिक जैसे अलगाववादी नेताओं के जेल जाने और मीरवाइज से एनआईए की पूछताछ के बाद अलगाववादी डरे हुए हैं.

शाह का आतंकवाद पर कड़ा रुख
अमित शाह ने जब से देश के गृह मंत्री के रूप में कमान संभाली है तब से आतंकवाद के प्रति उनका रुख काफी कड़ा रहा है. अमित शाह ने ख़ासकर कश्मीर के प्रति सख्त रुख अख्तियार कर रखा है. शाह के गृह मंत्रालय की कमान संभालने के बाद केंद्रीय एजेंसियों ने आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी है. ऐसे में अलगाववादी जानते हैं कि अगर इस समय किसी तरह का विरोध-प्रदर्शन हुआ तो उसका गंभीर परिणाम भुगतना होगा. यही वो सबसे बड़ा कारण रहा जिसके कारण कश्मीर में कोई विरोध प्रदर्शन नहीं हुआ.

ये भी पढ़ें-
Loading...

कश्मीरी युवाओं को आतंकवाद से बचाने के लिए ये है शाह का प्लान

30 साल में पहली बार गृहमंत्री के दौरे पर नहीं बुलाया गया बंद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 28, 2019, 4:59 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...