होम /न्यूज /राष्ट्र /

कुमार विश्वास और अलका लांबा पर पंजाब में क्यों दर्ज हुई FIR? जानिए इसकी वजह

कुमार विश्वास और अलका लांबा पर पंजाब में क्यों दर्ज हुई FIR? जानिए इसकी वजह

कवि डॉ. कुमार विश्वास, कांग्रेस नेत्री अलका लांबा. (File Pic)

कवि डॉ. कुमार विश्वास, कांग्रेस नेत्री अलका लांबा. (File Pic)

पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान ये दोनों आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आलोचना करने में काफी मुखर रहे थे. अब आप को उस घटनाक्रम की ओर ले चलते हैं जब विश्वास ने पंजाब विधानसभा चुनावों से पहले एक वीडियो पोस्ट किया था, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि अरविंद केजरीवाल 2017 में राज्य में सत्ता हथियाने के लिए खालिस्तान समर्थक आतंकवादियों के साथ सहानुभूति रखने वालों से मिलते थे.

अधिक पढ़ें ...

चंडीगढ़: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ बयानबाजी करने के मामले में पंजाब के रोपड़ जिले (रूपनगर) में हिंदी के मशहूर कवि डॉ. कुमार विश्वास और कांग्रेस नेत्री अलका लांबा पर एफआईआर दर्ज हुई है. इस सिलसिले में बुधवार को पंजाब पुलिस की टीमें कुमार विश्वास और अलका लांबा के घर पहुंची थीं. डॉ. विश्वास गाजियाबाद में और लांबा दिल्ली में रहती हैं. दोनों ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी. अब आरोप लग रहे हैं कि आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल दिल्ली में बैठकर पंजाब में सरकार चला रहे हैं. भगवंत मान कठपुतली मुख्यमंत्री बनकर रह गए हैं.

सवाल उठ रहा कि पंजाब की आम आदमी पार्टी सरकार को अरविंद केजरीवाल के खिलाफ हुई बयानबाजी के मामले में राज्य पुलिस को क्यों इन्वॉल्व कर रही है. मुख्यमंत्री भगवंत मान को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के विरोधियों पर पंजाब में एफआईआर दर्ज करने की इजाजत क्यों देनी पड़ी? कुमार विश्वास और अलका लांबा को पंजाब पुलिस जांच में शामिल होने का नोटिस थमा कर गई है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि डॉ. कुमार ​विश्वास आम आदमी के संस्थानक सदस्य रहे हैं, वहीं अलका लांबा आम आदमी पार्टी की विधायक रह चुकी हैं.

पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान ये दोनों आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आलोचना करने में काफी मुखर रहे थे. अब आप को उस घटनाक्रम की ओर ले चलते हैं जब विश्वास ने पंजाब विधानसभा चुनावों से पहले एक वीडियो पोस्ट किया था, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि अरविंद केजरीवाल 2017 में राज्य में सत्ता हथियाने के लिए खालिस्तान समर्थक आतंकवादियों के साथ सहानुभूति रखने वालों से मिलते थे. डॉ. विश्वास ने यह भी कहा कि अरविंद केजरीवाल खुद पंजाब के मुख्यमंत्री बनना चाहते थे. इस दौरान अरविंद केजरीवाल ने आरोपों पर पलटवार करते हुए खुद को स्वीट आतंकी बताया था, जो शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार के लिए काम करता है.

अरविंद केजरीवाल को हो गया था एनआईए जांच का अंदेशा
पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर अरविंद केजरीवाल पर कुमार विश्वास के आरोपों की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की थी. अरविंद केजरीवाल ने उस दौरान आशंका जाहिर करते हुए कहा था, ‘एक अधिकारी ने मुझसे कहा कि अगले एक-दो दिनों में एनआईए मेरे खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करेगी. ऐसी सभी प्राथमिकियों का स्वागत है, लेकिन यदि सरकार इस तरीके से केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल करती है तो यह चिंता का विषय है.’ राजनीतिक विशेषज्ञों की मानें तो इस साल दिसंबरमें हिमाचल प्रदेश और गुजरात में चुनाव होने वाले हैं. आतंकवादियों से सहानुभूति के मुद्दे पर भाजपा का राष्ट्रवाद अरविंद केजरीवाल का पीछा छोड़ने वाला नहीं था. इससे पहले केंद्र सरकार इस मामले में कुछ करती, पंजाब सरकार ने अरविंद केजरीवाल को पाक साफ बताने की योजना के तहत डॉ. विश्वास और अलका लांबा पर यह कार्रवाई की है.

पंजाब पुलिस ने शिकायतकर्ता का नाम नहीं किया सार्वजनिक
दिलचस्प बात यह है कि पुलिस ने बार-बार पूछताछ के बावजूद शिकायतकर्ता के नाम का खुलासा करने से इनकार कर दिया. एफआईआर दर्ज होने के 10 दिन बाद भी पुलिस की वेबसाइट पर उसकी कॉपी अपलोड नहीं की गई है. आईपीसी की धाराओं 153 (दंगा भड़काने के इरादे से उकसाना), 153ए (विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना), 505 (सार्वजनिक शरारत के लिए उकसाने वाले बयान), 505 (2), 116 आर/डब्ल्यू 143 (गैरकानूनी सभा), 147 (दंगा करने का दोषी), 323 (स्वेच्छा से चोट पहुंचाना), 341 (गलत संयम), आईपीसी की 120-बी (आपराधिक साजिश) और 125 लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के खिलाफ 12 अप्रैल को रोपड़ सदर थाने में डॉ. कुमार विश्वास और अलका लांबा के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. दोनों से जांच के लिए 26 अप्रैल को सुबह 10 बजे सदर थाने में पुलिस अधीक्षक (इंवेस्टिगेशन) एचएस अटवाल के नेतृत्व में 3 सदस्यीय एसआईटी के समक्ष व्यक्तिगत रूप से पेश होने को कहा गया है.

Tags: Alka Lamba, Arvind kejriwal, Kumar vishwas

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर